हिबिस्कस के फूल आपको अपने आस.पास जरूर देखने को मिल जाएगा। हेल्थ और ब्यूटी फायदों के साथ हिबिस्कस सबसे अच्छे फूलों में से एक है। यह लाभकारी पोषक तत्वों से भरा होता है जो बालों की हेल्दी ग्रोथ के लिए जरूरी होता है। यह फूल बालों को मजबूती देने के साथ ग्रोथ का बढ़ाने में मदद करता है। साथ ही इसके इस्तेमाल से बालों से संबंधित कई समस्याओं जैसे डैंड्रफ, हेयर फॉल, ड्राईनेस आदि से बचाता है। इसके अलावा बालों में इसका इस्तेमाल से वह इतने मुलायम हो जाते हैं कि उलझते ही नहीं। बालों के लिए गुड़हल एक शक्तिशाली घटक है जो बालों की कई तरह की समस्याओं को ठीक करता है, वो भी हानिकारक प्रभाव के बिना। इसलिए अपने बालों को पोषण और मजबूती देने के लिए आप गुड़हल के फूलों का इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

आइए जानते हैं, इस फूल के फायदे

 

डैंड्रफ और खुजली का इलाज

हिबिस्कस आपको वसामय ग्रंथियों द्वारा तेल स्राव को कम करने और प्राकृतिक एस्ट्रिजेंट की तरह काम करने में मदद करता है। यह स्कैल्प को कूलिंग गुण देता है और ब्लड फ्लो को भी उत्तेजित करता है। एलोवेरा जैल में हिबिस्कस मिलाएं और इसे अपने स्कैल्प पर लगाएं। इसे 15 मिनट के लिए छोड़ दें और डैंड्रफ का इलाज करने के लिए साफ करें।

 

बालों को असमय सफ़ेद होने से रोकता है

हिबिस्कस में बहुत सारे विटामिन्स और एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो मेलेनिन का उत्पादन करता है। यह पिगमेंट बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में मदद करता है। नेचुरल हेयर डाई की प्रक्रिया के लिए हिबिस्कस पाउडर को कभी.कभी मेंहदी के साथ मिलाया जा सकता है। हिबिस्कस का इस्तेमाल करके ग्रे बालों को कवर किया जा सकता है। 1 बड़ा चम्मच हिबिस्कस पाउडर के साथ 1 बड़ा चम्मच आंवला को आधा कप नारियल तेल में मिलाएं। इसे अपने स्कैल्प पर इस्तेमाल करें और इसे धोने से पहले रात भर छोड़ दें।

 

गुड़हल और आंवला पाउडर

गुड़हल के फूल में एमीनो एसिड होते हैं जो बालों को पोषण प्रदान कर उनकी ग्रोथ को बढ़ाते हैं। ये एमीनो एसिड विशेष प्रकार का केराटिन नामक संरचनात्मक प्रोटीन का उत्पादन करते हैं जो कि बालों को मजबूत बनाता है। एक समान मात्रा में गुड़हल पाउडर और आंवला पाउडर लें और पानी में मिक्स कर पेस्ट बनाकर 40 मिनट तक बालों में लगाएं।

 

गुड़हल और एलोवेरा जैल

अगर आप बालों की चमक बढ़ाकर उन्हें नरम और मुलायम बनाना चाहते हैं तो गुड़हल के फूलों के पाउडर और एलोवेरा जैल को मिलाकर पेस्ट बनाएं। इस पेस्ट को हफ्ते में दो बार बालों पर लगाएं। इससे न केवल आपके बाल मुलायम बनेंगे बल्कि मजबूत और घने भी होंगें।

 

तेल के साथ गुड़हल का फूल

बालों को स्वस्थ रखने के लिए गर्म तेल की मालिश फायदेमंद है लेकिन इस तेल में अगर गुड़हल का फूल या पत्तियां मिली हो तो ये आपके बालों के लिए अत्यधिक फायदेमंद है। इसके लिए गुड़हल के फूल को सरसों या नारियल तेल में डालकर रात के समय बालों की मालिश करें और सुबह शैंपू कर लें।

