coronavirus vaccine side effects

45 साल की प्रेरणा को जब यह पता चला था कि वह भी कोरोना की वैक्सीन ले सकती हैं तो उनको संतुष्टि हुई थी। उन्होंने जल्दी ही खुद को रजिस्टर करा लिया और वह दिन भी आ गया, जब उन्हें वैक्सीन मिल गई थी। लेकिन वैक्सीन के साइड- इफेक्ट्स ऐसे होंगे, इसके बारे में उन्होंने सोचा भी नहीं था। प्रेरणा और उनके हस्बैंड मुनेश दोनों ने साथ में वैक्सीन ली थी लेकिन साइड- इफेक्ट प्रेरणा को ही ज्यादा महसूस हुए। बुखार, ठंड लगना, सिर दर्द, शरीर में दर्द, थकान और मांसपेशियों की जकड़न के अलावा और भी कई चीजें उसे परेशान कर रही थी। ये सब कोविड- 19 वैक्सीनेशन के साइड- इफेक्ट्स हैं। अमूमन कई लोगों को वैक्सीनेशन के बाद ये साइड- इफेक्ट्स देखने को मिल रहे हैं, जिसका सीधा मतलब यह है कि वैक्सीन सही तरीके से काम कर रही है और वायरस के खिलाफ़ एंटी- बॉडीज बना रही है। लेकिन ऊपर बताए गए साइड- इफेक्ट्स आम हैं, उनके अलावा और भी कई साइड- इफेक्ट्स हैं, जिनका सामना सिर्फ महिलाओं को करना पड़ रहा है।

अब तक सबको यह समझ में आ चुका है कि महिलाओं को कोरोना वायरस की वैक्सीन लेने के बाद कई तरह के साइड- इफेक्ट्स का सामना करना पड़ रहा है। इनमें से कुछ बर्दाश्त करने लायक हैं तो कुछ अजीब से और बहुत दुखदायी। एक साथ कोरोना वायरस वैक्सीन लेने वाले पुरुष और महिला में से महिला को ज्यादा तकलीफ हो रही है। हाल में इससे संबंधित एक रिसर्च भी हुआ है, जिससे यह पुष्ट हो चुका है कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं को कोरोना वायरस वैक्सीन के साइड- इफेक्ट्स ज्यादा हो रहे हैं।

कोरोना वायरस वैक्सीन : महिलाओं पर होने वाले कुछ साइड- इफेक्ट्स 4

क्या सेक्स के अनुसार हो रहे हैं साइड- इफेक्ट्स

अधिक से अधिक रिपोर्ट यह बता रहे हैं कि वैक्सीन के साइड- इफेक्ट्स महिलाओं को ज्यादा झेलने पड़ रहे हैं। ऐसी ही एक स्टडी बताती है कि 6994 लोगों में से जिन्हें साइड- इफेक्ट्स हुआ, उनमें से 79।1 फीसद महिलायें थी। इस बारे में तो हमारे पास प्रमाण हैं लेकिन वैज्ञानिक अब तक यह पता नहीं लगा पाए हैं कि महिलाओं को ज्यादा साइड- इफेक्ट्स होने के क्या कारण हैं। हालांकि, कुछ का का मानना है कि महिलाओं का इम्यून सिस्टम ज्यादा एक्टिव होता है, जो हार्मोनल अंतर के साथ मिलकर ज्यादा साइड- इफेक्ट्स का कारण बनता है।

क्या हैं अन्य साइड- इफेक्ट्स

कुछ महिलाओं को कोविड- 19 वैक्सीनेशन के बाद हेवी पीरियड्स हुए या नहीं हुए हैं। ऐसा पहले किसी भी वैक्सीन के साइड- इफेक्ट्स नहीं दिखे हैं। यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन का साइड इफेक्ट्स के लिए बनाए गए ट्रैकिंग सिस्टम को वैक्सीन एडवर्स इवेंट रिपोर्टिंग सिस्टम को अब तक 56,0000 महिलाओं में से 32 लोगों की यह रिपोर्ट मिली है कि उनके पीरियड्स में बदलाव आया है। यह प्रतिशत भले ही बहुत कम लग रहा हो, लेकिन सच तो है कि मिसिंग पीरियड और कोविड शॉट के बीच कोई ना कोई लिंक जरूर है।

