स्वाति की शादी नवंबर में है। वो इस वक्त धीरे-धीरे ही सही लेकिन शॉपिंग करने लगी हैं। उनकी शॉपिंग की खासियत है लाल रंग। हर चीज में लाल रंग का असर वो ढूंढ ही लेती हैं। वो मानती हैं कि लाल रंग के बिना शादी का क्या मतलब। दरअसल भारतीय शादी मतलब हर तरफ लाल ही लाल रंग। मंडप लाल, सजावट लाल, दुल्हन के कपड़े लाल, सिंदूर लाल, बिंदी लाल और लाल रंग की न जाने कितनी ही चीजें होती हैं, जिनका रंग लाल देखा जा सकता है। मगर कभी मन में सवाल उठा है कि ये रंग लाल ही क्यों है? क्यों दुल्हन लाल रंग से ही सजी धजी नजर आती है। कभी तो ये सवाल मन में उठा ही होगा? अगर ऐसा हुआ है तो इसके जवाब जानने के लिए तैयार ही जाइए। भारतीय शादियों खासतौर पर हिन्दू शादियों में लाल रंग की अहमियत से जुड़े रोचक तथ्य ढूंढ लाए हैं हम-
भारतीय संस्कृति-
भारतीय संस्कृति में रंगों की अहमियत वैसे भी बहुत है। इसमें हर रंग के पीछे एक खास सोच को दर्शाया गया है। जैसे सफेद शांति का तो हरा उत्पादकता को दर्शाता है। ठीक ऐसे ही लाल रंग को खुशी और समृद्धि से जोड़ा जाता है। लाल रंग उगते सूरज का रंग भी होता है। इसे उन्नति भी समझा जा सकता है। यही वजह है कि दुल्हनों को लाल रंग पहनने को कहा जाता है, ताकि शादी में भी खुशी का संचार हो। 
मंगल ग्रह से रिश्ता-
मंगल ग्रह को शादियों के मामले में अहम माना जाता है। इसकी स्थिति के हिसाब से ही शादी के अच्छे और बुरे परिणाम को मापा जाता है। इस ग्रह का रंग भी लाल होता है। इसलिए भी शादी में लाल रंग की अहमियत समझी जा सकती है। 
हर कॉप्लेक्शन पर सुंदर-
लाल रंग की एक और खासियत है कि ये थोड़ा बहुत शेड में अंतर करने भर से किसी भी कॉप्लेक्शन पर सूट करता है। दुल्हन गोरी हो या सांवली, उसे पर लाल रंग अच्छा लगता ही है। कह सकते हैं लड़कियों की सुंदरता और बेहतर हो जाती है इस रंग के साथ। फिर क्यों न पहना जाए ये रंग अपनी जिंदगी के इतने खास दिन पर। इस रंग के साथ सुंदर दिखने की मानो गारंटी भी मिल जाती है। 
नई शुरुआत-
जानकारों की मानें तो लाल रंग को नई शुरुआत का चिन्ह भी माना जाता है। शादी जोड़े के लिए जीवन की नई और अहम शुरुआत होती ही है। ऐसे में लाल रंग को शादी के जरूरी हिस्सों में शामिल करना जोड़े के लिए शुभ माना जाता है। कोशिश इसी रंग को चुनने की जाती है। फिर चाहे कपड़े हों या पंडाल, चूड़ी हो या मेकअप, लाल रंग को शादी में शामिल कर ही लिया जाता है। 
चूड़ा और सिंदूर-
लाल रंग की अहमियत को देखते हुए ही शादी में दुल्हन सिंदूर भी लाल लगाती है और फिर चूड़ा भी लाल ही पहना जाता है। 
ये भी पढ़ें-