googlenews
इन वजहों से देखें फिल्म: Monica O My Darling Review
Monica O My Darling Review

Monica O My Darling Review: नेटफ्लिक्स पर रिलीज फिल्म “मोनिका ओ माई डार्लिंग’ की पब्लिसिटी उतनी नहीं की गई, जितनी अमूमन फिल्मों की जाती है। फिर एक दिन अचानक पता चलता है कि राजकुमार राव की फिल्म रिलीज हो चुकी है। अब चूंकि हम राजकुमार राव की एक्टिंग के इतने बड़े प्रशंसक हैं, तो भला फिल्म कैसे नहीं देखी जाएगी। तो, हमने भी फिल्म देख ली और फिल्म को देखकर हमें 5 कारण समझ आए, जिनकी वजह से यह फिल्म देखने लायक है। 

1. इस फिल्म की जो सबसे अच्छी बात है, वो यह कि फिल्म सिर्फ 2 घंटे और 10 मिनट की है। यानी कि फिल्म छोटी है, जो कि अमूमन दर्शक देखना चाहते हैं। एक अन्य अच्छी बात यह है फिल्म में गाने तो हैं ही लेकिन गानों के साथ फिल्म भी आगे बढ़ती जाती है। यानी कि गाने बोर करने के लिए नहीं हैं। 

2. फिल्म में राजकुमार राव के साथ राधिका आप्टे, हुमा कुरेशी और सिकंदर खेर जैसे बेहतरीन कलाकार हैं। इस स्टार कास्ट को चाहे जितना भी बुरा प्लॉट दे दिया जाए, ये कुछ न कुछ कमाल दिखा ही जाते हैं। फिल्म में आलिया भट्ट की बेस्ट फ्रेंड आकांक्षा रंजन कपूर भी दिखाई दे रही हैं, जो राजकुमार राव की गर्ल फ्रेंड की भूमिका में हैं। 

3. फिल्म एक कॉमेडी थ्रिलर है, जिसे देखकर मजा आ जाता है। कहानी मोनिका मचाड़ो यानी हुमा कुरेशी के इर्द-गिर्द घूमती है, जो फिल्म के तीन किरदारों से यह कहती है कि उसके पेट में पल रहा बच्चा उनका है। इस तीन किरदारों में से एक किरदार राजकुमार राव का है। राकुमार राव ने इस फिल्म में जयंत अरखेडकर का रोल किया है, जो एक रोबोटिक्स एक्सपर्ट है। राधिका आप्टे ने डीसीपी की भूमिका निभाई है। और सिकंदर खेर राजकुमार राव के होने वाले साले की भूमिका में हैं।

4. फिल्म “मोनिका ओ माई डार्लिंग” जापानी उपन्यास “बुरुटासु नो शिंजो” पर आधारित है, जिसे कीगो हिगाशिनो ने लिखा है। इस फिल्म में सस्पेन्स तरहिलर के सारे इंग्रेडिएंट्स हैं लेकिन फिल्म को सही तरीके से आगे नहीं बढ़ाया गया है। फिल्म का पहला हिस्सा तो बढ़िया है लेकिन इंटर्वल के बाद फिल्म बिना किसी लॉजिक के आगे बढ़ती हुई नजर आती है। 

5. फिल्म में मुख्य कहानी के साथ और भी कहानियां चलती हैं, जो कुछ समय बाद दर्शकों को कन्फ्यूज कर देती है। दर्शक सोच नहीं पाते हैं कि भला किस कहानी पर ध्यान केंद्रित करें और किस पर नहीं। एक समय के बाद फिल्म किस दिशा में जा रही है, इसका सहज अनुमान लगाया जा सकता है। यह समझ नहीं आता है कि इस फिल्म को लिखते समय और निर्देशित करते समय लेखक और निर्देशक क्या सोच रहे थे। फिल्म की कहानी की परतें इतनी आसानी से खुलती जा रही थीं, कि अनुमान लगाना बहुत आसान होता गया। 

6. राजकुमार राव इस बार पूरे फॉर्म में नजर आए और राधिका आप्टे के साथ हुमा कुरेशी ने भी बेहतरीन काम किया। सिकंदर खेर और आकांक्षा रंजन कपूर को जितनी स्पेस मिली, उन दोनों ने भी अच्छी एक्टिंग की। 

7. फिल्म का अंत कुछ ऐसा है कि दर्शकों को उसका अनुमान लगाने के लिए छोड़ दिया गया है। इससे दर्शक कन्फ्यूज भी हो सकते हैं। कुल मिलाकर फिल्म ‘मोनिका ओ माई डार्लिंग’ एक फैमिली इन्टरटेनर है, जिसे एक बार तो जरूर देखा जा सकता है। 

Leave a comment