googlenews
baby skin
Baby Skin Care: Products made for adults can harm the baby's skin.

Baby Skin Care:

1-बड़ों के लिए बनाए गए उत्पाद बच्चे की त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए इसका पहला गोल्डन रूल यह है कि ऐसे उत्पादों को चुना जाए जो विशेषतौर पर बच्चों के लिए तैयार किये गए हों।

 

2-बड़ों की तुलना में, आपके बच्चे की त्वचा अधिक पतली, नाजुक तथा आसानी से ड्राय हो जाने वाली होती है। ऐसे में बच्चों के लिए बनाए गए उत्पादों में सौम्य क्लींजर्स का उपयोग किया जाना चाहिए। साथ ही यह उत्पाद ऐसे होने चाहिए जो बच्चे की त्वचा की ऊपरी सुरक्षा परत की हिफाजत करते हुए त्वचा के प्राकृतिक संतुलन की भी रक्षा कर सके। बड़ों के लिए बनाए गए उत्पादों में अक्सर परफ्यूम, साबुन और अल्कोहल का प्रयोग किया जाता है, जो बच्चे की त्वचा में खिंचाव और तकलीफ पैदा कर सकती हैं। बच्चों की त्वचा की देखभाल के लिए बनाए गए उत्पादों में खुशबू पैदा करने वाले साधनों का प्रयोग कम से कम होना चाहिए। साथ ही इनमें साबुन या अल्कोहल भी नहीं होना चाहिए। इनमें इत्रयुक्त तेलों से लेकर पौधों के सत्व से बनी प्राकृतिक सुगंध तक शामिल हैं।

3-सबसे पहले उत्पाद के ऊपर लगे लेबल को देखें, जिस पर यह अंकित हो कि यह
उत्पाद माइल्ड है और बच्चों के प्रयोग के लिए है। तीन साल से कम उम्र के बच्चों के लिए तैयार उत्पादों पर उस आयुवर्ग से सम्बंन्धित सुरक्षा बिंदु होने चाहिए।

 

4-बच्चों की त्वचा हलकी सी अम्लीय या एसिडिक परत में लिपटी होती है।इसलिए उनका पीएच स्तर भी मामूली सा अम्लीय होता है। यह परत किसी भी बाहरी नुकसानदायक चीज या बैक्टीरिया के विरुद्ध सुरक्षात्मक परत की भांति काम करती है। साबुन तथा बड़ों के लिए बनाए गए क्लींजर्स व्यवहार में क्षारीय होते हैं और इसलिए वे बच्चों की त्वचा के पीएच संतुलन को बिगाड़ सकते हैं।

5-बड़ों के लिए बने स्किनकेयर या त्वचा की देखभाल के उत्पादों में अल्कोहल का
उपयोग इसलिए होता है ताकि वे जल्दी सूख जाएं और त्वचा पर हलके रहें, लेकिन यही अल्कोहल बच्चों की त्वचा को बहुत रूखा बना सकता है और तकलीफ पैदा कर सकता है। इसलिए बच्चों की त्वचा के उत्पादों में इसका प्रयोग नहीं होना चाहिए। उत्पाद की सामग्री को देखें, अल्कोहल उसमें एथेनॉल
या इथाइल अल्कोहल के तौर पर सूचीबद्ध होगा।

 

6-प्राकृतिक उत्पाद सुनने में सुरक्षित लगते हैं लेकिन हमेशा वे सुरक्षित ही हों ऐसा जरूरी नहीं, उनका परीक्षण भी कम किया जाता है। इसलिए सौम्य, सुगन्धहीन, साबुन रहित, बाथ इमॉलयंट्स तथा इमॉलयंट क्रीम या ऑइंटमेंट को चुनें जो आपके बच्चे की त्वचा की सुरक्षा परत को बनाए रखे और त्वचा को रूखा होने से बचाए। इन उत्पादों को मेडिकल मॉइश्चराइजर के नाम से भी जाना जाता है। आप अपनी बच्ची के शरीर और बालों को इन उत्पादों से धो सकते हैं। अगर आपकी बच्ची को एक्जीमा है और आप उसकी मालिश करना चाहते हैं तो सबसे अच्छा उपाय यह है कि मसाज के दौरान डॉक्टर द्वारा बताई गई क्रीम या इमॉलयंट का प्रयोग उसके शरीर पर हलके से करें, बजाय किसी अन्य उत्पाद के प्रयोग के। यह है कि मसाज के दौरान डॉक्टर द्वारा बताई गई क्रीम या इमॉलयंट का प्रयोग उसके शरीर पर हलके से करें, बजाय किसी अन्य उत्पाद के प्रयोग के।

 

(‘अबाउट फेस’ में डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. सोमा सरकार से बातचीत पर आधारित)

 

ये भी पढ़े-क्या अनदेखा कर रहीं हैं आप