सामग्री – कांजी के लिए

कांजी के लिए छह काले गाजर, हींग एक चम्मच, पानी आठ कप, लाल मिर्च पाउडर एक चम्मच, राई चार चम्मच, काला नमक स्वादानुसार।

विधि 

गाजर धोकर छील लें। लंबे टुकड़ों में काटें। अब एक बड़े जार में रख कर उसमें सभी सामग्री मिला दें। फिर उसे मलमल के कपड़े से ढक दें और तीन-चार दिनों तक धूप में रखें। हर दिन वूडन स्पून से इसे चलाती रहें। जब इसका स्वाद खट्टा हो जाए तो समझ लीजिए कि कांजी तैयार हो गया।

सामग्री वड़ा के लिए

उड़द दाल एक, मूंग दाल एक चौथाई कप, हींग एक चुटकी, कटी हरी मिर्च एक, लाल मिर्च पाउडर एक चम्मच, गर्म मसाला एक चम्मच, कटी धनिया पत्ती, नमक स्वादानुसार, तेल तलने केलिए।

विधि 

दोनों दाल धोकर रातभर भिगो दें। इसे हींग, नमक, गर्म मसाला और हरी मिर्च मिला कर पीस लें। अब तेल गर्म करें और घोल के मिश्रण को चम्मच से वड़े की तरह सुनहरा होने तक तल लें। अब गर्म वड़े को ठंडे पानी में डाल कर तीन-चार मिनट के लिए छोड़ दें। अब इसे पानी से निकालकर निचोड़ दें। सर्विंग बाउल में वड़ा रख कर कांजी डालें। उसमें भुना जीरा डाल कर धनिया से गार्निश करें।