googlenews
Covid 19 : कोविड-19 से लड़ने में मददगार है प्रोटीन से भरपूर डाइट

अगर आप एक कोविड रोगी हैं या कोविड से रीकवर हो रहे हैं तो आपकी इम्युनिटी को बूस्ट-अप करने के लिए सही न्यूट्रिशन जरूरी है और सही न्यूट्रिशन के लिए आपको अपने खाने में खासतौर पर प्रोटीन को शामिल करना जरूरी है।

हम सब अब तक यह जान चुके हैं कि कोविड से हमारा शरीर बेहद कमजोर हो जाता है और रीकवर होते समय भी कुछ ज्यादा बदलाव नहीं आता है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि तेजी से रीकवर करने के लिए सही और प्रोटीन से भरपूर डाइट ली जाए।

रिसर्च और स्टडीज बताते हैं कि रोगी के लिए न्यूट्रिशनल जरूरतों को पूरा करने के लिए शुरुआत 50त्न से करना चाहिए। तीसरे दिन तक इसे 70त्न और धीरे-धीरे बढ़ाते हुए सप्ताह के अंत तक 100त्न कर देना चाहिए। कोविड रोगियों और उनकी देखभाल कर रहे लोगों को यह समझ और स्वीकार कर लेना चाहिए कि नियमित फिजिकल एक्टिविटी और ब्रीदिंग एक्सरसाइज बहुत जरूरी है, लेकिन यह एक सीमा से ज्यादा नहीं, उतना ही करें जितना बर्दाश्त हो सके।

मॉडरेट कार्बोहाइड्रेट, फैट का संतुलित सेवन करें। रोगी की जरूरतों को पूरा करने के लिए ओरल न्यूट्रिशन सप्लीमेंट्स और एंटीऑक्सीडेंट का सेवन जरूरी है। एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन और मिनरल को जरूर डाइट में शामिल करना चाहिए, खास कर विटामिन-सी और विटामिन-डी।

कैसी हो कोविड डाइट

कोविड रोगियों को ऐसे भोजन का सेवन करना चाहिए, जो उनके मसल्स का पुनर्निर्माण करे, इम्युनिटी को दुरुस्त करे और एनर्जी लेवल बनाए रखे। रागी, ओट्स, अमरनाथ कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट के समृद्ध स्रोत हैं इसलिए इन्हें जरूर डाइट में शामिल करें। चिकन, $िफश, अंडे, पनीर, सोया, नट्स और सीड्स में प्रोटीन खूब होते हैं तो इन्हें जरूर खाएं। अखरोट, बादाम, ऑलिव ऑयल, मस्टर्ड ऑयल जैसे हेल्दी फैट्स इन दिनों जरूर खाने चाहिए। इम्युनिटी बढ़ाने के लिए हल्दी वाला दूध बहुत फायदेमंद है, तो रोजाना कम-से-कम एक बार इसे पीना चाहिए।

मौसमी फलों में सभी रंगों के फल खाएं और सब्जियां भी ताकि आपको हर तरह के विटामिन और मिनरल का सही अनुपात मिलता रहे। अपने मूड को ठीक करने के लिए आप कम-से-कम 70त्न कोकोआ युक्त डार्क चॉकलेट खा सकती हैं। इससे आपको एन्जायटी से मुक्ति मिलेगी और आपकी इम्युनिटी भी मजबूत होगी।


अधिकतर कोविड रोगियों का स्वाद और गंध गायब हो जाता है, कइयों को तो निगलने में भी दिक्कत होती है। ऐसे में जरूरी है कि आप जो खा रही हैं, वह सॉफ्ट हो।.

कोविड के बाद थकान हो तो क्या करें

कोविड के बाद अमूमन लोगों को हर समय थकान का अनुभव होता है, शरीर में कमजोरी महसूस होती है। इससे बचने के लिए केला, सेब, संतरा या स्वीट लाइम जूस पिएं। मीठे आलू को सलाद में या किसी और तरह से अपनी डाइट में शामिल करें। ऑर्गेनिक शहद और नींबू के साथ गुनगुना पानी पिएं।

क्या फल और सब्जियां भी वायरस फैलाते हैं?

