googlenews
Returned Items : ऑनलाइन शॉपिंग में वापस किए गए सामान के साथ क्या होता है ? क्या आप जानती हैं ?
Returned Items
Returned Items : अक्सर ऐसा होता है कि हम कोई ऑनलाइन सामान मंगाते हैं और फिर जब वो पसंद नहीं आता तो हम उसे रिटर्न कर देते हैं। ऐसे में हमारी टेंशन तो तो खत्म हो जाती है पर क्या आपने कभी ये जानने की कोशिश की है कि ऑनलाइन शॉपिंग में वापस लौटाए गए सामान आखिर जाते कहां है? दरअसल, आप ये सोच भी नहीं सकते कि ऑनलाइन शॉपिंग में वापस किए गए प्रोडक्ट्स के साथ क्या होता है।
असल में जिन प्रोडक्ट्स को कस्टमर ऑनलाइन शापिंग के बाद वापस कर देते हैं, वो अंत में कूड़े के ढ़ेर तक पहुंच जाती है। दरअसल, कम्पनी जिन प्रोडक्ट्स को एक बार सप्लाई के बाहर निकालती है, उन्हें वापस से कम्पनी के लिए रखना और मैनेज करना मुश्किल हो जाता है। क्योंकि खुले सामान को पैक करने के लिए कम्पनी को अतिरिक्त वक्त और श्रम दोनो लगाना पड़ता है। ऐसे में होता ये है कि कम्पनियां ऐसे सामान को या तो भारी डिस्काउंट के साथ सस्ते दाम पर बेच देती हैं या फिर इन्हें ट्रकों में भरकर कूड़े के ढेर तक पहुंचा देती हैं।
ऐसा हम यूं ही नहीं कह रहे हैं बल्कि बड़ी-बड़ी कम्पनियों के एक्सपर्ट इस बात का खुलासा कर चुके हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ़ आर्ट्स लंदन के सेंटर फ़ॉर सस्टेनेबल फ़ैशन में कार्यरत सारा नीधम के अनुसार, ऑनलाइन शॉपिंग के बाद वापस किया गया सामान आर्थिक और पर्यावरण दोनों ही दृष्टि से घाटे का सौदा है। सारा बताती हैं कि वापस आने वाले बहुत से सामान इस्तेमाल में होने से पहले ही कूड़े के ढेर में चले जाते हैं। 
मीडिया में आए आकड़ों की माने तो हर साल लगभग 5 अरब पाउंड कीमत का का माल वापस किया जाता है, जिसके चलते लगभग 1.5 करोड़ मीट्रिक टन कार्बन डाईऑक्साइड पर्यावरण में घुल जाती है। ये चीज कपड़े और जूते जैसे प्रोडक्ट्स के साथ अधिक लागू होती है, क्योंकि ऐसे प्रोडक्ट्स के निर्माण में पहले से ही पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंच हो चुका होता है और फिर जब वापस ये कूड़े के ढ़ेर में पहुंचता है तो ये सीधे तौर पर पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हैं।

ये भी पढ़ें –

जानिए महीनों के अनुसार क्यों और कैसे बदल जाता है मूड

कौन से ऐसे देश हैं, जहां नहीं मिलते हैं मच्छर

क्या आप जानते हैं दिल्ली के हॉन्टेड प्लेसेस

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं।