आपकी शादी बिलकुल तय है बस अब कोरोना का असर कम होने का इंतजार है। पर तैयारियां तो चल ही रही होंगी। कभी कपड़ों की शॉपिंग तो कभी वेन्यू का निर्णय…कभी कैटरर से बातचीत तो कभी खुद के लुक को लेकर ढेरों सवाल। ये दौर कई सारे निर्णय लेने का है। इन्हीं निर्णयों में से एक है ब्राइडल आर्टिस्ट का चुनाव। कौन आपको तैयार करेगा? इस सवाल के जवाब में छुपे हैं कई सारे दूसरे सवालों के जवाब भी, जैसे आपका लुक कैसा आएगा? आपके चेहरे के हिसाब से मेकअप हो पाएगा या नहीं, आप सबसे सुंदर दुल्हन लगेंगी या नहीं? अब अगर ये जवाब साकारत्मक चाहिए तो आपको ब्राइडल आर्टिस्ट का चुनाव बहुत सलीके से करना होगा। आपको ब्राइडल आर्टिस्ट के चुनाव के समय कुछ टिप्स ध्यान रखने होंगे। ध्यान रखना होगा कि आप जो चुनें वो आपके लिए बेस्ट हो-
विज्ञापन पर ना जाएं-
अक्सर वेडिंग सीजन आते ही शहर भर में सैलून के विज्ञापन लग जाते हैं। जिनमें कई सारे डिस्काउंट और ऑफर देकर ब्राइडल मेकअप वहीं से कराने का लालच दिया जाता है। जबकि इन विज्ञापनों को सच मान लेना आपको सिर्फ पछतावा ही करवाएगा। आपको इनकी फैन्सी टैगलाइन से बच कर रहना होगा। इसके लिए उन दोस्तों से संपर्क करें जिन्होंने इन जगहों पर कभी कुछ ट्रीटमेंट करवाया हो। उनसे उनके अनुभवों के आधार पर ही निर्णय लें ना कि विज्ञापनों को सच मान कर। 
सैलून की सुंदरता-
आपको एक्सपर्ट कैसे तैयार करेगा? इसका सैलून की सुंदरता से कोई लेना-देना नहीं होता है। बल्कि पार्लर भले ही छोटा हो लेकिन इसमें साफ-सफाई, सुविधाएं और अच्छे एक्सपर्ट की मौजूदगी ज्यादा जरूरी होती है। 
पार्लर में ज्यादा समय-
जब भी पार्लर का चुनाव करने के लिए निकलें तो थोड़ा ज्यादा समय साथ लेकर जाएं। याद रखें पार्लर को चुनते समय कभी जल्दी में ना रहें। इस काम का निर्णय लेने में थोड़ा ज्यादा समय भी लग सकता है। इसलिए जल्दी में ये काम करने से अच्छा है कि थोड़ा रुकें और सोच-समझ कर ही बेस्ट वाले को चुन लें। 
आपकी बात सुन रहे-
आप जिस भी सैलून में विजिट करें, वहां लोग आपकी बात कितनी सुन रहे हैं, इस बात को तवज्जो दें। ध्यान दें आपकी राय उनके लिए जरूरी है या नहीं। क्या वो आपकी बातों को काट कर आगे बढ़ जाती हैं या फिर आपकी राय के आधार पर ही आगे के निर्णय लिए जा रहे हैं। अगर सामने वाला आपकी बात सुन रहा है तो समझ लीजिए कि यहां आपके हिसाब से ही चीजें होंगी। 
साफ-सफाई-
आपको पार्लर की एक जरूरी चीज पर ध्यान देना होगा। आपको देखना होगा कि वहां पर साफ-सफाई कैसी है? तौलीए साफ इस्तेमाल किए जाते हैं या नहीं। समय-समय पर सेनीटाइजेशन हो रहा है या नहीं। या फिर हाथों के हाइजीन पर ध्यान देना भी एक जरूरी काम होता है। 

यह भी पढ़ें –Wedding Special: देखिए स्टाइलिश वरमाला