googlenews
Laddu Gopal
Laddu Gopal Puja

Laddu Gopal: भगवान कृष्ण का बाल्य रूप बेहद मनमोहक है। तभी तो लाड में हर मां अपने लल्ला को कान्हा कहकर पुकारती है। दरअसल, कान्हा के नाम से ही स्नेह झलकता है। उनके चेहरे की सुंदरता और भोलापन हर किसी को अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं। अधिकतर घरों में आपको लड्डू गोपाल मंदिर में विराजित मिलेंगे। मगर उनकी सेवा और उनकी पूजा अर्चना करने में कुछ खास नियमों और कायदों का ध्यान रखना चाहिए, ताकि प्रभु का प्रेम और कृपा भक्तों पर बरसती रहे।

आइए जानते हैं, लड्डू गोपाल को घर में रखने के कुछ खास नियम है, जिनकी पालना करना बेहद आवश्यक है।

लड्डू गोपाल को करवाएं रोज स्नान

लड्डू गोपाल को नियमित स्नान करवाना सबसे पहला और ज़रूरी नियम है। इनके स्नान के लिए विशेष व्यवस्था की जाती है। इन्हें पंचामृत, दूध, दही, शहद, घी, गंगाजल से स्‍नान करवाने का विधान है। ध्यान रखें कि प्रभु को स्नान करवाने के बाद पानी को उस पानी को तुलसी के पौधे में ही विसर्जित कर दें।

मैले कपड़े ना पहनाएं

प्रभु की लीलाएं सबसे न्यारी हैं। उनका हर कार्य, हर लीला और हर वचन मानव जगत को जीवन जीने का तरीका सिखाता है। ऐसे प्रभु की पूजा और भक्ति के दौरान स्वच्छता और निर्मलता का ख्याल रखना बेहद ज़रूरी है। स्नान के अलावा इस बात को याद रखें की लड्डू गोपाल को नियमित तौर पर साफ कपड़े ही पहनाएं। भले ही आप रोज़ाना नए वस्त्र न पहनाएं, मगर इस बात को अवश्य याद रखें कि आप जो भी वस्त्र पहनाएं, वे मैले न हों और धुले हुए हों।  

Laddu Gopal
Apart from bathing and changing clothes daily, Laddu Gopal’s makeup is also necessary

रोज करें श्रृंगार

रोज़ाना स्नान और वस्त्रों को बदलने के अलावा लड्डू गोपाल का साज श्रृंगार भी आवश्यक है। प्रभु का श्रृंगार चंदन का टीका लगाकर किया जाता है। भगवान कृष्ण रूप मन मोहने वाला है इसीलिए उनकी नज़र भी उतारी जाती है। 

दिन में 4 बार लगाएं भोग

अगर आप लड्डू गोपाल की पूजा करते हैं, तो उन्हें दिन में चार बार भोग भी लगाया जाता है। प्रभु को माखान और मिश्री के भोग के अलावा खीर और हलवे का भी भोग लगवाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि जिस भी घर में लड्डू गोपाल की सेवा की जाती है, वहां मांसाहारी व्यंजन  का सेवन और पकाना दोनों वर्जित हैं। परिवार के सभी सदस्यों को भोजन देने से पहले प्रभु को भोग लगाना आवश्यक है।

नियम से करें आरती

लड्डू गोपाल को आप प्रतिदिन दो बार यां चार बार जब भी भोग लगाएं, तो साथ ही उनकी आरती भी अवश्य करें। लड्डू गोपाल के पास श्री राधा रानी की प्रतिमा जरूर रखें। शास्त्रों के अनुसार, दिन में 4 बार श्रीकृष्ण की आरती करने का विधान है। साथ ही राधा रानी की भी आरती ज़रूर करनी चाहिए।

घर पर अकेला ना छोड़े

अगर आप कुछ दिनों के लिए घर से बाहर जाने की तैयारी कर रहे हैं, तो लड्डू गोपाल को भी अपने साथ लेकर जाएं। इसके अलावा प्रभु  के विश्राम के लिए भी अलगआसन ज़रूर तैयार करें।

Leave a comment