अभिनेत्री, योग प्रशिक्षक और आईपीएल की को-ओनर होने के बाद गहनों के व्यवसाय में कदम रखकर कैसा लगा रहा है? 

बहुत अच्छा लग रहा है। ज्वैलरी के इस नए व्यवसाय से मैं बहुत खुश हूं और मैं इस व्यवसाय को और भी आगे ले जाना चाहती हूं। अभी तो शुरूआत है इसलिए अभी काफी मेहनत करनी पड़ेगी।

 

गहनों के व्यवसाय में आने की कोई खास वजह है?

जी नहीं, ऐसा कुछ नहीं है। यह राज का बिजनेस पहले से था और वह इसको नई सोच के साथ आगे बढ़ाना चाहते थे, जिसमें मैंने उनका पूरा साथ दिया।

सुनने में आया है कि आपने अपनी कंपनी के लिए गहने खुद डिजाइन किए हैं?
जी हां, यह सच है क्योंकि मुझे ज्वैलरी बहुत पसंद है और मुझे जो पसंद होता है, मैं वो काम खुद भी करने का प्रयास करती हूं।

 

‘सतयुग गोल्ड कंपनी’ की ज्वैलरी अन्य ज्वैलरी कंपनीज़ से कितनी अलग है?

देखिए, मैं ये तो नहीं कह रही हूं कि मेरी कंपनी की ज्वैलरी सभी ज्वैलर्स से अलग है। पर हां, मैं इतना जरूर कहूंगी कि ‘सतयुग गोल्ड कंपनी’ में आपको ट्रेंडी और स्टाइलिश ज्वैलरी जरूरी मिल जाएगी।

क्या आपने ग्राहकों की पसंद को ध्यान में रखकर ज्वैलरी डिजाइन की है?

जी हां, इस बात का तो मैंने खास ध्यान रखा है। सिर्फ इतना ही नहीं, मैंने गहनों को थीम में बांटा हुआ है, जिसका नाम है ‘नजर’। इसमें पेंडेंट, मंगलसूत्र और ब्रेसलेट हैं, जिसको कभी भी किसी भी अवसर पर पहना जा सकता है।

 

 

 

 

 

 

 

 

क्या आपने भी दूसरी ज्वैलरी कंपनी की तरह ज्वैलरी में कोई स्कीम या प्लान रखा है?
यह सच है कि प्लान हमने भी रखा है, पर हमारा प्लान इन सबसे बहुत अलग है। हमारी कंपनी का प्लान है ‘मेरा गोल्ड प्लान’। इस प्लान का फायदा उन लाखों लोगों के लिए, जो हर महीने सोना खरीदने की हैसियत नहीं रखते, अब वो लोग भी सोना खरीद पाएंगे। इस स्कीम के अंतर्गत कोई भी हर दिन 50 रुपये या फिर हर महीने 1000 हजार रुपये खर्च कर शुद्ध सोना खरीद सकता है। ‘मेरा गोल्ड’ की खास बात यह है कि इस स्कीम में न कोई लॉक इन पीरियड होगा, न कोई हिडन चार्ज और न कोई मेकिंग चार्ज। कंपनी इसकी सौ फीसदी गारंटी लेती है कि सोना शुद्ध 24 कैरेट का होगा और इसके स्टोरेज पर कोई चार्ज नहीं लगेगा।

 

 

 

आपको क्या लगता है निवेश का यह सबसे अच्छा जरिया है?

बिल्कुल, निवेश का इससे अच्छा तरीका और क्या हो सकता है। ज्वैलरी खरीदते समय किसी को पता भी नही चलता कि उसने कितने रुपये इकट्ठे कर लिए हैं। जितना रुपया गोल्ड में मिलता है उतना डायमंड में नहीं। इसलिए मैं तो महिलाओं से यही कहूंगी कि अगर इंवेस्ट करना है तो गोल्ड में करो।

 

जैसा कि आपने बताया कि आपको गहने बहुत पसंद हैं तो आप खुद कितने गहने रोजमर्रा में इस्तेमाल करती हैं?

पसंद है, पर इसका मतलब यह नहीं कि मैं गहनों से ढकी रहती हूं। मैं मंगलसूत्र, अंगूठी और ब्रेसलेट यह तीनों चीजें हमेशा पहने रहती हूं। अवसर के मुताबिक मैं भारी गहने पहनती हूं।

इतनी व्यस्त दिनचर्या के बावजूद आप अपने बेटे को कितना समय दे पाती हैं?

मैं चाहे जितनी भी व्यस्त क्यूं ना रहूं पर मैं अपने बेटे वियान को पूरा समय देती हूं। उसके समय में मैं अपना कोई भी काम छोड़ सकती हूं फिर चाहे कुछ भी हो।

फिल्मों में आपकी कब वापसी हो रही है?

अभी मेरा पूरा ध्यान मेरे बेटे की परवरिश में है। मैं किसी भी तरह से उसको अनदेखा नहीं कर सकती। इसलिए अभी फिल्मों से दूर हूं।

 

आप महिलाओं से क्या कहना चाहेंगी?

महिलाओं के प्रति हो रहे जघन्य अपराधों को देखकर मैं यही कहूंगी कि हिंसा को बिल्कुल बर्दाश्त ना करें और उसका डट कर सामना करें। अपनी सुरक्षा के लिए खुद लड़ें।