googlenews
अबेकस

 

अधिकतर बच्चों को मैथ्स के सबजेक्ट में सबसे ज्यादा परेशानी होती है। इसी कारण मैथ्स में स्टूडेंट्स की रुचि लगातार कम होती जा रही है। जिसकी वजह है फॉर्मूले और स्टेप्स याद करने में आने वाली मुश्किल। लेकिन मैथ सब्जेक्ट ही ऐसा है। समझ में आ जाए तो आपके बच्चे क्लास के हीरो बन सकते हैं वरना जीरो। मैथ का बेसिक फॉर्मूला है कैलकुलेशन करना। जो जितनी तेजी से सवालों को कैलकुलेट करता है वही मैथमैटिक्स जीनियस कहलाता है। और तेजी से कैलकुलेशन कैसे करें इसी ट्रिक को कहते हैं मैंटल मैथ। इसके तहत मैथ जैसे सब्जेक्ट को अबेकस के जरिए आसान व मजेदार ट्रिक से समझाया जाता है। यही नहीं पाइथागोरस की थ्योरम से लेकर अलजेब्रा की बड़ी-बड़ी इक्वेशन आसान तरीके से समझाने के उपाय भी सिखाए जाते हैं।

अगर आप भी अपने बच्चें को मैथ का जीनीयस बनाना चाहती हैं तो आप उसे मैंटल मैथ की क्लासेज ज्वॉइन करा सकती है। जहां उसे न ही मैथ के फॉर्मूले रटने पड़ेंगे और न ही नंबर के जोड़-घटानों में उलझना पड़ेगा। और इसका सबसे बड़ा फायदा उसको भविष्य में होगा। क्योंकि मैंटल मैथ से सीखी गई ट्रिक्स को आसानी से भूला पाना मुश्किल ही है।

अबेकस
आप भी बना सकते हैं अपने बच्चे को मैथ का जीनियस 4

 

     

 

 

 

 

         क्या है मैंटल मैथ ?

 

मैंटल मैथ एक ऐसा हुनर है जिससे बिना पैंसिल, पेपर या किसी इलेक्ट्रानिक डिवाइस के कैलकुलेशन करके कुछ ही सैकेंड्स में सही जवाब प्राप्त किया जा सकता है। मैंटल मैथ एक तरीका है मैटल क्लेकुलेशन करने का। जो कि दिमाग में एक वर्चुअल अबेकस बनाकर सवालों को हल करता है। यह अबेकस की गणना पद्धति के अनुसार काम करता है। इस एक्टिवटी में अबेकस एक टूल है जिसपर बच्चें रोजना प्रयास करते है और ध्यान में रखते हैं किसी प्रशन को हल करने के लिए। इसका प्रयोग करके कोई भी बच्चा 10 संख्या तक की अंकगणित गणना कर सकता है। यही नहीं वह बच्चा गणित में महारत भी हासिल कर सकता है वो भी बिना किसी मॉडन डिवाइस की सहायता के  जैसे – केल्क्युलेटर। 

(उदाहरण के तौर पर 7365 X 2395 = ? इस संख्या को कुछ ही सेकेंड में गुणा करके सही जवाब बताना। इसी कारण ये एक्टिविटी सभी बच्चों के लिए उपयोगी होने के साथ-साथ कलात्मक भी है।)

 

यही नहीं बच्चों में मैंटल मैथ सीखने के साथ-साथ इन गुणों का भी विकास होता है –

 

– अवलोकन

– एकाग्रता

– कलात्मकता

– कल्पना शक्ति का विकास और उसकी अभिव्यक्ति

– स्मृति शक्ति 

– सहन-शीलता

– बेहतर समझ और गणना कौशल।

– स्वयं निर्णय लेने की क्षमता।

– तीव्र सुनने की क्षमता।

 

अबेकस
आप भी बना सकते हैं अपने बच्चे को मैथ का जीनियस 5

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

इन जगाहों पर सिखाई जती है मैंटल मैथ

आजकल ज्यादातर स्कूलों में मैथमैटिक्स पढ़ाने का तरीका मैंटल मैथ के कुछ तरीकों से मिलता-जुलता है लेकिन इसके बावजूद बच्चों को मैथ, नए व रोचक ढंग से सीखाने के लिए कई प्राइवेट संस्था हैं जो मैंटल मैथ के गुर सीखाती है। जहां बच्चें अपने स्कूल होमवर्क के साथ-साथ मैथ्स ट्रिक्स भी सिखते हैं और आजमाते हैं और वो भी खेल-खेल में। ऐसी ही कुछ चुनिंदा संस्था हैं जिनसे संपर्क कर के आप इससे संबंधित अधिक जानकारी ले सकते हैं –