फल और सब्जियां सीधे तौर पर वायरस नहीं फैलाते हैं लेकिन इन्हें पकाने या खाने से पहले अच्छी तरह धोना बहुत जरूरी है। इन्हें गर्म पानी में धोएं या आप पानी में सोडा बायकार्बोनेट भी मिला सकती हैं। इस पानी में कुछ देर के लिए फल और सब्जियों को डुबोकर रखने के बाद ही इनका प्रयोग करना चाहिए।

ड्राई कफ को कैसे करें ठीक

इस समय आपके लिए तरल चीजें पीना जरूरी है। तुलसी के पत्तियों के साथ गर्म पानी पीने से कफ और खिचखिच वाले गले से राहत मिलती है। मीठे ड्रिंक्स, अल्कोहल, कॉफी के सेवन से बचें क्योंकि ये डिहाइड्रेशन का कारण बनते हैं। दिन में दो-तीन बार जीभ के जरिए भाप अंदर लें।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन और कोविड-19

जैसा कि ऊपर भी इस आर्टिकल में बताया गया है कि इस समय आपका हाइड्रेट रहना बहुत जरूरी है। हाइड्रेट रहने से यूरिनरी इन्फेक्शन से भी बचाव होता है। रोजाना अपनी डाइट में विटामिन-सी को जरूर शामिल करें।

अगर आप भी उनमें से एक हैं, जो कोविड-19 से जूझ कर बाहर आए हैं तो सुनिश्चित करें कि आप अपने मील को दिन भर में 3 से 5 बार खाएं। ज्यादा शुगर से परहेज करें क्योंकि यह ब्लड ग्लूकोज लेवल को बढ़ा सकता है और आपको बैक्टीरियल सुपर इन्फेक्शन होने का खतरा हो सकता है। जल्दी ठीक होने के लिए हेल्दी फैट्स का सेवन भी सुनिश्चित करें।

दाल है मददगार कोविड-19 से लड़ने में

हम बचपन से ही यह सुनते आए हैं कि दाल खाना हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। यही वजह है कि हर बच्चे को यह घुड़की दी जाती है कि दाल जरूर खाओ! यह न केवल हमारी इम्युनिटी को बूस्ट-अप करता है, बल्कि संपूर्ण पोषण के लिहाज से इनका सेवन जरूर करना चाहिए। इस कोविड-19 के समय में आंशिक लॉकडाउन की वजह से हमारे लिए ताजी सब्जियां और फल ऑर्डर करना भी मुश्किल भरा काम है था, लेकिन अगर आपके घर पर विभिन्न तरह के दाल हैं तो आपके पोषण की सारी जरूरतें दाल से पूरी हो सकती हैं। हाल ही में सेलेब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट ऋजुता दिवेकर ने भी दाल के सेवन पर जोर दिया है। इनका इस्तेमाल हम कई तरीके से कर सकते हैं, दाल से लेकर डोसा और चाट तक बना सकते हैं। पहले जानते हैं दाल के स्वास्थ्य लाभ के बारे में।

दाल खाने के फायदे

हमारी किचन में मिलने वाले दालों में आयरन, जिंक, कई तरह के विटामिन, सेलेनियम और लाइजीन जैसे एसेंशियल एमिनो एसिड्स होते हैं। ये कैल्शियम अवशोषण में मदद करने के साथ ही भूख को भी नियमित करते हैं।

आयरन हिमोग्लोबिन को बढ़ाता है और ऑक्सीजन का इस्तेमाल करने में हमारे मसल्स की मदद करता है। बाल और स्किन के हेल्दी रहने में भी आयरन अहम भूमिका निभाता है। कोविड के समय सबको जिंक के सेवन की सलाह दी जाती है, जो हमारे देसी दालों में भरपूर है।

जिंक एक इम्युनिटी बूस्टर है, जो कोरोना वायरस से लड़ने में मदद करता है। सेलेनियम हमारी बॉडी में एंटी-ऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। इसके सेवन से हार्ट अटैक, अस्थमा और कैंसर जैसी बीमारियां पास नहीं फटकती हैं।

हमारे मसल्स, हड्डियों, स्किन और बालों के साथ इम्यून सिस्टम को सही बनाए रखने में एमिनो एसिड अहम भूमिका निभाते हैं। दाल में पाया जाने वाला एमिनो एसिड लाइजीन हमारी बॉडी में नहीं होता है। यह बॉडी में कैल्शियम के अवशोषण में सहायता करता है। दाल हमारी भूख को नियमित करने में भी मदद करता है।

