डेटिंग करते समय ध्यान रखें

आजकल की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में किसी के पास वक्त नहीं है कि किसी से दो मिनट बैठ कर बातचीत कर ली जाये। हमारी जिंदगी सिर्फ मोबाइल फोन, इंटरनेट तक सिमट कर रह गई है। आखिर  कितनी सही है ये जिंदगी? इस रिलेशनशिप के अंदर अगर आप देखेंगे तो बहुत उतार-चढ़ाव नजर आयेंगे, जो बातें हम एक-दूसरे से आमने-सामने बैठकर कर सकते हैं वो अब हम इंटरनेट के माध्यम से करते हैं। लेकिन यह कहना गलत नहीं होगा कि आजकल युवाओं पर इस ई- रिलेशनशिप का खुमार काफी सिर चढ़ कर बोल रहा है। एक सर्वे के मुताबिक लोगों में तेजी से बढ़ रहे इस रिश्ते के मद्देनजर, जिस हिसाब से लोग इसका इस्तेमाल कर रहे हैं वह 2015 तक 11 करोड़ से भी अधिक जा सकता है।

फिलहाल देश में 60 लाख लोग ऑनलाइन डेटिंग का इस्तेमाल कर रहे हैं।वैश्विक स्तर पर यह बाजार 4 अरब डॉलर का है। भारत में ई-डेटिंग में काफी तेजी देखी गई है और आने वाले समय में यह और भी अधिक होगी। आइये जानते हैं इसके फायदे और नुकसान के बारे में- बहुत आसान है यह राहनई दिल्ली स्थित तुलसी हैल्थ केयर के मनोचिकित्सक व निदेशक डॉ. गौरव गुणवता का कहना है कि दरअसल ई-रिलेशनशिप बनने के पीछे सबसे खास वजह यह होती है कि इस रिश्ते को बनाना बहुत आसान और सुविधाजनक है। घर, बाहर या किसी कोने से भी इस रिश्ते की शुरूआत की जा सकती है। बस हाथ में एक मोबाइल, टैबलेट या लैपटॉप जैसी कुछ भी चीज  होनी चाहिए। युवाओं के लिये एक ऐसा जरिया है जिसमें वे बे-हिचक बिना किसी डर के किसी से भी बात कर लेते हैं। एक ही प्लेटफार्म में आपको दोस्ती करने के कई सारे विकल्प मिल जाते हैं। इसलिए युवाओं को यह रास्ता खूब भा रहा है।

भावनात्मक लगाव नहीं होता

इस प्रकार के रिश्ते में भावनाओं का कोई खास रोल नहीं होता है जैसा की वास्तविक दुनिया में होता है। वास्तविक दुनिया में सिर्फ बातों का नहीं बल्कि प्रेमिका के मूड, भावना, गुस्सा इन सारे जज्बातों को तहे दिल से स्वीकारा जाता है। वहीं ई-रिलेशनशिप में सिर्फ बातें ही बातें होती है। क्योंकि यहां पर चेहरे का एक्सप्रेशन तो दिखाई ही नहीं पड़ता है, इसलिए इस बात का भी कोई डर नहीं होता है कि आप झूठ बोल रहे हैं या सच। मनोवैज्ञानिक और सामाजिक कार्यकर्ता अनुजा कपूर का कहना है कि ई-रिलेशनशिप में सच्चाई का अंश बहुत कम होता है क्योंकि इस तरह के संबंधों में दी गई कोई भी जानकारी विश्वसनीय नहीं होती है और ऐसे में भावनाओं का जुडऩा तो बहुत ही मुश्किल है क्योंकि सभी रिश्तों की बुनियाद सच्चाई से शुरु होती है। इसके अलावा भी इस तरह के डेटिंग अधिकतर लोगों के लिए महज टाइमपास से कम नहीं होती है। 

 

सम्भल कर करें बातचीत

ई-रिलेशन में धोखाधड़ी आजकल आम बात हो गई है। वह इसलिए क्योंकि दूर बैठे लोगों को धोखा देना सबसे आसान है। रियल दुनिया की तरह ही वर्चुअल दुनिया में भी आज फरेबी व धोखेबाज लोगों की एक जमात है जिनका मकसद ही सीधेसीधे लोगों को बेवकूफ बना कर पैसे ऐंठना है। ऐसे लोग लोगों की प्रोफाइल को देखते ही समझ जाते हैं कि इन्हें चीट करना बेहद आसान है। इससे बचने का एक ही रास्ता है कि कभी भी अपने बारे में पूरी जानकारी फेसबुक पर अपलोड ना करें। ऐसे लोगों से बातचीत करते समय खुद की तरफ से कोई बेचारगी ना दिखाएं और ना ही कोई ऐसी जानकारी शेयर करें जो बाद में जाकर आपके लिए नासूर बन जाएं।

