योनि में सूखेपन की समस्या कई महिलाओं को हो सकती है, जो आम भी है। लेकिन मेनोपॉज के बाद योनी में सूखापन एक तरह के सिंड्रोम के होलमार्क का संकेत भी है। मोनोपॉज के दौरान योनि के ऊतक काफी हद तक पतले हो जाते हैं। जिनके चलते मोनोपॉज के दौरान उस जगह के एस्ट्रोजन का स्तर भी काफी कम हो जाता है। ऐसे में कई तरह की परेशानियां भी महिलाओं को झेलनी पड़ सकती हैं। ये ऐसी परेशानियां होती हैं जो उनकी सेक्स लाइफ को भी प्रभावित कर देती हैं। एक उम्र के बाद महिलाओं को इस समस्या से सामना करना ही पड़ता है। ऐसे में आपको डॉक्टर एक अच्छी सलाह दे सकता है। लेकिन आज हम अपो इस लेख के जरिये ऐसे इलाज भी बताएंगे जो आपके लिए काफी आसान होंगे। तो चलिए बढ़ते हैं आगे। 

  1. मॉइस्चराइज़ करना भी जरूरी-योनिके सूखेपन को दूर करने के लिए इससे बेहतर कोई दूसरा उपचार हो ही नहीं सकता। आप हर रोज योनि को मॉइस्चराइज़ करें। इससे योनि के ऊतक हेल्दी रहते हैं और योनि में सूखापन भी महसूस नहीं होता है।

  2. योनि ल्युब्रिकंट्स– योनि में सूखेपन से छुटकारा पाने के लिए आप ल्युब्रिकंट्स के बारे में एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरुर ले लें। सेक्स के दौरान दर्द को कम करने और सेक्स से जुड़ी किसी भी तरह की गतिविधि के दौरान आप इसे अप्लाई कर सकती हैं।

  3. योनि के एस्ट्रोजन को करें कंट्रोल-योनि के ऊतकों को हेल्दी और मजबूत बनाए रखने के लिए एस्ट्रोजन की जरूरत सबसे ज्यादा होती है। ना तो इसकी मात्रा कम होनी चाहिए और ना ही ज्यादा। आप इसके लिए डॉक्टर से सलाह लेकर एक अच्छी एस्ट्रोजन क्रीम या टैबलेट का इस्तेमाल करें। आप चाहें तो अपने डॉक्टर से कम एमजी के एस्ट्रोजन का उपचार कर सकते हैं। लेकिन यहां आपको एक बात ये भी ध्यान में रखनी है कि आगर आपको ब्रेस्ट कैंसर है तो योनि से जुड़े किसी भी तरह के एस्ट्रोजन उपचार को करने से पहले किसी डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह जरुर लें।

  4. ऐसे मिलेगा दर्द से छुटकारा– जाहिर सी बात है कि अगर योनि में सूखापन है तो सेक्स के दौरान दर्द को भी झेलना पड़ सकता है। ऑसपेमिफेन का इस्तेमाल योनी में एस्ट्रोजन की कम मात्रा को सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है। इस तरह का उपचार वो महिलाएं बिलकुल भी ना करें जिन्हें ब्रेस्ट कैंसर है या ब्रेस्ट कैंसर का खतरा ज्यादा है।

  5. डीहाइड्रोएपिअंड्रोस्टेरोन– डीहाइड्रोएपिअंड्रोस्टेरोन यानि की डीएचइए मोनोपॉज के बाद या उसके दौरान योनि में होने वाले सूखेपन की वजह को नियंत्रित करता है । एस्ट्रोजन को बढ़ाने के लिए खास तरीके से इसकी मदद उपचार में ली जाती है। सेक्स के दौरान होने वाले दर्द की वजह सूखापन होती है। और ये उपचार खास तौर पर सूखनेपन को दूर करता है।

उम्र के हर तरह के पड़ाव में महिलाओं के के शरीर को बहुत कुछ झलना पड़ता है। महिलाओं का शरीर सबसे ज्यादा मोनोपॉज के बाद के बदलाव को झेलता है। जहां योनि में सूखेपन के साथ-साथ दारद और कई तरह की गम्भीर समस्याएं होने लगती हैं। ये समस्याएं ज्यादातर योनि में सूखेपन की वजह से होती हैं। यहां हमने एस्ट्रोजन के वजह से होने वाले सूखेपन का इलाज आपको बताया है। अगर आपको फिर भी समस्या हो रही है तो एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरुर लें। 

यह भी पढ़ें-

सुरक्षित मातृत्व के लिए जरूरी हैं कुछ बातें

क्यों होता है महिलाओं के मूड और व्यवहार में पल पल बदलाव