googlenews
Healthy Food for kids
Healthy Foods for Kid in Summer
टीन एज बच्चों को खिलाएं हेल्दी फ़ूड,खाने में शामिल करें रोजाना एक सीजनल फ्रूट
तीन एज बच्चों को खिलाएं सीजनल फ्रूट्स,रोजाना उनके खाने में शामिल करें कम से कम एक फ्रूट

Healthy Food for Kids: जब बात बच्चों की आती है तो हर मां के मन में एक ही सवाल उठता है कि बच्चों को क्या खिलाएं? कैसे खिलाएं??कब खिलाएं? जिससे बच्चा स्वस्थ रहे और अच्छे से खाना खा सके। टीन एज एक ऐसा दौर होता है जहां बच्चे बढ़ती उम्र की तरफ अग्रसर होते हैं। बच्चों का मानसिक और शारीरिक विकास होता है। हार्मोन्स में बदलाव आने शुरू होते हैं। शारीरिक संरचना में बडलाव आने शुरु होतें हैं। अकसर मम्मियां काफी परेशान रहती है कि उनका बच्चा ये नहीं खाता, वो नहीं खाता। ऐसे में मां के लिए काफी परेशानी खड़ी हो जाती है।माता-पिता को उनकी पसंद और सेहत दोनों का ख्याल रखते हैं और डाइट प्लान भी करते हैं। लेकिन कई बार बच्चों को हेल्दी फूड नहीं खिला पाते, ऐसे में बच्चों को कब क्या खिलाएं आइए जानते हैं…

खाना कैसा होना चाहिए और बच्चों को क्या नहीं खिलाना चाहिए?

टीन एज में बच्चों को हेल्थी फूड दें। संतुलित आहार जिसमें रोटी,दाल, चावल,हरि सब्जी,दूध,दही ,फ्रूट,ड्राईफ्रूट इत्यादि शामिल हो। गर्मी के मौसम को देखते हुए अपने बच्चों की डाइट प्लान करें। ज्यादा से ज्यादा पौष्टिक आहार को खाने में शामिल करें।

गर्मी के मौसम में बॉडी को हाईड्रेटेट कैसे रखें

सीजनल फ्रूट –

grehlakshmi
बच्चों की डेली डाइट में सीजनल फ्रूट्स को जरूर शामिल करें।बच्चों को एक सेव रोजाना खिलाएं।

बच्चों के खाने में सीजनल फ्रूट जरुर शामिल करें। गर्मी के मौसम में फ्रूट पेट को ठंडक भी देती है। ऐसे में सीजनल फ्रूट जैसे तरबूज,खरबूज,संतरा,अंगूर,केला,आम,कीवी जैसे फ्रूट मिलते हैं। अगर आपका बच्चा टीन एज में है तो आप उसे ये सारे फ्रूट आसानी से खिला सकते हैं। अगर आपका बच्चा ये फ्रूट सादे तरीके से खाना पसंद नहीं करते या फ्रूट खाने में दिलचस्पी कम है तो उसे शेक, जूस, फ्रूट सलाद के रूप में खिला सकते हैं। तरबूज में पानी काफी मात्रा में होता है।

grehlakshmi
गर्मी के दिनों में बच्चों को केला,आम,सेव,पपीता जैसे फल जरूर खिलाएं

इनमे एंटीओसकीडेन्ट पाया जाता है ।ऐसे में गर्मी में ये बच्चों की बॉडी को हाईड्रेट रखने में हेल्प करेंगे। खरबूजे में ढेर सारा मिनरल्स पाया जाता है साथ ही विटामिन ,विटामिन सीपाया जाता है । कीवी में भरपूर मात्रा में एन्टी ओक्सिडेंट और विटॉमिन सी पाया जाता है। जो बच्चों की बढ़ती उम्र में मदद करती है। संतरा में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है। फ्रूट को सुबह के नाश्ते में या फिर दोपहर में दें।रात को फ्रूट देने से बचें।