अनजान से ना करें दोस्ती

आजकल ई-रिलेशन आम हो गया है। ऐसे में ई-डेटिंग करते समय कई बातों को ध्यान में रखें। किसी भी अंजान से ई-डेटिंग ना करें। ई-डेटिंग करते समय एक नजर उसके प्रोफाईल पर भी डालें, साथ ही उसके फ्रेंड लिस्ट पर भी। ताकि आपको यह पता लगाने में आसानी हो कि कहीं उसकी संगत तो गलत नहीं है तथा वह अपने बारे में झूठ तो नहीं बोल रहा है। अगर यह कहा जाए कि फेसबुक पर  किए गए पोस्ट इंसान के स्वभाव का आईना होता है, तो गलत नहीं होगा। अगर वह अपने प्रोफाइल पर अक्सर अश्लील फोटो पोस्ट करता हो तो उसके स्वभाव को समझ जाएं और जितनी जल्दी हो सके, किनारा कर लें।

न फंसे दिखावे में
ई-डेटिंग करते समय कभी भी सामने वाले की चिकनी-चुपड़ी बातों में नहीं आएं और न ही भावनाओं में बहकर अपने बारे में सभी जानकारी सामने वाले के हवाले कर दें। जब आपको उसके बारे में पूरी तसल्ली हो जाए तभी कोई जानकारी शेयर करें। अपने बारे में जो भी जानकारी दें, सही-सही दे। फिर चाहे वह आपकी फोटो ही क्यों न हो। इस बात को ध्यान में रखें कि जिन्हें आपसे वास्तव में प्यार होगा, उन्हें हर हाल में प्यार होगा। भले ही आप कैसे भी क्यों ना दिखते हो इसलिए स्मार्ट लगने के चक्कर में कभी भी फेक फोटो ना लगाएं। लेकिन इस बात की उम्मीद कतई ना रखें कि सामने वाला भी आपको सब कुछ सही सही जानकारी देगा ही।

 हमेशा सतर्क रहें 

डेटिंग के दौरान यदि सामने वाला अपना दुखड़ा रोकर आप से पैसे की मांग करें, तो सर्तक हो जाएं। ऐसे लोग यदि मिलने की बात करें तो एकांत जगह या फिर किसी के घर पर मिलने के बजाय सार्वजनिक जगह पर मिलें। आपकी किसी बात को लेकर यदि वह आपको ब्लैकमेल करने की धमकी दे रहा है या फिर उसे सार्वजनिक  करने की धमकी दे रहा है तो शांत होकर ना बैठे रहें बल्कि पुलिस में कंम्पलेन करें। समय पर उठाया गया कदम आपको कई मुसीबतों से बचा सकता है।

बनाएं रिश्ते संभलकर
अगर आपको लग रहा है कि आपको उससे वाकई में प्यार है तो कुछ ऐसी बातों के बारे में बात करें जिसमें झूठ बोलने की गुंजाइश ही ना हो। ये भी हो सकता है कि जिससे आप प्यार जता रही हों, वह पहले से शादीशुदा हो या फिर आपसे उम्र में कई गुना बड़ा या छोटा हो। 

सम्भल कर करें बातचीत
ई-रिलेशन में धोखाधड़ी आजकल आम बात हो गई है। वह इसलिए क्योंकि दूर बैठे लोगों को धोखा देना सबसे आसान है। रियल दुनिया की तरह ही वर्चुअल दुनिया में भी आज फरेबी व धोखेबाज लोगों की एक जमात है जिनका मकसद ही सीधेसीधे लोगों को बेवकूफ बना कर पैसे ऐंठना है। ऐसे लोग लोगों की प्रोफाइल को देखते ही समझ जाते हैं कि इन्हें चीट करना बेहद आसान है। इससे बचने का एक ही रास्ता है कि कभी भी अपने बारे में पूरी जानकारी फेसबुक पर अपलोड ना करें। ऐसे लोगों से बातचीत करते समय खुद की तरफ से कोई बेचारगी ना दिखाएं और ना ही कोई ऐसी जानकारी शेयर करें जो बाद में जाकर आपके लिए नासूर बन जाएं।