sabyasachi mangalsutra controversy

आजकल हर कोई सब्यसाची की दुल्हन बनना चाहता है। फैशन और ज्वैलरी डिजाइनर सब्यसाची अपने डिजाइनर साड़ियों के लिए बेहद फेमस हो गए हैं। प्रियंका से लेकर अनुष्का तक ने अपनी शादी में सब्यसाची के​ डिजाइन की हुई ड्रेस पहनी थी। लेकिन यही सब्यसाची आजकल अपने नए मंगलसूत्र एड को लेकर नेताओं के निशाने पर चढ़ गए हैं। मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा की चेतावनी के बाद सब्यसाची ने अपना एड हटा लिया है।

इंस्टाग्राम पर सब्यसाची ने एक बयान जारी किया और खास वर्ग की भावनाओं को आहत करने के लिए माफी मांगी है। विज्ञापन को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से हटा लिया गया है।

सब्यसाची के मुताबिक, वेडिंग सीजन में मंगलसूत्र कैम्पेन का मकसद भारतीय संस्कृति और धरोहर की विस्तृत रूप से चर्चा करना था। इस अभियान का मकसद सेलिब्रेशन था और हमें इस बात का गहरा दुख है कि इससे हमारे समाज के एक वर्ग की भावनाएं आहत हुई हैं।

दरअसल, सब्सयाची के नए मंगलसूत्र एड में एक प्लस साइज फीमेल मॉडल मंगलसूत्र के साथ लॉन्जरी पहनी हुई थी तो वहीं मेल मॉडल शर्टलेस था। लोगों ने कहा कि ये कंडोम का विज्ञापन लग रहा है। सोशल मीडिया पर लोगों ने सब्यसाची के इस ऐड पर नाराजगी जताते हुए कहा कि विज्ञापन हिंदू संस्कृति पर हमला है और धार्मिक भावनाओं का आहत करता है। एक यूज़र ने तो यहां तक लिखा दिया कि अब कोई भी इस जूलरी को नहीं पहनेगा। कृप्या विज्ञापन बनाते समय ध्यान रखें।

दुल्हन के लिए मंगलसूत्र बेहद अहम होता है, इसे सुहाग ​की निशानी माना जाता है। आजकल दुल्हन अपनी पसंद का ही मंगलसूत्र पहनना पसंद करती है। मंगलसूत्र पहनना नई दुल्हन को पसंद भी होता है। ये ऐसी ज्वेलरी है, जिसका ट्रेंड कभी खत्म होने वाला नहीं है। बताया जाता है कि मंगलसूत्र पति-पत्नी के रिश्ते को मजबूत भी करता है। इसे सौभाग्यशाली महिलाओं का सर्वोच्च श्रृगांर माना जाता है। अमूमन मंगलसूत्र काले और गोल्डन कलर में ही होते हैं। गोल्डन उर्जा का प्रवाहक माना जाता है तो वहीं काला मोती बुरी नजरों से बचाता है।

Leave a comment