हरी सब्जी-

बच्चों के खाने ने ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियां शामिल करें।अकसर टीन एज में बच्चे हरी सब्जी खाने से कतराते हैं। फिर भी कोशिश करें कि आपका बच्चा हरी सब्जी खाये। लौकी, तुरई,पालक,भिंडी,शहजन,मटर ,शिमला मिर्च,बिन्स ,ब्रोकली जैसी चिजों को शामिल करें। यदी आपका बच्चा इन सब्जियों को खाने से बचता है तो आप मिक्स वेज ,या किसी ट्विस्ट के साथ इंटरेस्टिंग रूप में बना कर खिलाएं। उदाहरण के लिए स्टफ्ड पराठा, स्टफ्ड सैंडविच । बच्चा सब्जी न खाए तो आप ग्रीन वेजिटेबल का सूप बना कर भी पिला सकती हैं। हरी सब्जियों में भरपूर मात्रा में आयरन और विटामिन ,मैग्नेशियम,कैल्शियम पाए जाते हैं।

प्रोटीन युक्त चीजें , बढ़ती उम्र में बच्चों की इनर ग्रोथ के लिए प्रोटीन बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।ऐसे में टीन एज बच्चों के लिए प्रोटीन बहुत ही आवश्यक है।खाने में रोजाना एक कटोरी दाल खिलाएं। पीली दाल ,हरी मूंग दाल,चने की ,मसूर की दाल में से किसी भी एक दाल को जरूर चुनें। आप चाहें तो हर दिन अलग दाल को भी खाने में शामिल कर सकती हैं। इससे आपके बच्चे को दाल से बोरियत नहीं होगी ।बदलाव के साथ वो दाल को पसंद के साथ कहा सकते हैं । दाल, से बच्चों को प्रोटीन मिल सकता है।

दूध,दही,पनीर,एग,टोफ़ू अपने बच्चों के ब्रेक फ़ास्ट, लंच या डिनर में प्रोटीन की मात्रा को जरूर शामिल करें।

दूध –

दूध प्रोटीन के लिए अच्छा स्रोत मन जाता है ।बच्चों के लिए काफी अच्छा प्रोटीन माना जाता है ।बढ़ती उम्र में रोजाना ब्रेकफास्ट में बच्चे को 1 गिलास दूध जरूर दें। एक कप दूध में 8.5 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है। यदि बच्चे को दूध सादे रूप में पसंद न हो तो आप शेक बना कर भी दे सकते हैं ।जैसे बनाना शेक,मिल्क शेक,पपाया शेक इत्यादि।

पनीर-

पनीर प्रोटीन के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है। बढ़ती उम्र में बच्चों को पनीर की सब्जी,या पनीर का पराठा दें।

टोफू –

अगर बच्चे को टोफू पसंद हो तो जरूर दें। टोफ़ू प्रोटीन का अच्छा स्रोत माना जाता है ।उसके अलावा कार्बोहाइड्रेट, जिंक, फॉस्फोरस,भी पाए जाते हैं।ये सोया मिल्क से बने होते हैं।ये ग्लूटेन फ्री होता है।

एग –

ब्रेक फ़ास्ट में आप एक बॉयल एग खिला सकती हैं ।एग में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन पाये जाते हैं।दही ,छाछ या लस्सी – दोपहर के खाने में एक कटोरी दही खिला सकती हैं। दही पसंद न हो तो आप छाछ को भुने जीरे और काले नमक के साथ दे सकती हैं।

लस्सी –

गर्मी के मौसम में बच्चे को नमकीन छाछ पसंद न हो तो इसे लस्सी बना कर भी दे सकती हैं। थोड़ा सा रूहआफजा ,थोड़ी आईस मिला कर ट्विस्ट के सा दे सकती हैं। इसे बच्चे ख़ुशी से पी लेंगे।

Leave a comment