googlenews

skin

जिसे दैनिक आहार योजना में शामिल कर अत्यधिक स्वास्थ्य लाभों का आनंद उठाया जा सकता हैं। टमाटर में प्रचुर मात्रा में विटामिन ए, सी और के है। इसके अलावा इसमें फोलेट और पोटेशियम, नियासिन, विटामिन बी 6, मैग्नीशियम, फास्फोरस और ताँबा जैसे तत्व भी सम्मलित हैं, जो अच्छे स्वास्थ्य के निर्माण के लिए आवश्यक हैं। सलाद, सैंडविच, सब्जियों के लिए ग्रेवी, सॉस और सूप में शामिल होने वाले टमाटर के फायदों पर डालते हैं, एक नज़र।
वज़न कम करने में मददगार
टमाटर में ढ़ेर सारा पानी और फाईबर होता है। जो खाने से बिना कैलोरी और फैट बढ़ाए भूख आसानी से शांत हो जाती है। रोज़ाना दो गिलास टमाटर का जूस पीने से आप आसानी से वज़न कम कर सकते हैं।  
त्वचा निखारे
टमाटर में लाइकोपीन नामक एक एंटीऑक्सिडेंट सम्मिलित होता है, जो त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों की क्षति से बचाता है। इसके अलावा, चेहरे पर रोम छिद्रों को कम करने के लिए टमाटर का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह मुँहासे और चकत्ते या मामूली जलने के निशान के इलाज में भी मदद कर सकता है। इसके अलावा त्वचा पर टमाटर के गूदे को रगड़ना त्वचा को पुनर्जीवित करने का एक आसान तरीका है। 
हड्डियों को बनाए मजबूत 
टमाटर विटामिन के और कैल्शियम की उपस्थिति के कारण हड्डियों के लिए एक उत्कृष्ट आहार है। दोनों ही तत्व हड्डियों को मजबूत बनाने और उनकी मरम्मत करने के लिए लाभदायक होते हैं। इसमें निहित लाइकोपीन नामक एंटी-ऑक्सिडेंट भी हड्डियों के द्रव्यमान को बेहतर बनाने के लिए जाना जाता है, जो ऑस्टियोपोरोसिस से लड़ने का एक प्रभावी तरीका है। 
बालों की समस्याओं पर लगाए रोक
टमाटर खाने से बालों को पोषण प्राप्त हेाता है। दरअसल, टमाटर में पाया जाने वाले विटामिन बालों को मज़बूत और चमकदार बनाता है। 
मोतियाबिंद के जोखिम को करे कम
टमाटर में विटामिन सी और ए की उच्च मात्रा आपके दृष्टि में सुधार करने में मदद कर सकती है और रात के अंधेपन को भी रोकती है। टमाटर मोतियाबिंद के विकास के जोखिम को भी कम कर सकते हैं। इसके अलावा, टमाटर में फाइटोकैमिकल एंटीऑक्सिडेंट्स जेक्सैथिन, ल्यूटिन और लाइकोपीन होते हैं। यह सभी यौगिक आंखों की रोशनी को किसी भी प्रकार की क्षति पहुंचने से बचाते हैं।
कैंसर के खतरे को करे कम
फेफड़े, पेट, ग्रीवा, मुँह, ग्रसनी, गले, अन्नप्रणाली, कोलन, गुदा और डिम्बग्रंथि के कैंसर जैसे अन्य कैंसर के जोखिम में टमाटर के सेवन से कमी आ सकती है। टमाटर के इस स्वास्थ्य लाभ का मुख्य श्रेय इसमें निहित लाइकोपीन नामक एक एंटी-ऑक्सीडेंट को जाता है। जब टमाटर को जैतून के तेल के माध्यम से पकाया जाता है तो इसके कैंसर-विरोधी गुणों के लाभ को और भी अधिक किया जा सकता है।
बेहतर नींद का उपाय
टमाटर में विटामिन सी भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है और अपने दैनिक आहार में विटामिन सी के उच्च स्तर को शामिल करना, शान्तिप्रदायक नींद को बढ़ावा दे सकता है। इस स्थ्तिि को सुधारने के लिए टमाटर सूप या टमाटर युक्त सलाद खाने का प्रयास करें।
उच्च रक्तचाप को करे कम
आहार में पोटेशियम की कमी होने पर रक्तचाप बढ़ सकता है, ताजा टमाटर का सिर्फ एक कप पोटेशियम की आपकी दैनिक आवश्यकता का 11.4 प्रतिशत होता है। अधिक टमाटर का सेवन करना उच्च रक्तचाप से लड़ने और विभिन्न हृदय स्थितियों के जोखिम को कम करने का एक शानदार तरीका है।
हृदय रोग के जोखिम से बचाए
टमाटर में लाइकोपीन, विटामिन ए और सी, फाइबर और कैरोटीनॉयड जैसी शक्तिशाली पोषक तत्व होते हैं, जो हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए मिलकर काम करते हैं।
पुराने दर्द को करे कम
एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट्स की मौजूदगी के कारण टमाटर पुराने दर्द को कम कर सकते हैं। नियमित रूप से हल्के से मध्यम दर्द महसूस करने वाले लोग अक्सर सूजन का शिकार बन जाते हैं। ऐसे में टमाटर में निहित गुण सूजन व जलन को कम कर आपको बार बार होने वाले दर्द से राहत प्रदान करते हैं।
