World Pneumonia Day
वर्ल्ड निमोनिया डे

निमोनिया सांस से जुड़ी एक ऐसी बीमारी है, जो अमूमन छोटे बच्चों को प्रभावित करती है। लेकिन कई बार बड़े भी इसका शिकार होते हैं। आज वर्ल्ड निमोनिया डे है, हमारे लिए जरूरी है कि हम इस बीमारी से जुड़े हर पहलू को जानें। फरीदाबाद स्थित एशियन अस्पताल के रिस्पायरेट्री मेडिसन के एसोसिएट डायरेक्टर डॉ मानव मनचन्दा से इस बारे में विस्तार से जानते हैं।  

क्या है वायरल निमोनिया?

वायरल निमोनिया के लक्षण

वायरल निमोनिया फेफड़ों का संक्रमण है जो वायरस के कारण होता है। बच्चों और बुजुर्गों को आम तौर पर वायरल निमोनिया अधिक होता है। वयस्कों में निमोनिया के अधिकांश मामलों का कारण बैक्टीरिया होते हैं। वायरल निमोनिया के लक्षण हल्के या घातक हो सकते हैं और इसमें खांसी, सांस की तकलीफ, घरघराहट, सीने में दर्द, बुखार और ठंड लगना शामिल हैं।

बुजुर्गों, छोटे बच्चों, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों और पुराने रोग वाले लोगों को निमोनिया से जटिलताएं होने का अधिक खतरा होता है। निमोनिया के इलाज के तौर पर घर पर आराम और स्वयं की देखभाल, या अस्पताल में भर्ती होना और ऑक्सीजन थेरेपी शामिल हो सकते हैं, जो लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करता है। इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण होने वाले निमोनिया का इलाज एंटीवायरल दवाओं से किया जा सकता है। अधिकतर लोग वायरल निमोनिया से लगभग 1 से 3 सप्ताह में ठीक हो जाते हैं।

वायरल निमोनिया के लक्षण

वायरल निमोनिया के लक्षण

खांसी, शरीर में दर्द, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, जोड़ों का दर्द, थकान, सांस की तकलीफ, बात करने में कठिनाई

निमोनिया का निदान और इलाज 

निमोनिया का निदान और इलाज

निदान : 

डाॅक्टर के द्वारा शारीरिक परीक्षण, चिकित्सा इतिहास की जानकारी के बाद रक्त परीक्षण, छाती का एक्स-रे और थूक परीक्षण, यदि डाॅक्टर ने सलाह दी हो।

इलाज : 

1. एंटीवायरल थेरेपी

2 ऑक्सीजन

निमोनिया के लिए स्वयं की देखभाल 

निमोनिया के लिए देखभाल

निमोनिया गंभीर हो सकता है, इसलिए निमोनिया का इलाज स्वयं की देखभाल के साथ करने से पहले अपने डॉक्टर को दिखाना महत्वपूर्ण है।

निमोनिया के लिए स्वयं की देखभाल में शामिल हो सकते हैं – 

1. इस समय जरूरी है कि आप पर्याप्त आराम करें। यदि बच्चे को निमोनिया है, तो उसके भरपूर आराम पर ध्यान देना चाहिए। 

2. धूम्रपान किसी भी लिहाज से अच्छा नहीं है। निमोनिया तो सांस से जुड़ी बीमारी है। इसमें तो धूम्रपान बहुत नुकसान कर सकता है। 

3. यदि आवश्यक हो तो दर्द निवारक दवा दें। बच्चों और किशोरों को एस्पिरिन न दें, क्योंकि यह रीये’ज सिंड्रोम पैदा कर सकता है, जो एक दुर्लभ, लेकिन घातक स्थिति है। 

4. अधिक मात्रा में तरल पदार्थ पीने से आराम मिलता है। इसलिए इस पर जरूर ध्यान दें। 

खांसी आपके फेफड़ों से संक्रमण को साफ करने में मदद करती है, इसलिए कोई भी कफ सिरप का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।

निमोनिया के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

निमोनिया के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

यदि आपके या आपके जान- पहचान में वायरल निमोनिया के लक्षण हैं, तो अपने डॉक्टर को बताएं। अगर ठंड या फ्लू के लक्षण में सुधार नहीं हो रहा है या लक्षण और खराब हो रहे हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करें। यदि आपको सांस लेने में कठिनाई, अत्यधिक कमजोरी, सीने में तेज दर्द, खांसी में खून आ रहा हो या डिहाइड्रेशन हो, तो तत्काल चिकित्सीय मदद लें।

Leave a comment