 

अलोहा (alohaindia.com)

अलोहा इंडिया, जिसे चेन्नई में अगस्त, 2002 में स्थापित किया गया था। यह अलोहा इंटरनेशनल की सहायक कंपनी है जोकि 4-13 साल के उम्र तक बच्चों को अबेकस और मैंटल मैथ जैसे प्रोग्राम कराती है। इसके साथ-साथ यहां लैंगवेज क्लासेज, स्पीच एंड ड्रामा, फ्रेंच क्लासेज भी कराई जाती है। यहाँ बच्चों के मानसिक विकास पर अधिक जोर दिया जाता है। 

अधिक जानकारी के इस नंबर पर संपर्क करें – +919871043219,+919910436423

 

गनित सखा जूनियर 

बच्चों के मन से मैथ फीयर को दूर करने के लिए ‘गनित सखा जूनियर’ पिछले कई सालों से काम कर रही है। यहां बच्चों को खेल-खेल में क्रिएटिव ढंग से मैथ पढ़ाया जाता है। सखा की गणित कोच विभा चुग का कहना है कि यहां 6-8 साल के बच्चों को मैथ की इनोवेटिव क्लासेज करवाई जाती है, जहां वो सवालों को दिलचस्प ढंग से हल करते है साथ ही उनका प्रदर्शन भी अपने स्कूल में और भी बेहतर हो जाता है। साथ ही यहां पर बच्चों के पैरेंट्स के लिए भी समर मैथ क्लासेज है जो उन्हें अपने बच्चों की पढ़ाई में मदद करवाता है।

अधिक जानकारी के इस नंबर पर संपर्क करें – 9810279050

 

स्मार्ट किड्स क्रिएशन (www.skcipl.com)

आज के समय में यह संस्था कई शहरों में मैथ इनोवेशन को एक नया आयाम दे रही है। भारत में इसके लगभग 275 सेंटर हैं और 50 हजार बच्चों की संख्या। यहां 3-12 साल तक उम्र के बच्चों को मैंटल मैंथ्स के ट्रिक्स सिखाए जाते हैं। यही नहीं इसके अलावा कैलीग्राफी क्लासेज, लैंग्वेज क्लासेज स्पीच एंड ड्रामा आर्ट भी सिखाया जाता है। 

अधिक जानकारी के इस नंबर पर संपर्क करें –  +919324620236

 

कुमोन (www.kumon.com)

कुमोन भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी किड्स क्रिएटिव एक्टिविटी के लिए जाना जाता है। खासतौर पर मानसिक विकास से जुड़े कार्यक्रमों में के लिए। जैसे – मैंटल मैथ, मैमोरी बूस्टर, स्टोरी क्राफ्ट आदि। यहां ज्यादा जोर बच्चों को जीवन कौशल सीखने पर दिया जाता ताकि वह टाइम मैनेजमेंट बेहतर ढंग से अपना पाएं। यहां पर 2-18 साल तक के बच्चों को एक्टिविटी कराई जाती है।

अधिक जानकारी के इस नंबर पर संपर्क करें –  09015183453

 

अन्य सेंटर –

जोड़ो ज्ञान (jodogyan.org)

यूसीएमएएस (www.ucmas.in)

वैदिक मैथ्स स्कूल (www.sovm.org)

आई मैक्स (www.imaxacademy.co.in)

अमलगा माइंड (www.amalgamind.com)

आरटूंस (www.artoons.in)

 

 

 

 

 

 

 

 

ये भी पढ़ें –

छुट्टियों में बच्चों को रखना है बिज़ी तो ट्राई करें ये सब्सक्रिप्शन बॉक्स 

बच्चों को कराएं आउटिंग के साथ एडवेंचर ट्रिप

”अब रोबोटिक्स देगा बच्चों के सपनों को नई उड़ान”

 

आप हमें फेसबुकट्विटर और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं।