उम्र का ढलना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। आयु के बढ़ने के साथ शारीरिक व मानसिक परिवर्तन होना भी स्वाभाविक ही है। उम्र के बढ़ने के साथ कार्य करने की शक्ति क्षीण होती है, चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं व स्मरण शक्ति कमजोर होने लगती है, यदि आप चाहें तो बढ़ती उम्र के दुष्प्रभावों से स्वयं को बचा सकते हैं। आप थोड़ी-सी सावधानी रखें, तो बढ़ती उम्र का मुकाबला भली-भांति कर सकते हैं। युवावस्था में प्राय: सभी सुंदर दिखाई देते हैं, मगर ढलती उम्र में भी सुंदर दिखना एवं शारीरिक सुडौलता बनाए रखना विशिष्ट बात है। यदि आप शुरू से ही शारीरिक सौंदर्य को बनाए रखने के लिए प्रयत्नशील रहे हैं तो आप ढलती उम्र में भी आकर्षक लगेंगे, इसमें कोई संदेह नहीं है।

ढलती उम्र से भयभीत न हों

प्राय: देखने में आता है कि आयु के बढ़ने के साथ ही महिलाओं का शरीर चर्बी बढ़ने के कारण बेडौल होने लगता है जिससे महिलाएं उम्र से अधिक बड़ी तो लगती ही हैं, साथ ही उनके सौंदर्य पर भी बुरा असर पड़ता है। इन महिलाओं की चुस्ती एवं फुर्ती धीरे-धीरे समाप्त होने लगती है, जिससे समय से पूर्व ही बुढ़ापा इन्हें दबोच लेता है। बढ़ती उम्र के लोगों की एक परंपरागत छवि समाज में बनी हुई है। बुढ़ापे की कल्पना एवं आशंका कमोवेश सभी को डराती एवं भयभीत करती रहती है, जिससे लोगों के हृदय पर असहायता एवं निराशा के बादल मंडराने लगते हैं। कुछ लोगों को तो बुढ़ापे शब्द के उच्चारण मात्र से ही डर लगता है। यह सब होना स्वाभाविक भी है, क्योंकि ढलती उम्र में पराधीनता की विवशता और शिथिलता जैसे शब्दों की कल्पना मात्र ही लोगों में सिहरन पैदा करने के लिए काफी होती है, किंतु ढलती उम्र से भयभीत होने की कतई आवश्यकता नहीं है। यदि आप चाहें तो एक लंबे समय तक इसे आप अपने पास फटकने तक नहीं दे सकते।

नियमित व्यायाम एवं मालिश जरूरी

लोगों में ऐसी धारणा है कि उम्र के बढ़ने से उसकी रचनात्मक शक्ति कम होती जाती है। शरीर के लचीलेपन में भी कमी आती है, परिणामस्वरूप चुस्ती-फुर्ती में भी कमी आना स्वाभाविक है। किंतु समय रहते यदि हम इन बातों पर ध्यान दें तो इस तरह की स्थितियों से काफी हद तक हमें मुक्ति मिल सकती है। शारीरिक सौंदर्य को बनाए रखने के लिए संतुलित आहार पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। घी, तेल, मसाले आदि कम मात्रा में तथा सब्जी, फल, सलाद आदि का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए। भोजन जितना हल्का एवं पौष्टिक होगा, शरीर को वह उतना ही स्वस्थ और आकर्षक बनाए रखेगा। शारीरिक सौंदर्य बनाए रखने के लिए व्यायाम और मालिश की तरफ ध्यान देने की भी आवश्यकता होती है। पेट, कमर एवं जांघों की बढ़ती हुई चर्बी को रोकने के लिए मालिश एवं व्यायाम की ओर ध्यान देना चाहिए। इसके साथ ही आप योगासन भी कर सकते हैं, इससे शरीर में स्फूर्ति एवं ताजगी बनी रहती है।

स्मरण शक्ति के बारे में भ्रम पालना उचित नहीं

ऐसी मान्यता है कि उम्र के बढ़ने के साथ-साथ याद्दाश्त में कमी आने लगती है, मगर परीक्षणों से यह सिद्ध हो चुका है कि उम्र का याद्दाश्त पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। जिन लोगों की स्मरण शक्ति बचपन से अच्छी होती है, उनकी हमेशा ही अच्छी रहती है, लेकिन यदि किसी की स्मरण शक्ति बचपन से ही कमजोर है, तो बुढ़ापे में कैसे बढ़ सकती है, यह तो मात्र भ्रम ही है।

शरीर की नियमित देखभाल जरूरी

आप अपने शरीर की देखभाल में यदि थोड़ा-सा समय भी लगाते हैं, तो बढ़ती उम्र का असर जल्दी ही आपको प्रभावित नहीं कर सकेगा और आप स्वयं भी प्रफुल्लता का अनुभव करेंगे। शरीर की देखभाल हमेशा ही अनिवार्य रूप से पूर्णत: करनी चाहिए। समय पर चेहरे व शरीर के अंगों की मालिश करें एवं उबटन का प्रयोग करते रहना चाहिए।

सुपाच्य एवं प्रोटीनयुक्त भोजन ही लें

उम्र अपना असर तो दिखाती ही है। पैंतीस-चालीस की उम्र तक पहुंचतेपहु ंचते आंखों की रोशनी कम होने लगती है, बाल भी सफेद होने लगते हैं। यदि आंखें कमजोर हैं, तो आंखों के स्वास्थ्य एवं सौंदर्य के लिए संतुलित पौष्टिक भोजन करें, आंखों की नियमित सफाई पर ध्यान दें। अगर फिर भी दृष्टि कमजोर हो जाए, तो डॉक्टर की सलाह से चेहरे और व्यक्तित्व को आकर्षक बनाने वाले फ्रेम के चश्मे का प्रयोग कीजिए। यदि बाल अधिक सफेद होने लगे हों तो बालों में मेंहदी लगाएं, इसके लगाने से बालों की सफेदी ढक जाती है और सुंदरता में चार चांद लग जाते हैं। सुपाच्य तथा प्रोटीनयुक्त भोजन करने का पूरा प्रयास करें। वास्तविकता यह है कि अधिक खाना शरीर के लिए हानिकारक होता है। कम खाने से जीवन की अवधि बढ़ती है। अपने आकर्षण को बनाए रखने के लिए हंसमुख एवं प्रसन्न मन रहना सीखिए। कभी भी मनोमालिन्यता के भाव चेहरे पर मत आने दीजिए। समय रहते आप अपने को बुढ़ापे से मोर्चाबंदी करने के लिए तैयार कीजिए। बहुत संभव है कि आपकी तैयारी को देखकर बुढ़ापा आपसे कोसों दूर भागने में ही अपनी भलाई समझेगा।

यह भी पढ़ें –आंखों का मेकअप हो दमदार, रहे सबको याद

आपको हमारे ब्यूटी टिप्स कैसे लगे? अपनी प्रतिक्रियाएं हमें जरूर भेजें। ब्यूटी-मेकअप से जुड़े टिप्स भी आप हमें ई-मेल कर सकते हैं-editor@grehlakshmi.com