बरसात का महीना शुरू हो गया है ऐसे में खीरे ककड़ी की फसलों को उगाने का सही महीना कहा जाता है। लेकिन इन फसलों को उगाने के लिए क्या कुछ करना पड़ता है, इसको जानना भी बेहद जरूरी है। आमतौर पर अगर आप अपने घरों में सब्जियों को उगाना चाहते हैं तो किस तरह की मिट्टी हो और हवा पानी के साथ-किस तरह की रखरखाव की जाए इसे भी जानना जरूरी है।

खीरा ककड़ी खाने से शरीर में पानी की कमी दूर होती है साथ ही इसको खाने से पाचन तंत्र भी दुरुस्त भी रहता है। पेट भी भरा-भरा रहता है। अगर आप इसको घर में ही उगाना चाहते हैं तो इसे उगाने की सबसे खास बात तो यह है कि आप इसे किसी भी गमले या फिर कंटेनर में उगा सकते हैं। इसको उगाने के लिए आपको किसी बगीचे/पेड़ों की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। 

खीरा उगाने के आसान टिप्स-

• गमले का आकार चुनें।

• गमले को मिट्टी से भर लें

• मिट्टी में बीज खाद्य डालने के बाद गमले में पानी का निकास बनाएं

• बीज को रोपने के बाद देखरेख करें

• धूप और पानी देते रहें

कहां उगा सकते हैं आप खीरा-

गमले में उगा सकते हैं खीरा

खीरा उगाने के लिए जरूरी है कि आप सबसे पहले गमले का आकार चयनिक करें। गमला के आकार की बात करें तो गमले का आकार कम से कम 12 इंच गहरा हो जिसे आप घर पर कहीं भी आसानी से रख सकते हो। खीरा को गमले में पानी निकलने के लिए भी जगह जरूर छोड़े यानि कि गमले के नीचे की ओर से एक छोटा छेद जरूर करें।

मिट्टी या खाद्य

खीरे की फसल को उगाने और पोषण देने के लिए बीज को डालने से पहले गमले को मिट्टी और खाद्य को पूरी तरह परख लें और गमले को पूरी तरह भर लें। ऐसा करने से पौधे को पूरी तरह पोषण मिलेगा।

बीज डालें

खीरे को उगाने के लिए सबसे पहले आप मिट्टी या खाद्य डालने के बाद इसमे एक पानी का निकास बनाएं। फिर इसके बाद इसमें ऊपर से बीज को बोएं। पानी का निकास बनाने के लिए आप पेन, पेनसिंल की आप मदद भी ले सकते हैं।

पानी और धूप

किसी भी पौधे को रोपण करने से पहले उसके बारे में जानना बेहद जरूरी है। गमले में खीरे के बीज को रोपने के बाद उन्हें सही मात्रा में धूप और पानी देते रहे। ताकि पौधे का विकास अच्छे से हो सके। बस, कुछ ही दिनों में खीरे की बेल निकलती नजर आने लगेगी।

अंगूर की बेल– बरसात के सीजन में आप अंगूर या खीरे की बेल को गमले में उगा सकते हैं। खीरे की लंबी लताएं होती हैं । जो या तो जमीन के साथ-साथ चल सकती हैं, छोटे टीले से उग सकती हैं, या बेहतर अभी तक, एक जाली या बाड़ की तरह एक समर्थन पर चढ़ सकती हैं। खीरे को लंबवत रूप से उगाने से आपके बगीचे की जगह भी बच जाती है और आपकी फसल भी बढ़ जाती है।

खीरे की बेल-खीरे की झाड़ी की किस्में छोटी होती हैं और कंटेनर उगाने के लिए आदर्श होती हैं, लेकिन बेल की तुलना में कम प्रकार और किस्मों में उपलब्ध होती हैं।

खीरा कहां लगाएं

खीरे के प्रकार को चुनने के लिए अपने बगीचे की जगह का आकलन करें। जमीन पर उगाए गए अंगूर के खीरे को पौधों के बीच चार फीट की जगह की आवश्यकता होगी, लेकिन जाली वाले खीरे को केवल एक फुट की दूरी की आवश्यकता होती है। ग्रोथ, डर्ट, ग्रो, ग्रोइंग, अर्थ, इको, ग्लव्स, एनवायरनमेंटल, आइडिया, लैंड, वर्किंग, क्लोज अप, चीयरिंग, कॉन्सेप्टुअल, इकोलॉजिकल, एन्जॉयमेंट, एक्साइटमेंट, फर्टिलिटी, नर्सरी, प्रोड्यूस, रो, स्मॉल बिजनेस, सक्सेस, सस्टेनेबिलिटी अंकुर, रोपण, सब्जी के लिए आप खीरे को लगा सकते हैं।

यह भी पढ़ें-

हर्ब्स जो हमारे शरीर का एनर्जी लेवल बढ़ाते हैं