मां को जिसने भी भगवान का दर्जा दिया है कुछ सोच-समझ कर ही दिया होगा. मां के भी आठ हाथ होते हैं तभी तो वह घर की देखरेख करती है, पति और बच्चों का ख्याल रखती है, बाहर के काम निपटाती है और तो और सबकी जरूरतों को पूरा भी करती है. आजकल मांए अपने नन्हे-मुन्नों की परवरिश और देखभाल के तरीकों को दूसरी नई माओं से भी ब्लॉग्गिंग और वीडियोज जरिये बांटने लगी हैं जिससे उन्हें वो मदद मिलती है जिसके अभाव में वे अक्सर बच्चों के पालन-पोषण में चूक जाती हैं. इन्हें हम ममफ्लुएंसर कहते हैं. गृहलक्ष्मी और टिंगालैंड ने ऐसी ही सुपरमॉम्स को Tinga Mumfluencers Award 2021 में अवार्ड से नवाजा है.

सुपरमॉम्स ने की शिरकत

ममफ्लुएंसर अवार्ड्स में उन सुपरमोम्स ने हिस्सा लिया जो मां होने के साथ-साथ सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर भी हैं. टिंगालैंड की ओनर वंदना वर्मा का कहना है कि वे इन महिलाओं से बेहद प्रभावित हैं और इसलिए वे इन्हें एक प्लेटफॉर्म देना चाहती थीं. गृहलक्ष्मी इस अनूठे अवार्ड्स में टिंगालैंड की पार्टनर पत्रिका थी और इसने ममफ्लुएंसर्स को एकजुट करने में अपना योगदान भी दिया. साथ ही, ब्रेड एंड मोर, क्वालिटी केटरिंग, कनेक्ट विथ स्ट्रोंग मॉम्स, डायमंड टून्स और क्राफ्टेरा पार्टनर रहे जिन्होंने पूरे इवेंट को सक्सेफुल कराने में अहम भूमिका निभाई.

मुख्य चीफ गेस्ट के तौर पर पहली महिला आईपीएस रहीं डा. किरण बेदी आईं जिन्हें देखकर सभी उमंग और प्रेरणा से भर गए. वहीं, भारत की पहली मोम इन्फ्लुएंसर हरप्रीत सूरी ने भी इवेंट में शिरकत की जिनका साथ दिया चाइल्ड यूट्यूबर अनंत्या आनद ने. सभी ने मिलकर समा बांध दिया था.

सभी ने एन्जॉय किया मी-टाइम

टिंगालैंड में बच्चों को लाने का मतलब है माओं का मी-टाइम, क्यूंकि बच्चे पूरा समय खेलने में मगन रहते हैं और उनकी मम्मी चैन से अपना मी-टाइम एन्जॉय कर सकती हैं. टिंगा ममफ्लुएंसर अवार्ड्स में माएं अपने प्यारे बच्चों को लेकर आईं जहां बच्चे खेलने में व्यस्त थे और उनकी माएं इवेंट का आनंद लेने में. सभी ने एंकर नम्रता सहरावत के साथ खूब मस्ती की. फ्रूट सैलेड और व्हाट्स इन माय बैग गेम्स, नाचने-गाने और सेल्फी लेने के साथ-साथ सभी ने हंसी-ठिठोली भी खूब की.

पेरेंटिंग पर हुई खास बातचीत

सुपरमॉम्स एक साथ हों और पैरेंटिंग पर बातचीत न हो ऐसा कैसा हो सकता है. किरण बेदी से बातचीत करना अपने-आप में सौभाग्य है. उसपर उनसे परवरिश और बच्चों पर सवाल कर पाना सचमुच किसी को भी रोमांच से भर सकता है. ममफ्लुएंसर्स ने अपने मन की कई बातें किरण बेदी से शेयर कीं और कुछ टिप्स भी मांगीं. एक ममफ्लुएंसर के यह पूछने पर कि “बच्चों की देखभाल और आपके कामकाजी होने को लेकर आप को समाज ने ताने दिए होंगे, क्या इससे आपके बच्चे, आपकी परवरिश और आप पर कुछ असर पड़ा?”  इसपर किरण जवाब देती हैं, “आप सोसाइटी के लिए जीते हो या सोसाइटी आपके लिए जीती है? अपनेआप से पहले पूछो कि जो मैं कर रही हूं क्या वो सही है? ठीक है? नैतिक है? सच है? सही है? मेरे कैरेक्टर के अनुसार है? मेरी क्षमता में है? मेरे बच्चे के लिए सही है? अगर हाँ, तो समाज को मारो गोली. आपको सोसाइटी की आवश्यकता नहीं है अगर आप में हिम्मत है अपना रास्ता बनाने की.” ये सुनते ही पूरा हॉल तालियों की गूंज से भर गया.  

