कहा जाता है कि प्यार एक ऐसा खूबसूरत एहसास है जो कभी किसी का स्टेटस,प्लेस ,या पैसा नहीं देखता ये तो बस हो जाता है। आपका दिल कभी किसी भी व्यक्ति पर कहीं भी जैसे राह चलते, कॉलेज में,ऑफिस में, या फिर मेट्रो या बस स्टॉप पर आ सकता है। लेकिन जब कभी ऑफिस में साथ काम करते हुए आपका अपनी भावनाओं पर ज़ोर न चले और आपको अपने  कलीग से प्यार हो जाए तो क्या करें। 
 
ये बात कन्फर्म कर लें की आपको सच में उससे प्यार है 
 
इस बात का पता लगाना बहुत ज़रूरी है कि आप सच में उसको प्यार करते हैं या नहीं।  कई बार ऐसा होता है कि एक दूसरे से बातचीत करने ,साथ में लंच करने, हंसी-मज़ाक करने को हम प्यार समझ बैठते हैं जबकि सच्चाई कुछ और होती है। 
 
सुनिश्चित कर लें कि वो भी आपको प्यार करता है 
किसी भी तरह का एकतरफा निर्णय लेने से पहले ये सुनिश्चित कर लें कि सामने वाला भी आपको उतना ही प्यार करता है।  
 
अपने काम पर भी ध्यान दें 
 
प्यार में पड़कर कभी अपने काम से विचलित नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे आपका करियर तक खराब हो सकता है।  
 
किसी तीसरे से अपनी बातें न शेयर करें 
ऑफिस में किसी तीसरे व्यक्ति से अपनी बातें शेयर न करें क्योंकि वो आपकी बातें पूरे ऑफिस में फैला सकता है जिससे आपका इम्प्रेशन खराब हो सकता है।  
अपने आपको सबसे अलग न करें 
 
यदि आप ऑफिस में किसी के प्यार में पड़ गए हैं तो उसके अलावा भी सबसे बातें करें अपनी ही दुनिया में मस्त होकर अपने आपको सबसे  अलग न करें। 
 
गॉशिप्स  का केंद्र न बनें 
अपनी भावनाओं को इतना अपने नियंत्रण में रखें की लोग आपको गपशप का विषय न बनाएं। यदि आपको कुछ ऐसा पता लगे तो ऑफिस के  अन्य लोगों से इस विषय पर खुलकर चर्चा करें।   
 
समय और जगह  का ध्यान रखें 
आपको चाहिए कि बार-बार उठकर उसके पास न जाएं ,बात करने का सही समय तय कर लें।  फ़ोन पर भी बार-बार मैसेज या कॉल न करें। एक निश्चित टाइम पर ही ये सब करें। 
 
ऑफिस का डेकोरम मेन्टेन रखें 
आप भले ही किसी के प्यार में पागल हों लेकिन ऑफिस आपका कार्यस्थल है इसलिए ऑफिस के डेकोरम को बना कर रखें जैसे कभी भी हाथ पकड़ना, इशारों में बातें करना,एकदम से हग कर लेना जैसी हरकतें न करें।  इसके अलावा कभी भी ऑफिस से छुट्टी लेकर कहीं घूमने चले जाना या फिर काम को सेकेंडरी समझना भी गलत है ।