 

मेंहदी के साथ गुड़हल

गुड़हल प्राकृतिक कंडीशनर का काम करता हैए इसे अगर मेहंदी के साथ मिलाकर बालों पर लगाएं तो रूसी की समस्या जड़ से खत्म हो जाती है। अगर आप चाहें तो इसे नींबू के साथ मिलाकर भी लगा सकते हैं।

 

अंडे के साथ मिलाएं गुड़हल के गुण

गुड़हल की पत्तियों को पीसकर इसे अंडे के साथ मिलाएं और बालों को जड़ों में लगाएं। फिर उंगलियों की सहायता से इसे बालों पर लगाएं। ये आपके बालों को सुंदर और काला बनाने में मदद करता है। साथ ही आपके बालों की खोई हुई चमक भी लौटाता हैण्

 

आंवला और गुड़हल का हेयरपैक

बालों को घना बनाने के लिए आप गुड़हल के फूल को आंवले के साथ पीस कर लेप तैयार करें। अब इस लेप को बालों पर लगाएं और थोड़ी देर बाद ठंडे पानी से धो लें। इससे बालों का झड़ना बंद हो जाएगा और बाल काले, घने हो जाएंगे

 

गुड़हल और दही

सामग्री

1 हिबिस्कस का फूल

3.4 हिबिस्कस के पत्ते

4 चम्मच दही

 

उपयोग का तरीका

हिबिस्कस के फूल को पत्तियों के साथ बारीक पीस लें।

इसे दही के साथ मिलाएं और अच्छे से फेंट लें।

इस हेयर मास्क को अपने स्कैल्प और बालों पर लगाएं और लगभग एक घंटे तक लगा रहने दें।

अब गुनगुने पानी से इस मास्क को हटाएं और बालों को शैम्पू करें।

आप इस हेयर मास्क को हफ्ते में एक या दो बार इस्तेमाल कर सकती हैं।

 

कैसे लाभदायक है

यह हेयर मास्क बालों की जड़ों को मजबूत बनाने और बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। यह आपके बालों को मजबूत बनाता है और पोषण भी देता है। दही में मौजूद प्रोटीन बालों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है।

 

गुड़हल और मेथी का एंटी डैंड्रफ हेयर मास्क

सामग्री

हिबिस्कस के कुछ पत्ते

1 बड़ा चम्मच मेथी दाना

1/4 कप छाछ

 

उपयोग का तरीका

मेथी के दानों को रात भर के लिए पानी में भिगो दें।

अगली सुबह बीज और हिबिस्कस के पत्तों को पीसकर एक महीन पेस्ट बना लें।

अब इस पेस्ट में छाछ डालकर अच्छे से मिला लें।

इस पेस्ट को अपने स्कैल्प और बालों पर लगाएं और एक घंटे के लिए छोड़ दें।

मास्क के सूखने के बाद गुनगुने पानी से इसे साफ करें और बालों को शैम्पू करें।

 

कैसे लाभदायक है

गुड़हल डैंड्रफ दूर करने में सहायक है। वहीं, मेथी के बीज में भी एंटी.डैंड्रफ गुण पाए जाते हैं। दरअसल, इसके पेस्ट को स्कैल्प पर लगाने से डैंड्रफ की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। ऐसे में गुड़हल और मेथी दोनों का मिश्रण गहराई से स्कैल्प से डैंड्रफ को हटाने में मदद कर सकता है। संभवत यही वजह है कि मेथी का इस्तेमाल एंटी.डैंड्रफ शैंपू बनाने के लिए भी किया जा सकता है।

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

यह भी पढ़े

गोटू कोला के पत्तों में मौजूद हैं कई लाभकारी गुण