grehlaksmi ki kavita

गृहलक्ष्मी की कविता

कुछ पल के लिए
खुलकर मुस्कुरा लो
बन जाओ बच्चे और
छोड़कर सारे गम
स्वयं को देख आईने में थोड़ा
इतरा लो
जी लो बचपन तुम भी कभी
कब तक कहोगे हम
बड़े हो गये
देख दूसरों का बालपन
तुम उसको इतराना ही समझोगे वो जी रहा अगर खुलकर तो
तुम क्या कम हो?
बच्चे नहीं है हम अभी
बोल अपनी मासूमियत को
कब तक छुपाओगे!
छोटी सी है जिंदगी
कब तक एकांकी बन
महफ़िल से दूर भागोगे?
एक पल जियो स्वयं के लिए भी
क्या मालूम तुम इसी में रम जाओ
और जाते-जाते दुनिया को
एक नई राह दिखा पाओ।

Leave a comment

Cancel reply