हर रिश्ते में ख़ुशी और गम दोनों शामिल  होते हैं।  कोई रिश्ता बिना परेशानी के नहीं चल सकता। समस्याओं का सामना करने के बाद ही रिश्ते का रंग और गहरा हो जाता है।  ऐसे ही शादी के रिश्ते में भी  पार्टनर्स के बीच कुछ समस्याएं होती हैं और उन समस्याओं का समाधान भी ज़रूरी होता है। आइये आपको बताते हैं ऐसी ही कुछ समस्याओं के बारे में जो हर कपल के सामने आती हैं।

किसी ऐसी चीज़ का इस्तेमाल जो रिश्ते में दरार डालती है

किसी भी चीज़ जैसे मोबाइल, टीवी या लैपटॉप का इस्तेमाल ज्यादा समय के लिए लगातार करने से शादी के रिश्ते में दरार पड़ने लगती है। उदाहरण  के तौर पर यदि पार्टनर कुछ बोल रहा है और सामने वाले का ध्यान उसकी बातों में न होकर मोबाइल पर है तो ये एक गंभीर समस्या है।

समाधान: यदि आपका प्रेमी शिकायत कर रहा है कि आप अपने रिश्ते से ज्यादा अपने फोन पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, तो यह एक समस्या है जिसे आपको गंभीरता से लेने की आवश्यकता है, भले ही आप सहमत न हों। सबसे तेज़ समाधान एक साथ बैठकर  समझौता करना है।यह एक समझौता हो सकता है कि दोनों साथी दिन के विशेष समय, जैसे कि रात, भोजन के समय, या जब आप दोनों में से किसी से बात करने की आवश्यकता हो, विशेष समय के दौरान अपने सामाजिक प्रोफाइल को टेक्स्ट, चेक ईमेल या अपडेट नहीं करेंगे। इन सबके लिए एक समय निर्धारित कर लें।

ऑफिस का तनाव घर लाना

ये भी एक गंभीर समस्या है की ऑफिस का तनाव घर पर लाया जाए। कई बार ऑफिस का फ़्रस्ट्रेशन पार्टनर पर निकल जाता है जिससे दोनों के बीच लड़ाइयां होने लगती हैं।

समाधान:एक दूसरे के साथ अपने दिन के अंत की चर्चा करें। हो सके तो ऑफिस की टेंशन घर पर न निकालें। यदि आप अपने साथी को किसी बात से तुरंत गुस्सा महसूस करते हैं, तो पहचानें कि आपकी भावनाएँ आपके साथी से अधिक हो सकती हैं। यदि आपका साथी असभ्य या तड़क-भड़क वाला है, तो इसे व्यक्तिगत रूप से न लें और महसूस करें कि शायद उनका दिन खराब हो गया है। वापस लड़कर चीजों को और बदतर बनाने के बजाय, इसे पल भर के लिए छोड़ देना शायद सबसे अच्छा है।

धन का मैनेजमेंट

शादी में संघर्षों में सबसे आम है पैसे का सही मैनेजमेंट न करना। हम पैसे की लिए हमेशा संघर्ष करते हैं क्योंकि ये हमारी बेसिक आवश्यकता है।  सबसे आम क्षेत्रों में से एक पैसे के बारे में है, इसे कैसे खर्च करना है, और उन चीजों के लिए कैसे बचत करें जो वास्तव में मायने रखती हैं।  पैसे की भावनात्मक वास्तविकताओं को संतुलित करना किसी भी कपल  के लिए काम कर सकता है क्योंकि पैसे के बारे में हमारी भावनाएं इतनी व्यक्तिगत हैं।

समाधान: अपने महीने का बजट बना लें जैसे राशन कितने का लाना है, इलेक्ट्रिसिटी का बिल कितना है या फिर अन्य खर्चे। सीमित साधनों में असीमित आवश्यकताओं की पूर्ती करने की कोशिश करें।  फ़िज़ूल खर्ची न करें।

घर का काम

घर के काम का प्रेशर एक ही व्यक्ति के अंदर होता है जिससे वो खीज जाता है और गुस्से में लड़ाइयां होने लगती हैं। अक्सर ऐसा देखा जाता है की घर का काम महिलाऐं ही करती हैं जबकि पुरुष इससे दूर ही रहते हैं।

समाधान:  गृहकार्य के बारे में बातचीत करें और कार्य को विभाजित करें ताकि यह दोनों पार्टनर्स  के लिए उचित लगे। किसे क्या करना चाहिए यह निर्धारित करने के लिए एक सूची बनाएं। इस सूची का उपयोग इस बात के लिए करें कि वर्तमान में कैसे चीज़ें संभाली जाती हैं और आप उन्हें कैसे संभालना चाहते हैं। कुछ वस्तुओं में शामिल हैं: कार की देखभाल, बच्चे की देखभाल भोजन, घर की सफाई और घर की परियोजनाएं।

ये भी पढ़े-
 

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।