प्रश्न- मेरी उम्र 24 वर्ष है। मुझे इस मौसम में बारिश के पानी से भीगना काफी अच्छा लगता है, लेकिन बाद में मेरी स्किन पर रेड पैचेस हो जाते है। साथ ही बहुत अधिक खुजली भी होती है। जिसके कारण मैं चाहते हुए भी बारिश में भीग नहीं पाती। क्या आप मुझे इस समस्या का समाधान बता सकती हैं।

उत्तर-कुछ लोगों को बारिश के पानी से एलर्जी होती है, जिसके कारण उन्हें इस तरह की स्किन प्रॉब्लम्स होती है। इसके अलावा, कभी-कभी ऐसा भी होता है कि हम बारिश के पानी में नहाते हैं, उसके बाद स्किन की सही तरह से केयर नहीं करते, जिसके कारण भी स्किन में रेडनेस, इचिंग यहां तक कि दानों की समस्या का सामना करना  पड़ता है। इसलिए सबसे पहले तो आप लंबे समय तक बारिश के पानी से बचें। वहीं अगर आप किसी कारणवश भीग गई हैं तो तुरंत घर आकर नहा लें। इसके अलावा, एक अच्छा स्किन केयर रूटीन फॉलो करें। हर दिन क्लींजिंग टोनिंग व मॉइश्चराइजिंग अवश्य करें। साथ ही अपनी स्किन टाइप को ध्यान में रखते हुए कुछ मानसून फेस व हेयर पैक्स लगाएं। इससे आपको अपनी स्किन में काफी फर्क नजर आएगा। अगर समस्या तब भी यूं ही बनी रहती है तो ऐसे में आप किसी अच्छे स्किन स्पेशलिस्ट से मिलें। वह आपकी स्किन को चेक करके वास्तविक समस्या का पता लगा पाएंगे और उसका सही समाधान करने में भी आपको मदद मिलेगी। 

प्रश्न-इस मौसम में मुझे बालों में चिपचिपेपन की समस्या होती है। यूं तो मैं हर दूसरे दिन बालों को वॉश करती हूं, लेकिन हेयर वॉश करने के बाद दूसरे ही दिन बालों में चिपचिपापन महसूस होने लगता है। इतना ही नहीं, बालों में से स्मेल भी आती है। ऐसे में समझ नहीं आता कि मैं क्या करूं? कभी-कभी तो मन करता है कि हेयर कट करवाकर बाल छोटे करवा लूं ताकि यह समस्या ही ना हो। कृप्या आप ही मेरी मदद करें।

उत्तर-हेयर कट करवाना या ना करवाना यह पूरी तरह से आपका निर्णय है। अगर आप एक न्यू लुक पाने के लिए हेयरकट करवा रही हैं तो अवश्य करवाएं, लेकिन बालों की स्मेल व चिपचिपेपन से परेशान होकर ऐसा ना करें। दरअसल, मानसून में आपके बाल अन्य दिनों की अपेक्षा अतिरिक्त केयर मांगते हैं। अगर इस मौसम में बालों की क्लीनिंग या केयरिंग के प्रति कोताही बरती जाए तो इससे यह समस्या उत्पन्न होती है। वैसे बालों में खुजली, चिपचिपेपन, स्मेल व अन्य समस्याओं को दूर करने के लिए स्कैल्प के पीएच बैलेंस पर ध्यान दिया जाना बेहद आवश्यक है। पीएच लेवल को बैलेंस रखने के लिए आप सेब के सिरके का इस्तेमाल करें। इसके लिए पहले आप दो कप पानी में थोड़ा सेब का सिरका मिलाएं और फिर उससे हेयर रिंस करें। यह स्कैल्प को क्लीन करने में भी मदद करेगा। इसके कुछ देर बाद आप अपने बालों को सामान्य तरीके से शैम्पू की मदद से क्लीन करें। इसके अलावा अगर आपको कहीं बाहर जाना है और आपके बालों से स्मेल आ रही है तो ऐसे में आप ड्राई शैम्पू का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह सारी गंदगी व चिपचिपेपन को दूर करेगा और आपको बैड हेयर डे से मुक्ति मिलेगी। वैसे बालों व स्कैल्प हेल्थ के लिए एक अच्छा हेयर केयर रूटीन अपनाना इस मौसम में बेहद आवश्यक है, इसलिए इसका खास ध्यान रखें।

प्रश्न- पिछले कुछ समय से मेरे हाथों का रूखापन बढ़ने लगा है। दरअसल, कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मैं बार-बार हाथ धोती हूं व सैनिटाइजर का इस्तेमाल करती हूं।  लेकिन सैनिटाइजर में मौजूद अल्कोहल के कारण मेरे हाथ अब रूखे बनने लगे है। चूंकि मेरा काम कुछ ऐसा है कि मुझे बार-बार घर से बाहर जाना पड़ता है, इसलिए मैं अपनी व परिवार की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं कर सकती। मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि मैं क्या करूं? आप कोई समाधान बताएं।

उत्तर- इस समय कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए हैंडवॉश पर ध्यान देना बेहद ही आवश्यक है। चूंकि कोरोना वायरस आंखों से नजर नहीं आता है और वह किस सतह से आपके शरीर में प्रवेश कर जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता। इसलिए हाथ धोने में किसी तरह की कोताही ना बरतें। जहां तक बात आपके रूखे हाथों की हैं तो इसके लिए आप कुछ उपाय अपना सकती हैं। मसलन, घर से बाहर होने पर ही सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें।  अगर आप घर पर हैं तो हैंडवॉश से हाथ धोने का प्रयास करें। इसके अलावा, हाथ धोने से स्किन का नेचुरल मॉइश्चर भी चला जाता है, इसलिए नमी को रिस्टोर करने के लिए आप दिन में कम से कम दो हैंड मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल अवश्य करें। इसके अलावा, सप्ताह में एक बार अपने हाथों को स्क्रब जरूर करें। इसके लिए आप बाजार में मिलने वाले स्क्रब इस्तेमाल कर सकती हैं या फिर घर पर भी ऑलिव ऑयल व शुगर की मदद से एक स्क्रब बनाया जा सकता है। साथ ही हर रात सोने से पहले ऑलिव ऑयल या विटामिन ई ऑयल की मदद से हाथों की मसाज करें। कुछ ही दिनों में आपको यकीनन अपने हाथों में अंतर नजर आने लगेगा।

अगर आप भी किसी तरह की ब्यूटी प्रॉब्लम्स के कारण परेशान हैं तो अपनी परेशानी हमसे शेयर करें। हम उसका हल ढूंढने का हर संभव प्रयास करें। आप अपने सवाल हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com ।