googlenews
तुलसी मंत्र किस तरह रखता है शरीर को निरोग, जानें इसके पीछे का विज्ञान
तुलसी मंत्र किस तरह रखता है शरीर को निरोग, जानें इसके पीछे का विज्ञान

हिंदू धर्म में Tulsi का महत्व काफी पहले से चला आ रहा है। इसके पौधे का इस्तेमाल औषधि रूप में भी किया जाता है। जिससे शरीर निरोगी रहता है। ऐसा कहते हैं कि, Tulsi की जड़ों का शास्त्रों में काफी महत्व है क्योंकि इन जड़ों में भगवान विष्णु का वास होता है। साथ ही ये भी मान्यता है कि जिस घर के आंगन में इसका पौधा होता है, उस घर से नकारात्मकता भी कोसों दूर रहती है। अब जिन्हें इस बात का अंदाजा नहीं है कि तुलसी को क्यों पवित्र माना जाता है? इसकी पूजा-पाठ से कैसे दरिद्रता दूर होती है और शरीर निरोगी होता है? क्या है इसके पीछे का बयान। ये सभी बाते बताएंगे हम इस लेख के जरिये।

तुलसी का महत्व

Basil
Importance of Tulsi
  • इस की कृपा से इंसान निरोगी रहता है। 
  • इस के पौधे की पूजा करना और नियम से जल चढ़ाने मन में सकारात्मकता बनी रहती है और धन की प्राप्ति होती है। 
  • इस का सिर्फ एक पत्ता आपके शरीर की इम्युनिटी बढाने की ताकत रख सकता है।
  • शाम के समय तुलसी के पौधे के आगे रोज तेल का दीपक जलाना चाहिए। इससे घर से दरिद्रता दूर होती है। 

क्यों पूजते हैं पवित्र तुलसी

basil worship
Why is holy tulsi worshipped?

इसके पौधे को मां गंगा की तरह पवित्र माना जाता है। सनातन धर्म के अंतर्गत वैदिक काल से इसके पौधे को विष्णु प्रिया यानि की माता लक्ष्मी का दर्जा दिया गया है। इस का चाहे धार्मिक महत्व हो या शुद्धता का महत्व। कहा जाता है कि इसके पत्ते को सूर्योदय होने के बाद नहीं छूना और तोड़ना चाहिए।

हमारे पुराणों में कहा गया है कि, इसके पत्ते पूरे ग्यारह दिन तक बासी नहीं माने जाते। अगर आप भगवान को इसके पत्ते चढ़ाते हैं तो पूरे ग्यारह दिन आप रोज इसके पत्तों को धोकर फिर से भगवान को चढ़ा सकते हैं। बात धार्मिक ग्रन्थों की करें तो, हर रोज इसकी पूजा करने से और मन्त्र का जाप करने से इंसान को मोक्ष मिलता है। इसलिए इसको हर रोज पूजना चाहिए।

पूजा और मंत्र से रहें निरोगी

worship and mantra
Stay healthy with worship and mantra

‘महाप्रसाद जननी सर्व सौभाग्यवर्धिनी, आधि व्याधि हरा नित्यं तुलसी त्वं नमोस्तुते’ 

  • ये मन्त्र आप तुलसी को छूकर जाप करें। इससे आपकी हर मनोकामना पूरी होती है। तुलसी मन्त्र का जाप करने से पहले आपको कई बातों का ख्याल रखना जरूरी है। 
  • ऐसा माना जाता है कि मंत्र का जाप करने से पहले अपने ईष्टदेव की पूजा जरुर करें। उसके बाद ही मंत्र का जाप करें। 
  • अगर आप निरोगी रहना चाहते हैं, हर रोज सुबह नहाने के बाद पौधे में जल चढ़ाएं और मंत्र का जाप करें। जिससे आप निरोगी भी रहेंगे।

क्या है वैज्ञानिक कारण

Scientific reason
What is scientific reason of tulsi worship?

हर रोज इस पूजन से घर में सुख शांति बरकरार रहती है। वैज्ञानिक नजरिये से देखा जाए तो शरीर को मजबूत करती है। साथ ही इम्युनिटी भी बढ़ाती है और डाईजेशन भी दुरुस्त रखती है। बरहाल अगर आपके घर आंगन में तुलसी का पौधा होगा, तो आप हर रोज इस के पत्तों का इस्तेमाल जरुर करें।

अगर आपको बार-बार सर्दी जुखाम खांसी या फ्लू परेशान करता है तो आपको इससे भी राहत मिलेगी। साथ ही अगर आप किसी पुरानी बिमारी से जूझ रहे हैं तो, उससे उबरने में भी मदद मिलती है। वहीं अगर सन्तान की चाह है तो वो भी पूरी होती है। ये बात विज्ञान में भी प्रमाणित है। 

अगर आप इससे जुड़े इन फायदों और महत्वों को नहीं जानते थे, तो अब इसका पौधा अपने घर में जरुर लगाएं। क्योंकि एक पौधा आपको और आपके पूरे परिवार को निरोगी रखने की ताकत रखता है। साथ ही हर रोज सुबह नहाकर इसको जल चढाएं, मंत का जाप करें, और शाम के समय दिया जलाएं। फिर देखिये कैसे दरिद्रता घर से बाहर जाती है।

Leave a comment