प्रेगनेंसी हर महिला के जीवन में एक ऐसा दौर होता है, जब वह बहुत खुश होती है। अपने पेट के अंदर एक नए जीवन को पालती- पोषती स्त्री के लिए वे 9 महीने बेहद कष्ट भरे भी होते हैं। इस समय वह जो भी खाती या पीती है, उस सबमें हिस्सेदारी उसके बच्चे की भी होती है। वह जैसा महसूस करती है,जैसा उसका स्वास्थ्य होता है, वैसा ही उसके बच्चे का भी होता है। इसलिए इन 9 महीनों में एक प्रेगनेंट महिला कोई भी ऐसा काम नहीं करना चाहती, जिससे उसके बच्चे को तकलीफ पहुंचे। इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान अपने खान- पान के साथ ही आपको उन एक्टिविटीज का भी ध्यान रखना चाहिए, जो आप करती हैं। कुछ एक्टिविटीज करना तो सुरक्षित रहता है लेकिन कुछ ऐसी होती हैं, जिनसे आपको सीधे परहेज करना चाहिए। ऐसे ही कुछ काम हम यहां लिस्ट कर रहे हैं, जिनसे इन 9 महीने एक प्रेगनेंट स्त्री को परहेज करना चाहिए।

भारी सामान उठाना या फर्नीचर खिसकाना

आपको भले ही यह काम छोटा स लगे, लेकिन आपको किसी भी फर्नीचर को खिसकाने से बचना चाहिए। इसी तरह कोई भी भारी चीज उठाने से बचना चाहिए। इस समय हार्मोनल बदलावों की वजह से आपके जोड़ों के टिश्यू ढीले पड़ जाते हैं और आपको चोट लगने की आशंका ज्यादा रहती है। ऐसे में अगर आप ये इन करती हैं तो आपकी पीठ पर असर पड़ सकता है और आपको चोट लग सकती है।

लंबे समय तक खड़े रहना

लंबे समय तक खड़े रहने वाले किसी भी काम को करने से आपको बचना चाहिए। ऐसा खास कर सुबह नहीं करना चाहिए क्योंकि इस समय प्रेगनेंट महिला को थकान और मॉर्निंग सिकनेस ज्यादा रहती है। लंबे समय तक खड़े रहने से आपके पैर पर प्रेशर पड़ता है, जिससे सूजन आ सकती है और पीठ में दर्द भी हो सकता है। अगर आपको खाना बनाना ही है तो अपने को बीच- बीच में ब्रेक देते रहें और देर तक खड़े ना रहें।

झुकने से बचें

झाड़ू- पोंछा करना, कपड़े धोना जैसे काम करने के लिए झुकने की जरूरत पड़ती है। प्रेगनेंसी में ऐसा करना बिल्कुल सही नहीं है। इस समय प्रेगनेंसी से वजन बढ़ जाता है और शरीर की ग्रैविटी में शिफ्ट आ जाता है। इस समय झुकने से साइएटिक नर्व (पीठ के निचले हिस्से से लेकर पैर तक) के लिए झुकना जोखिम भरा हो सकता है। इसलिए, यदि आपको कभी भी किसी काम को करने में जरा भी तकलीफ महसूस हो तो उसी समय उस काम को करना बंद कर दें।

चढ़ना या संतुलन वाला काम

आम दिनों में भी अगर आपका बैलेंस बिगड गया तो लेने के देने पड़ जाते हैं। ऐसे में प्रेगनेंसी के दौरान तो स्टूल या सीढ़ी पर चढ़ना जोखिम भरा है। आपके अंदर एक जीवन पल रहा है, आपका वजन बढ़ चुका होता है, ऐसे में खुद को संतुलित करके चलना ही बड़ा काम है, फिर चढ़ना तो मुश्किल होगा ही! इससे बच्चे को दिक्कत हो सकती है, प्री टर्म लेबर या प्लेसेंटा का प्री मैच्योर सेपरेशन होने का खतरा रहता है। अपने लिए न सही, अपने बच्चे के लिए ऐसे काम में दूसरों की मदद लेने से बिल्कुल न हिचकिचाएं।

केमिकल क्लीनिंग प्रोडक्ट या पेस्टिसाइड का प्रयोग

कई स्टडीज बताते हैं कि पेस्टिसाइड में पाइपेरोनील बटऑक्साइड नामक एक केमिकल पाया जाता है, जो भ्रूण के ब्रेन डेवलपमेंट को खतरा पहुंचा सकता है। इस तरह के कॉम्प्लीकेशन से बचने के लिए आपको इन्सेक्टिसाइड और अन्य क्लीनिंग प्रोडक्ट्स से बचकर रहना चाहिए। आपको घर की हर चीज टॉक्सिक पदार्थ रहित खरीदनी चाहिए।

ये भी पढ़ें – 

अपनी पोस्टपार्टम ब्यूटी का ऐसे रखें ध्यान 

प्रेगनेंट होना चाह रही हैं? अपनी उम्र के अनुसार जाने कुछ जरूरी बातें