घरेलू नुस्खे
पेट में कीड़े हो तो टमाटर के टुकडों पर या रस में काली मिर्च का पाउडर और सेंधा नमक डालकर खाएं।
दांतों में खून की समस्या का अनुभव होते ही रोजाना दो सौ ग्राम टमाटर का रस सुबह-शाम पीने से बहुत लाभ होता है। यह स्कर्वी रोग में सहायक है।
भोजन के प्रति अरूचि होने या  भूख न लगने की स्थिति में टमाटर के दो सौ ग्राम रस में अदरक का रस और नींबू का रस मिलाकर पीने से भूख अधिक लगती है।
टमाटर खाने से न केवल मुंह के छाले दूर होते हैं बल्कि कब्ज की समस्या भी दूर होती है।
छोटे बच्चों में आंखों की ज्योति में क्षीणता अनुभव होने पर उन्हें टमाटर खिलाना चाहिए। टमाटरों में विटामिन ए होता है जो आंखों की ज्योति को विकसित करता है।
पके टमाटरों का रस रोजाना पिलाने से बच्चों के नाक से नकसीर की समस्या दूर होती है।
पके टमाटरों का रस, सुबह-शाम पीने से गर्मियों में निकलने वाले फोड़े-फुंसियों व त्वचा के अन्य विकारों से सुरक्षा होती है।
गर्मियों में अधिक प्यास की विकृति होने पर दो सौ ग्राम टमाटर के रस में दो-तीन लौंग का चूर्ण मिलाकर पीने से बहुत लाभ होता है।
टमाटर के सौ ग्राम रस में पचास ग्राम नारियल का तेल मिलाकर, शरीर पर मलकर कुछ देर बाद स्नान करने से खाज-खुजली से राहत मिलेगी।
मधुमेह रोगी को रोजाना टमाटर का सेवन करना चाहिए। टमाटरों की खटाई शरीर में शर्करा की मात्रा को कम करती है।
टमाटर के नुकसान 
चाहे आप टमाटर को कच्चा खाये या फिर पका हुआ, यह आपको हमेशा बहुत सारे विटामिन, खनिज, आहार फाइबर और एंटीऑक्सिडेंट प्रदान करता है। लेकिन इसके उपभोग के कुछ संभावित नुकसान भी हैं। 
1.  टमाटर में लायकोपिन नामक एक फाइटोकेमिकल पाया जाता है। इस फाइटोकेमिकल का अत्यधिक सेवन हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली की नियमित गतिविधियों में हस्तक्षेप कर सकता है और इसे धीमा कर सकता है। नतीजतन, हमारा शरीर कई सामान्य माइक्रोबियल (बैक्टीरियल, फंगल और वायरल) बीमारियों से खुद को बचाने की क्षमता खो देता है। 
2. टमाटर की लाइकोपीन सामग्री के परिणामस्वरूप इर्रिटेबल आंत्र सिंड्रोम (आई.बीए.स.) जैसे कुछ गंभीर आंतों की समस्याएं हो सकती है।
3. टमाटर के सेवन से गुर्दों में पथरी के निर्माण को प्रोत्साहन मिल सकता है। टमाटर, विशेष रूप से इसके बीज कैल्शियम और ऑक्सालेट यौगिकों में समृद्ध होते हैं। यदि आप पहले से ही गुर्दे की समस्याओं से ग्रस्त है, तो इसके सेवन ना करें।
4. अध्ययनों से पता चला है कि टमाटर के बीज में मौजूद लाइकोपीन पुरुष प्रोस्टेट ग्रंथि में असामान्यताएं पैदा कर सकता है। यह दर्द, पेशाब में कठिनाई का कारक है।
5. टमाटर का लंबी अवधि के लिए लगातार खपत आपकी त्वचा का रंग बदल सकती है। आपकी त्वचा पर नारंगी रंग का थोड़ा सा प्रतिबिम्ब नजर आ सकता है।
टमाटर की खरीददारी
ध्यान दें कि टमाटर ताज़ा हों और उसपर कोई दाग न हो। अगर टमाटर सख्त नहीं है, तो ज्यादा दिन तक आप उन्हें स्टोर नहीं कर पाएंगे। लाल और मुलायम टमाटरों का इस्तेमाल सूप के लिए कर सकते हैं। इसके अलावा पिचके और गंध वाले टमाटर खरीदने से बचंे। जो न सिर्फ सब्जि के स्वाद को बिगाड़ने का काम करता है बल्कि कई तरह की बीमारियों को न्यौता देने में भी समर्थ है। इसके अलावा गर्मी के मौसम में कई बार टमाटर के छिलके पर झुर्रियां नज़र आने लगती है। अगर ऐसे टमाटर आपने खरीद लिए है, तो डरिए मत क्यों की ये खराब टमाटर की निषानी नहीं है। फ्रिज में कुछ दिन रखकर आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।  

यह भी पढ़ें –क्या आप भी ज्यादा पसीने की समस्या से परेशान हैं

आपको हमारे ब्यूटी टिप्स कैसे लगे? अपनी प्रतिक्रियाएं हमें जरूर भेजें। ब्यूटी-मेकअप से जुड़े टिप्स भी आप हमें ई-मेल कर सकते हैं-editor@grehlakshmi.com