साड़ियों की खरीददारी और उनको पहनना हर महिला को बेहद पसंद है। मगर ये पसंद उस वक्त हम पर भारी पड़ जाती है, जब हम अपनी बेशकीमती और मंहगी साड़ियों का रखरखाव सही प्रकार से नहीं कर पाते हैं। नतीजन यां तो साड़ियों का रंग खराब हो जाता है यां फिर उसपर हुए वर्क पर कालापन आ जाता है। अगर आप भी अपने वार्डरोब में रखी साड़ियों को लेकर बेहद चिंतित रहती हैं, तो अब आप इस टिप्स पर गौर करें और अपनी साड़ियों की लाईफ को बढ़ाएं, ताकि आप सालों साल अपनी साड़ियों को पहन सकें।

 

साड़ियों को पीको कराएं

अलमारी में हर मौके के लिए साड़ियां मौजूद होती है। अगर आप लंबे वक्त तक इन साड़ियों को अपने साथ रखना चाहते हैं और उन्हें ग्रेसफुल बनाना चाहते हैं, तो हर साड़ी को फॉल ज़रूर लगाएं और साथ ही उनकी उम्र बढ़ाने के लिए साड़ियों को पीको भी कराएं। अगर आप अपनी साड़ी को और बेहतर लुक देना चाहती हैं, तो आप अपने टेलर से कहकर साड़ी की पल्लों पर आजकल बाज़ार में बिकने वाले बेहतरीन टेसल्स लगा सकती है। जो साड़ी को एक नया लुक प्रदान कर देगा।

वर्क के पीछे नेट लगवाएं

अगर आपकी साड़ी पर हैवी वर्क है और आप उसे सहेज कर रखना चाहती हैं, तो इसके लिए आपको एक खास उपाय करना होगा। आपकी साड़ी पर जहां भी वर्क हो रखा है, उस वर्क के पीछे आपको नेट  लगवानी चाहिए, ताकि कढ़ाई का कोई धागा निकल न जाएं। अक्सर साड़ियों पर होने वाले हैवी वर्क से ज्वैलरी अटकती है और उससे साड़ी का वर्क खराब हो जाता है। तो ऐसे में आप न सिर्फ साड़ी की बैक साईड पर नेट लगवा सकते हैं, बल्कि साड़ी के बैक साइड पर निकले हुए धागों पर सुई की मदद से छोटे छोटे टांके लगा दें, ताकि कोई धागा खिच न पाएं।

 

ब्लाउज का फैब्रिक अलग ले सकते हैं

कई बार साड़ी की लेन्थ कम लगती है। ऐसे में आप साड़ी के साथ अटैच ब्लाउज़ को न काटें और साड़ी के लिए ब्लाउज़ का पीस अलग से ले लें। इसके अलावा आप किसी अन्य साड़ी का प्लेन ब्लाउज़ भी पहन सकती हैं। साथ ही आप अपने वार्डरोब में काला, सफेद, ऑफ व्हाइट या फिर बेज कलर का ब्लाउज़ ज़रूर रखें। ताकि ज़रूरत के समय आप मिक्स एंच मैच करके इन ब्लाउज़ का अन्य साड़ियों के साथ इस्तेमाल कर सकें।

 

स्लिक की साड़ियों को सफर में न पहनें

अगर आप कभी रेल यां फिर बस से सफर कर रही हैं, तो ऐसे में स्लिक की साड़ियों को पहनने से बचें। दरअसल] स्लिक की साड़ियों के रेशे बेहद कोमल और मुलायम होते हैं] जो आसानी से खिंत्र सकते हैं। ऐसे में स्लिक की साड़ियों को अन्य बडे़ अवसरों के लिए बचा के रखें।

 

परफ्युम से बचाएं

कई बार हम खूब सारा परफ्यूम साड़ियों पर छिड़क लेते हैं। अगर कोई आम साड़ी होगी] तो उसे कोई भी नुकसान नहीं होगा] लेकिन मंहगी साड़ियों और खासकर जरी की साड़ियों पर परफ्यूम लगाने से बचें। अन्यथा साड़ियों की जरी काली पड़ जाती है] जिससे साड़ी की चमक और उसका लुक खराब हो जाता है।

