googlenews
ज्योतिष
पूजा-पाठ में शंख बजाने का चलन काफी समय से चला आ रहा है। लोग इसे मंदिर में रखते हैं और इसे नियम‍ित रूप से बजाते हैं। इसके कई हेल्थ बेनिफिट्स भी होते हैं। वैसे ही इसके विशेष प्रयोग से ग्रहों की बुरी स्थिति को भी सही किया जा सकता है। दरअसल, शंख को कुबेर का प्रतीक माना जाता है। आइए जानते हैं कैसे शंख के द्वारा ग्रहों की स्थिति में भी सुधार लाया जा सकता है-
 
ग्रह होंगे बलवान 
 
  • शंख में जल डालकर सूर्य देव को अर्घ्य देने से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं।
  • शंख का केसर से तिलक कर पूजा करने से भगवान विष्णु व गुरु की प्रसन्नता मिलती है।
  • मंगलवार को शंख बजाकर सुंदरकांड पढ़ने से मंगल का कुप्रभाव कम होता है।
  • सोमवार को शंख में दूध भरकर शिवजी को चढ़ाने से चंद्रमा ठीक होता है।
  • बुधवार को शालिग्राम जी को शंख में जल व तुलसा डालकर अभिषेक करने से बुध ग्रह ठीक होता है।
  • शंख सफेद कपड़े में रखने से शुक्र ग्रह बलवान होता है।
  • लक्ष्मी पूजा में शंख की पूजा करने से धन-धान्य तथा ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। 
 
अन्य फायदें 
 
  • वैज्ञानिकों का मानना है कि शंख की आवाज से वातावरण में मौजूद कई तरह के जीवाणुओं-कीटाणुओं का नाश हो जाता है। 
  • शंख की आवाज लोगों को पूजा-अर्चना के लिए प्रेरित करती है। ऐसी मान्यता है कि शंख की पूजा से कामनाएं पूरी होती हैं। इससे दुष्ट आत्माएं पास नहीं फटकती हैं। 
  • ब्रह्मवैवर्त पुराण में कहा गया है कि शंख में जल रखने और इसे छ‍िड़कने से वातावरण शुद्ध होता है। 
  • आयुर्वेद के मुताबिक, शंखोदक के भस्म के उपयोग से पेट की बीमारियां, पथरी, पीलिया आदि कई तरह की बीमारियां दूर होती हैं हालांकि इसका उपयोग एक्सपर्ट वैद्य की सलाह से ही किया जाना चाहिए। 
  • शंख बजाने से फेफड़े का व्यायाम होता है. अगर श्वास का रोगी नियमि‍त तौर पर शंख बजाए, तो वह बीमारी से मुक्त हो सकता है। 
  • शंख में रखे पानी का सेवन करने से हड्डियां मजबूत होती हैं। यह दांतों के लिए भी लाभदायक है। शंख में कैल्श‍ियम, फास्फोरस व गंधक के गुण होने की वजह से यह फायदेमंद है। 
  • वास्तुशास्त्र के मुताबिक शंख में ऐसे कई गुण होते हैं, जिससे घर में पॉजिटिव एनर्जी आती है।