अंतरंग पल

जरा सोचिये कि आपने मजाक-मजाक या बस यूं ही अपने मोबाइल या कैमरे से अंतरंग पलों की फोटो खिंची हो या फिर वीडियो बनाई हो, उन पलों को कैमरे में कैद करने के बाद आप उन्हें भूल चुके हों। लेकिन क्या हो जब कई सालों बाद आपके उन आनंद वाले पलों की फोटो व वीडियो का पोर्न साइट्स पर लोग आनंद उठा रहे हों, मतलब आपके वो अंतरंग पल सार्वजनिक हो जायें तो आपकी हालत क्या होगी? सोच कर ही हो गये ना होश फख्ता। आपके साथ तो केवल सोच में ऐसा हुआ है, जरा अनुमान लगाइये जिनके साथ ऐसा हकीकत में हुआ होगा उन लोगों का क्या हाल हुआ होगा?

मैं कोई मजाक नहीं कर रही हूं, ऐसा हादसा लोगों के साथ हकीकत में हो चुका है। जी हां, हाल ही में एक खबर लोगों के बीच खासी चर्चा का विषय बनी हुई थी कि एक पति-पत्नी ने कुछ छह साल पहले अपने और अपनी पत्नी के बीच के अंतरंग पलों की वीडियो अपने फोन से बनाई थी और उसे बनाने के बाद वो उस वीडियों के बारे में बिलकुल भूल गये। छह साल बाद उन्होंने अपना फोन बेच दिया लेकिन फोन बेचने से पहले वो उसका मैमोरी कार्ड निकालना भूल गये, जिसका खामियाजा कुछ इस तरह भुगतना पड़ा, उनके अंतरंग पलों की वो वीडियो पोर्नसाइट पर डाल दी गई और लोगों ने उसका जमकर लुत्फ उठाया। रातों-रात वो पोर्न स्टार की श्रेणी में आकर खड़े हो गये।

इत्तेफाक से एक दिन वो वीडियो उन महाशय के एक दोस्त ने देख लिया, तुरंत उसके बारे में महाशय को भी सूचित कर दिया। अब क्या होना था जब चीडिय़ा खेत चुग चुकी थी। उन महाशय की व्यक्तिगत जिंदगी का तमाशा बन चुका था। आगे और क्या हुआ होगा उसके बारे में आप सहज ही अंदाजा लगा सकते हैं। ऐसे खौफनाक हादसे का शिकार कोई गलती से भी नहीं होना चाहेगा। जांच-पड़ताल के बाद पता चला कि उन्होंने जब फोन बेचा तो उसमें से मैमोरी कार्ड निकालना भूल गये थे, जिससे उसमें सेव की गई यह वीडियो किसी दूसरे के हाथ लग गई और उसने तुरंत मौके का फायदा उठाते हुए वीडियो को पोर्न वीडियो के बाजार में पहुंचा दिया।

नित दिन नयी-नयी तकनीक आने से जहां हमारा जीवन काफी सरल हो गया है, वहीं दूसरी तरफ इन तकनीकों के गलत इस्तेमाल ने हमारे जीवन के लिये कई समस्याएं भी पैदा कर दी हैं। आजकल अधिकतर लोगों के पास कैमरे वाला मोबाइल है और उस कैमरे का वो धड़ल्ले से इस्तेमाल भी कर रहे हैं, जिसे देखो वही अपनी फोटो क्लिक करवा रहा है या फिर खुद ही क्लिक कर रहा है, जिसे कुछ बुद्धिजीवियों ने सेल्फी का नाम दे दिया है। आड़े-टेढ़े मुंह बनाकर कहीं पर भी चाहे वो बाथरूम में नहाते हुए ही क्यों ना अपनी फोटो क्लिक कर रहे हैं और उन्हें सोशल साइट्स पर भी अपलोड कर रहे हैं।

खैर छोडिय़े, यहां हम ‘सेल्फी खींचने वालो को कोसने नहीं बैठे हैं, यहां हम बात कर रहे हैं ऐसे लोगों की जो अपने अंतरंग पलों को भी कैमरे में कैद करने की गलती करते हैं। जी हम इसे गलती ही कहेंगे क्योंकि इसमें कोई भलाई नहीं छिपी होती है। अब इसी मामले को ले लीजिये आखिर उन महाशय को क्या जरूरत थी अपने निजी पलों को मोबाइल में कैद करने की। क्या ऐसे लोगों को निजी या अंतरंग पलों का मतलब नहीं पता? निजी पल आपके और आपके पार्टनर के अलावा किसी तीसरे के लिये नहीं होते हैं चाहे वो कैमरा ही क्यों ना हो?

बचपन में सभी ने स्कूल में एक पाठ तो जरूर पढ़ा होगा ‘विज्ञान कैसे वरदान से अभिशाप बन जाता है। बचपन में पढ़ाई के माध्यम से कई सीख आपको स्कूल में दे दी जाती हैं, जिन्हें केवल परीक्षाएं पास करने के लिये ही नहीं दी जाती हैं, वे इसलिये भी दी जाती हैं, जिन्हें आप समझकर भविष्य में अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिये कर सकें। चलिये अगर मान लें कि बचपन की सीख बड़े होकर कहां याद रहती है, लेकिन अपना एक कॉमन सेंस तो होता है, जिसका इस्तेमाल कर आप खुद को ऐसी शर्मिंदगी से बचा सकते हैं। माना तकनीक आपके जीवन को सरल और सहूलियतों भरा बनाने के लिये है लेकिन इन तकनीकों का जरा संभलकर इस्तेमाल करें क्योंकि जब इनका थोड़ा भी गलत इस्तेमाल हो तो स्थिति विस्फोटक हो जाती है। कृपया अपने कैमरे में यादगार और खुशनुमा पलों को कैद कीजिये, जिन्हें किसी को भी दिखाने पर आपको शर्मिंदगी ना उठानी पड़े। अगर अभी भी कुछ लोगों को ये बात समझ नहीं आई तो शायद ऐसी शर्मिंदगी उठाने में अगला नंबर आपका हो सकता है।