इसके सेवन से आपका पेट देर तक भरा हुआ महसूस होता है और आप ओवर इटिंग से बचते हैं। यानी कि अगर आप अपना वजन कम करने की कोशिशों में लगे हैं तो भी दाल का सेवन जरूर करें।
गर्मी में लाभदायक दाल
ऋजुता की मानें तो इन गर्मियों में हमें अपनी डाइट में मूंग, मटकी और लाल चवली दाल को शामिल करना चाहिए, क्योंकि इन्हें पचाना आसान है और इनमें विटामिन और मिनरल प्रचुर मात्रा में होने की वजह से ये इम्यून सिस्टम के निर्माण में मददगार हैं।
कैसे करें दाल को अपनी
डाइट में शामिल
आप दाल को रात भर भिगो कर अंकुरित कर सकते हैं। इन्हें स्टोर करके रख लें और फिर आप इनका प्रयोग कई तरह से कर सकती हैं। सुबह के नाश्ते में इसका डोसा या चीला बना सकती हैं। इसको पका कर दोपहर में चावल के साथ खाया जा सकता है। इसका चाट भी बना सकती हैं, जैसे- मिसल पाव बनता है। चावल, रोटी और सब्जियों के साथ भी इसका सेवन किया जा सकता है।

खिचड़ी सा कोई नहीं

इस समय कुछ लोग ऐसे भी सामने आए हैं, जिन्होंने कोविड मील ऑफर करने वालों की लिस्ट बनाई है। इनमें से एक नाम सारंच गोइला का भी है।

उन्होंने हाल ही में इन्स्टाग्राम पर खिचड़ी को कोविड-19 रोगियों के लिए सबसे उपयुक्त खाना बताया है, जिसमें दाल का भरपूर इस्तेमाल होता है। इनके अनुसार, हर व्यक्ति की अपनी बॉडी के अनुसार अलग-अलग जरूरतें होती हैं। ऐसे में खिचड़ी ही एक ऐसी डिश है, जो सबके साथ फिट बैठती है।

हां, जो लोग चावल का सेवन नहीं कर सकते हैं, उन्हें चावल की जगह बाजरा का प्रयोग करना चाहिए। इसके साथ खूब सारी सब्जियां मिलाएं और बस आपका कंप्लीट मील तैयार है। खिचड़ी को वन-पॉट वंडर भी कहा जाता है, जो इस समय कई लोगों के पेट भरने और हेल्दी रहने का कारण बना हुआ है।
दाल से बनने वाली कुछ रेसिपी
दाल से हम कई रेसिपी बना सकते हैं। ऐसी ही दो आसान रेसिपी आपके लिए यहां दी जा रही हैं।

अंकुरित चाट
रात भर भिगोये हुए सफेद छोले और राजमा को सुबह प्रेशर कुकर में पका लें। अब इसमें कटे हुए कच्चे प्याज, टमाटर, भुनी हुई मूंगफली, उबले हुए कॉर्न, हरी धनिया और नमक, चाट मसाला मिला लें। आपकी अंकुरित चाट तैयार है।

मूंग दाल चाट
इसके लिए आपको मूंग दाल को प्रेशर कुकर में पानी डाल कर पकाना है। जब दो से तीन सीटी लग जाए तो इसे निकाल लीजिए। अब मीडियम आंच पर एक पैन रखें और इसमें थोड़ा-सा तेल डालें।

इसमें उबले हुए मूंग दाल के साथ नमक, अदरक और लहसुन का पेस्ट भी डाल दें। इसमें कटे हुए प्याज, टमाटर, कच्चे आम और गाजर (वैकल्पिक) डाल कर एक मिनट के लिए चलाएं। जब यह मिश्रण पक जाए यानी अच्छी तरह से मिल जाए तो गैस बंद कर दें। इसमें नींबू का रस डालकर अच्छी तरह से मिला लें। अब इसे एक सॄवग डिश में पलटें करें और हरी धनिया के साथ ही भुजिया सेव से गार्निश करें। आपकी मूंग की दाल तैयार है।

Leave a comment