हरप्रीत सूरी से सवाल करने पर कि उनकी पैरेंटिंग तकनीक क्या है तो वे कहती हैं, “मैं भी आपकी ही तरह हूं, पैरेंटिंग का कोई फार्मूला नहीं होता. हर घर अलग होता है. सभी अपने अनुभव से हर चीज सीखते हैं. जैसे मेरी परवरिश बहुत अलग हुई थी वैसे ही अब मेरे बेटे की भी परवरिश बहुत अलग है. जनरेशन गैप को समझना जरूरी है.” हरप्रीत इंस्टाग्राम पर वेरिफाइड ममफ्लुएंसर हैं और उनके एक लाख से ज्यादा फोल्लोवर्स हैं. हरप्रीत ने इस क्षेत्र में न सिर्फ अपना नाम बनाया है बल्कि उनके जैसी अनेक ममफ्लुएंसर्स के लिए राह भी बनाई है.

चाइल्ड इन्फ्लुएंसर अनंत्या  का सफर

छोटी सी अनंत्या  के लाखों की संख्या में यूट्यूब और इंस्टाग्राम पर फैन्स हैं और सभी उनसे जानना चाहते हैं कि आखिर वह अपनी पढ़ाई और खेलकूद के बीच कंटेंट शूट करना कैसे मैनेज करती हैं. अनंत्या  का कहना है, “मैं वीकेंड्स में वीडियो बनाती हूं और बाकि दिन पढ़ाई करती हूं.” अनंत्या  बताती हैं कि वह वीडियोज बनाना खूब एन्जॉय करती हैं क्यूंकि टीम के साथ उन्हें मजा आता है, सब उन्हें खूब हंसाते भी हैं. यह सवाल करने पर कि क्या मम्मी वीडियो बनाने पर डांटती हैं, तो अनंत्या  जवाब देती हैं, “डांटती नहीं हैं, वो मुझे वीडियो बनाने के लिए प्रोत्साहित भी करती हैं और पढ़ाई पर जोर भी देती हैं.”

अनंत्या  ने वीडियो बनाने की शुरुआत अपनी बुआ की वीडियोज देखकर की और आज उनके यूट्यूब पर 1.24 करोड़ सब्सक्राइबर्स हैं और इंस्टाग्राम पर 5 लाख से ज्यादा फोल्लोवर्स हैं.

ममफ्लुएंसर्स ने बताईं अन्दर की बातें

इंस्टाग्राम पर कंटेंट डालना, ब्लॉग्गिंग करना और साथ-साथ बच्चों को संभालना चुनौतियों भरा है और उसपर घर और अपना निजी जीवन भी संभालना होता है. इसपर किस तरह ये माएं सब मैनेज करती हैं ये उनसे ही जानते हैं.

ममफ्लुएंसर सोनिका अग्रवाल ने बताया, “मेरी दो बेटियां हैं. कभी-कभी सब मैनेज करना मुश्किल हो जाता है. लेकिन, जब बच्चे सो जाते हैं तो अपने मी-टाइम में मैं अगले दिन की प्लानिंग कर लेती हूं.” सोनिया खन्ना कहती हैं, “मैंने धीरे-धीरे अपनी शुरुआत की. मुझे और मेरे बेटे दोनों को वीडियो बनाने में मजा आता है. लेकिन, जिस पल उसने नखरे दिखाना शुरू किया तब सब-कुछ मुश्किल होने लगता है, वरना तो कोई दिक्कत नहीं होती. अपना रूटीन बना लेने से सब आसान हो जाता है.” स्मृति ओब्रोय बताती हैं, “मेरी बेटी 8 साल की है और उसे मेरे साथ वीडियो बनाने में बहुत मजा आता है. आपको बस अपना समय निकालना होता है बाकि सब आसन होता जाता है.”

बेस्ट ममफ्लुएंसर्स को मिले अवार्ड्स   

Tinga Mumfluencers Award 2021 में पैरेंटिंग कैटेगरी में विजेता रहीं पायल दीवान और फर्स्ट और सेकंड रन्नर-अप बनीं शिवांगी शर्मा और मृदुला खन्ना. वहीं, बर्थडे कैटेगरी में सोनल को विजेता, रितिका बागरी को फर्स्ट और प्रीति चौहान को सेकंड रन्नर-अप का टाइटल मिला. तीसरी और आखिरी कैटेगरी प्ले की थी जिसमें गुर्निश कौर, निकिता और मिराया अग्रवाल का क्रमानुसार विजेता, फर्स्ट और सेकंड रन्नर-अप घोषित किया गया. सभी को तीनों चीफ गेस्ट्स के हाथों ट्रॉफी और सर्टिफिकेट दिए गए.

Leave a comment