 

जब धोनी हो साड़ी

धोने से पहले ये हमेशा याद रखें कि कहीं ने साड़ी कटी तो नहीं है। अगर आपकी साड़ी कहीं से फटी हुई हैं यां उसका फॉल उधड़ गया है, तो साड़ी को धोने से पहले ज़रूर रफू कर लें। इससे साड़ी की न सिर्फ लाइफ बढेगी बल्कि टांकों के निशान भी मिट जाएंगे। अगर आप फटी हुई साड़ी को धोने लगते हैं, तो कई बार धोते धोते वो ज्यादा खींच जाती है और साड़ी के ज्यादा फटने का खतरा भी रहता है।

 

सिल्क साड़ी को कैसे धोएं

अगर आप स्लिक की साड़ी धोने लगी हैं, तो इसके लिए आप उबले हुए आलू का पानी छानकर उसका भी इस्तेमाल कर सकती है। स्लिक की साड़ी को वाशिंग मशीन में धोने से बचें। इसको केवल डराई क्लीन ही करवाएं] ताकि साड़ी सालों साल तक चलें और खराब न हो। स्लिक की साड़ी को धोने के बाद उस पर गोंद का कलफ ज़रूर लगाएं। इसके अलावा स्लिक की साड़ी को धूप की बजाय छांया में सुखाएं। सबसे  खास बात ये है कि स्लिक की साड़ी को धोने के बाद निचोड़ना नहीं चाहिए, इससे पूरी साड़ी पर सिलवटें आना का खतरा रहता हैं। स्लिक की साड़ी जब सूखने लगे, तो उसे प्रेस कर दें अन्यथा साड़ी के पूरे सूखने के बाद प्रेस करने से साड़ी पर पानी के निशान रह जाते हैं। स्लिक की साड़ी पर हल्की गर्म प्रेस का इस्तेमाल करें और हमेशा साड़ी को उलटाकर ही प्रेस करें।

 

साड़ियों का रखरखाव

बाहर से आते ही चेंज करने के बाद साड़ी को बेतरतीबी से न रखें और यहां वहां न फेंके।

साड़ी को उतारने के बाद कुछ देर हेंगर में टांगकर रख दे और फिर अलमारी में रख दें।

हर बार साड़ी को चरक चढ़वाकर न पहने।  दरअसल, साड़ी पर बार बार चरक चढ़वाने से साड़ी का कपड़ा कमज़ोर हो जाता है और उसकी लाइफ धीरे धीरे खत्म होने लगती है।

साड़ी को तह लगाकर एक ही जगह पर न रखें। खासतौर से स्लिक की साड़ियों को कुछ दिन बाद खोल कर फिर तह लगाएं और उसे रखने की जगह बदलती रहें यां फिर साड़ी की तहों के बीच आप लौंग रख दें, ताकि किसी प्रकार का कीड़ा साड़ी को नुकसान न पहुंचा पाए। इसके अलावा कीड़ों से बचाव के लिए आप साड़ियों पर चंदन पाउडर भी छिड़क सकते हैं।

स्लिक की साड़ियों को रखने से पहले बाक्स में नीम की पत्तियां रखकर अखबार बिछा दें। फिर कपड़े में साड़ी लपेटकर वहां रख दें।

बॉक्स में साड़ी रखने के बाद इस पर कोई भारी साड़ी न रखे। 

स्लिक की साड़ियों को खासतौर से मलमल के किसी पकड़े यां फिर कपड़ों से बने बैग में डालकर रखें।

सफेद रंग यां फिर किसी भी हल्के रंग की स्लिक की साड़ी को टीशू पेपर में लपेट कर रख दें, ताकि वो पीली न पड़ जाए।

आप अगर अलमारी में साड़ियों को हैगर में टांगकर रखती है, तो इससे साड़ियां काफी अच्छी अवस्था में रहती हैं। 

फैशन संबंधी हमारे सुझाव आपको कैसे लगे? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। आप फैशन संबंधी टिप्स व ट्रेंड्स भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-editor@grehlakshmi.com

यह भी पढ़ें  निकलते हैं होठों पर पिंपल्स, इन नुस्खों से मिलेगा आराम