बच्चे के अच्छे विकास और उसकी मांसपेशियों में आराम देने के लिए उसे अच्छी मालिश की जरूरत होती है। इससे शरीर के साथ-साथ मानसिक विकास भी तेजी से होता है। आप भी अपने बच्चे की मालिश करना शुरू करने वाली हैं तो, आपको सबसे पहले इसकी टेक्निक को जानने की जरूरत है। 

बिना टेक्निक जाने आप बच्चे की यूं ही मालिश करेंगी तो उसके लिए घटक हो सकता है। बच्चे बेहद कोमल होते हैं। उनके शरीर के अंग भी बेहद नाजुक होते हैं। इसलिए मालिश के सही तरीके को एक बार जानने के बाद आप निपुण हो जाएंगी और बच्चे को मालिश से आराम भी मिलेगा। आज हम आपको अपने इस खास लेख के जरिये मालिश से जुड़ी कई बाते बताएंगे जो आपके काम आएंगी।

1. कैसे करें बच्चे की मालिश– बात जब मालिश की हो तो इससे जुड़ी टेक्निक आपको पता होनी चाहिए। वो क्या है जान लीजिये।

• मालिश से पहले बच्चे का मूड सेट करने की जरूरत होती है। आप लाइट को डिम करके एक सॉफ्ट सा म्यूजिक लगाएं। 

• मालिश से पहले बच्चे को किसी मुलायम और सुरक्षित स्थान पर लिटाएं।

• बच्चे के डाइपर को हटाकर मालिश करें, इससे उसके सभी अंगों में अच्छे से हवा लग सकेगी और उसे रैशेज नहीं होंगी।

• मालिश के समय बच्चे को बेहद नाजुक और कोमल स्पर्श दे। आप इसके लिए मसाज स्ट्रोक का इस्तेमाल कर सकते हैं। कठोरता से की गयी मालिश बच्चे को दर्द पहुंचा सकती है।

2. बच्चे के शरीर को करें लक्षित– कोमल त्वचा के साथ बच्चों की मालिश नर्माहट के साथ किये जाने की सलाह दी जाती है। इसके लिए आपको सबसे पहले बच्चे के जिस अंग पर मालिश करनी है उसे लक्षित करना होगा। वो कैसे करना है ये भी जान लीजिये।

• बेहद नरम और कोमल स्ट्रोक की मदद से बच्चे के पैरों की मालिश करें।

• बच्चे के पैरों और पिंडलियों पर अच्छे से मसाज करें।

बच्चे के हाथों में मालिश करते समय बाहों तक करें।

• बच्चे के पेट की मालिश नीचे से उपर की ओर करें।

• छाती की मालिश करें, लेकिन गर्दन पर जोर ना लगाएं।

• बच्चे को पलटकर पीठ की मालिश करें।

• मालिश करते वक्त बच्चे से प्यार से बाते करें, लोरी गाएं।

3. कब रोकें मालिश– मालिश तब तक करते रहें जब तक बचा शांत रहे और उसे आनंद मिलता रहे। लेकिन जैसे ही बच्चा रोना शुरू कर दे मालिश को रोक दें। क्योंकि वो इससे ऊब सकता हैं।

4. बेस्ट मसाज ऑयल– बात जब बच्चे की आती है तो हम उन्हीं चीजों का चयन करते हैं जो सबसे बेस्ट होता है। जिससे बच्चे को परेशानी ना हो। ठीक उसी तरह बात जब मसाज की होती है तो कौन से आयल का चुनाव करें ये भी जानना जरूरी है।

• नारियल तेल- मालिश तेल के लिए नारियल तेल का इस्तेमाल कर सकती हैं। नारियल का तेल रोगाणुरोधी, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल और एंटीवायरल है।

• व्हीप्ड शीया बटर- अगर आपके बच्चे की त्वचा सूख गई है, तो नारियल के तेल में शिया बटर मिलकर मसाज करें। इससे स्किन में नमी बरकरार रहती है। 

• वाईएल शिल्डिंग- अगर आप अपने बचे को सौम्य और कोमला का एहसास कराना चाहते हैं। तो आप इस तेल का इस्तेमाल करें। इसकी सलाह डॉक्टर भी देते हैं। बच्चे के लिए ये बेहद अच्छा है।  

5. मालिश से मिलेगा फायदा– बच्चे के लिए मालिश बेहद जरूरी होती है। शारीरिक और मानसिक तौर पर मालिश से खास असर पड़ता है। इसके अलावा भी बच्चे को जो लाभ मिलते हैं वो भी जान लीजिये।

• बच्चे की मालिश से वजन बढ़ने में आसानी होती है।

• बच्चे की मालिश से हड्डियों का घनत्व भी बढ़ता है।

• बच्चे की मालिश से पीलिया होने की संभावना कम हो जाती है।

• बच्चे की मालिश से तनाव भी कम होता है।

• बच्चे की मालिश से पेट का दर्द कम होता है।

• मालिश से बच्चे को अच्छी नींद आती है।

• मालिश से बच्चा अपनी मां से ज्यादा नजदीक होता है।

• मालिश से बच्चे को कब्ज और गैस की समस्या नहीं होती है।

इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि बच्चे की मालिश से जो लाभ मिलता है उससे बच्चे का विकास भी अच्छे से होता है। अगर आपने हमारे द्वारा बताई हुई ट्रिक्स को अपनाते हुए बच्चे की मालिश की तो बच्चे को भी आराम मिलेगा और उसका विकास अच्छे से होगा।

यह भी पढ़ें-

बच्चों में पाए जाने वाले कोरोना वायरस के नए लक्षण

यूं भरिए बेटी में आत्मविश्वास