googlenews
vastu-tips-in-hindi

Vastu tips in Hindi : 2021 अपने अच्छे-बुरे अनुभवों के साथ बीत चुका है। अब तो सबकी यही उम्मीद है कि आने वाले समय में हम बीमारियों से दूर रहें और खुशियों के करीब रहें। अगर आप भी सुख-समृद्धि और अच्छी सेहत पाना चाहते हैं तो लता शर्मा के कुछ वास्तु उपाय आपके काम जरूर आएंगे।

नववर्ष का आगमन हो चुका है और नई आशाओं का भी। किन्तु गत दो वर्षो से कोरोना काल में हममें से बहुत लोगों को निराशा का सामना करना पड़ा और स्वास्थ्य एवं धन संबंधी समस्याओं का भी सामना करना पड़ रहा है। यहां पर कुछ वास्तु टिप्स दिए जा रहे हैं, जिसे अपनाकर आप अपने जीवन में कुछ सकारात्मकता ला सकते हैं और जीवन में नई ऊर्जा भर सकते हैं।

धन व समृद्धि के लिए वास्तु टिप्स

यदि आप धन कमाना और धन संचय करना चाहते हैं तो इन वास्तु टिप्स को अपनाएं, आपके जीवन में धन की कमी नहीं होगी।

घर में धन का प्रवाह बढ़ाने के लिए आप अपने घर की उत्तरी दिशा में नीले रंग की बोतल में मनी प्लांट लगाएं।

धन के आगमन के लिए आप घर की दक्षिण पूर्व दिशा (आग्नेय कोण) में हरे रंग के फूलदान में लाल रंग के फूल लगाएं।

धन, नाम एवं प्रसिद्धि पाने के लिए घर की दक्षिण दिशा की तरफ लाल घोड़ों का जोड़ा रखें, जिसका मुख उत्तर दिशा की तरफ हो।

खर्चों को कंट्रोल करने के लिए एवं बचत बढ़ाने के लिए घर की दक्षिणी पश्चिम दिशा में पीले रंग का फूलदान रखें।

घर में पैसे की कमी नहीं आएगी, यदि आप उत्तर दिशा में हरे रंग की कोई सीनरी लगाएं। सीनरी में हरियाली अधिक होनी चाहिए, उसको काले रंग के फ्रेम में लगाएं।

बैंक बैलेंस बढ़ाने के लिए एवं धन संचय करने के लिए घर की पश्चिम दिशा में टॉयलेट न बनाएं। यदि है तो उसमें सफेद रंग कर सफेद रंग का बल्ब जलाकर रखें। यहां पर किचन या अग्नि नहीं होनी चाहिए।

धन कमाने व बचत करने के लिए घर में मधुमक्खियों और कबूतर का घोंसला ना बनने दें।

घर में टूटे शीशे और टपकते नल गरीबी और व्यर्थ खर्च का कारण बनते हैं, इनको ठीक रखें।

अगर सब कुछ करने के बाद भी धन संचय नहीं हो पा रहा है तो एक छोटा ऊंट का मॉडल घर पर लाएं और उसे पश्चिम दिशा में लगाएं उसका मुंह घर केंद्र बिंदु की तरफ करें। धन संचय होने लगेगा।

उत्तम स्वास्थ्य के लिए वास्तु टिप्स

वास्तु के हिसाब से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए कुछ छोटे उपायों से आप उत्तम स्वास्थ्य प्राप्त कर सकते हैं।

बिस्तर पर सोने की दिशा बहुत महत्त्वपूर्ण है। सर को हमेशा दक्षिण की तरफ होना चाहिए, तब ही नींद अच्छी तरह से आएगी।

यदि घर में कोई डिप्रेशन से जूझ रहा है तो वह दक्षिण पूर्व की तरफ सर रखकर सो सकता है।

जिन घरों में अक्सर खांसी, अस्थमा, सांस लेने में तकलीफ से संबंधित परेशानियां रहती हैं वहां किचन हमेशा दक्षिण पूर्व (आग्नेय कोण) में होनी चाहिए। यदि किचन गलत दिशा में बनी है तो वहां पर सफेद रंग करवाएं व सफेद बल्ब जलाकर रखें।

जिन लोगों को ट्यूमर, कैंसर व सरदर्द जैसी बीमारी हो, उनका बेडरूम उत्तर दिशा में नहीं होना चाहिए।

परिवार के जीवित या मृत सदस्यों की फोटो घर की दक्षिणी दीवार पर लगाएं, परंतु मृतकों की फोटो पर माला अवश्य चढ़ाएं।

बेहतर इम्यूनटी के लिए घर की उत्तर पूर्वी दीवारों को हरे रंग में रंगवाएं।

आजकल बांझपन, संतान उत्पत्ति में बाधा आम बात हो गई है। इस समस्या को दूर करने के लिए अपने घर के उत्तर पूर्व मेें जलते लैम्प, हीटर या गीजर न लगवाएं।

घर का केंद्र बिंदु ब्रह्मïस्थान कहलाता है। उस स्थान को साफ-सुथरा रखें। वहां पर फालतू का भारी फर्निचर न रखें, अन्यथा उदर विकार और मानसिक समस्याएं हो सकती हैं।

घर में हर कमरे के चार कोने होने चाहिए आजकल मास्टर बेडरूम के साथ ड्रेसिंग रूम का प्रचलन बन गया है, वहां पर मोटा पर्दा या दरवाजा लगवाएं, नहीं तो कमरे में रहने वाले लोगों को मानसिक परेशानी हो सकती है।

जिन घरों में दिल से जुड़ी समस्याएं अधिक हैं वहां पर पूर्व दिशा को साफ रखें, वहां हल्का सामान और खिले हुए फूलों को रखें।

यदि घर में कलह और विचारों में भिन्नता रहती है तो घर में दीवारों पर खाली कीलें हटा दें घर के छत पर ईंधन (पेट्रोल, मिट्टी तेल या कोयला) न रखें।

Leave a comment