मेंस्ट्रूअल साइकल को कैसे प्रभावित करती है वैक्सीन

इस बारे में बहुत कम रिसर्च किया गया है लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि चूंकि वैक्सीन इम्यून सिस्टम को तनाव में डालती है तो उन बदलावों की प्रतिक्रिया के अनुसार पीरियड्स पर असर पड़ता है। इसकी वजह से हेवी पीरियड या पीरियड नहीं ही होता है। जिस तरह तनाव, डाइट, नींद और कोई दावा तक मेंस्ट्रूअल साइकल ट्रैक से अलग कर देते हैं, वैसे ही वैक्सीन भी मेंस्ट्रूअल फ्लो को प्रभावित कर सकती है, और इसे अजूबा ना माना जाए। पीरियड की वजह से पेट में दर्द होने की आशंका भी रहती है। यह सभी के साथ नहीं भी हो सकता है लेकिन यह एक ऐसा साइड- इफेक्ट है, जिस पर अध्ययन होना चाहिए।

कोरोना वायरस वैक्सीन : महिलाओं पर होने वाले कुछ साइड- इफेक्ट्स 5

क्या आपको परेशान होना चाहिए

मेडिकल साइंस के विशेषज्ञों की मानें तो वैक्सीन में उपस्थित सूक्ष्म कण पीरियड में बदलाव लाते हैं। ये कुछ महिलाओं में अस्थाई इम्यून रिएक्शन उत्पन्न करते हैं, जो कुछ प्लेटलेट्स को खत्म करते हैं, जो क्लॉटिंग में अहम भूमिका निभाते हैं। लेकिन इसमें चिंतित होने की जरूरत नहीं है क्योंकि ये सेल्स तुरंत ही रीजन्रेट हो जाते हैं। लेकिन पीरियड्स के दौरान ये बदलाव नहीं हो पाते हैं। यह बॉडी की अपनी प्रतिक्रिया हो सकती है, जो वह वैक्सिनेशन के लिए करती है। इसके बारे में ज्यादा सोचने या परेशान होने से कुछ नहीं होगा। यह वैक्सीन आपकी फर्टिलिटी को प्रभावित नहीं करेगी, जिसको लेकर महिलायें डर रही हैं।

लिम्फ नोड्स में सूजन

कोरोना वायरस वैक्सिनेशन के बाद के साइड- इफेक्ट्स में से एक है लिम्फ नोड्स में सूजन, जिसे कई लोग ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण की तरह मान लेने की गलती कर बैठते हैं। इसके अलावा, जहां इंजेक्शन लगी है, वहां खूब दर्द भी हो रहा है।

कम या ज्यादा नॉजिया  

वैक्सीन के बाद कुछ महिलाओं को पेट में दर्द के साथ नॉजिया भी हो रहा है। यह कम या ज्यादा भी हो सकता है। इसके साथ थकान भी बहुत हो रही है। ये सब धीरे- धीरे अपने आप ठीक हो रहे हैं और इनके लिए किसी तरह के इलाज की जरूरत नहीं पड़ रही है।

शरीर में दर्द और ठंड लगना

कोरोना वायरस वैक्सिनेशन के बाद कुछ पुरुषों को ही बुखार, बॉडी पेन और ठंड लगने जैसी समस्या हो रही है। महिलाओं को ये खूब हो रहे हैं और पुरुषों की तुलना में कहीं ज्यादा हो रहे हैं। इसके पीछे का कोई विशेष कारण नहीं है लेकिन इसे हार्मोनल इम्बैलेंस द्वारा की गई इम्यून प्रतिक्रिया माना जा रहा है।

हेवी पीरियड्स और क्रैम्प्स को आपको आम साइड- इफेक्ट्स मान लेना चाहिए, जिसका अनुभव वैक्सिनेशन के बाद होता है। लेकिन इसको लेकर पैनिक करने की कतई भी जरूरत नहीं है। यह एक सामान्य बुखार और सिर दर्द की तरह है, जिसका अनुभव वैक्सिनेशन के बाद किसी भी महिला को हो सकता है। यदि आपको असहनीय दर्द या पीरियड 5 दिन से ऊपर हो जाए तो आपको अपने डॉक्टर से जरूर मिलना चाहिए।

ये भी पढ़ें- 

कोविड वैक्सीन से पहले और बाद में क्या खाएं 

विजडम टीथ यानी अकल दाड़ दर्द : कारण और उपाय 

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com