elephant and mouse hindi stories

झील के किनारे एक बड़ा और खूबसूरत नगर था। वहाँ बहुत अच्छे घर व मंदिर थे। लोग खुशी-खुशी रहते।। एक दिन नगर पर पड़ोसी राज्य ने हमला कर दिया और उसे पूरी तरह से तबाह कर दिया। पूरे नगर में सिर्फ चूहे रह गए।

जंगल मेंए चूहों के नगर से बहुत दूर हाथी रहते थे। वहाँ कई सालों से वर्षा न होने के कारण नदियाँ और तालाब सूख गए थे। हाथियों के पास पीने का पानी नहीं था। एक दिन पानी की तलाश में हाथियों का झुंड चूहों के नगर में आ पहुँचा। जब वे उस नगर से गुजर रहे थे तो उनके पाँवों के नीचे दब कर कई चूहे मारे गए।.

चूहों के राजा ने इतने चूहों के मरने का समाचार सुना तो वह उदास हो गया। उसने झट से सभी चूहों की सभा बुलाई। एक बूढ़े व सयाने चूहे ने सुझाव दिया कि उन्हें हाथियों के सरदार से विनती करनी चाहिए कि वे चूहों के नगर से न गुजरें।

कुछ चूहे उस झील पर पहुंचेए जहाँ हाथी नहा रहे थे। उनमें से एक ने हिम्मत बटोरी व हाथियों के सरदार से कहा – महाराज आप बड़े और शक्तिशाली हैं। शायद आपको पता नहीं कि आप लोगों के पैरों तले कुचल कर हमारे परिवारों के कई सदस्य मारे गए। हममें से कुछ ही बचे हैं। आपसे विनती है कि किसी दूसरे रास्ते से जंगल लौटें। हम आपका एहसान मानेंगे व आपके मित्र रहेंगे। हाथी ने उनकी बात मान ली व कहा।

जाओ शांति से रहो। हमारी वजह से तुम्हें कोई परेशानी नहीं होगी। सालों बादए पड़ोसी देश के राजा को अपनी सेनाओं के लिए कई हाथियों की जरूरत आ पड़ी। उसने अपने सैनिकों को जंगल में भेजा ताकि वे अधिक से अधिक हाथी पकड़ कर ला सकें। सैनिकों ने गहरी खाईयाँ खोदी व उन्हें पत्तों व घास-फूस से ढक दिया ताकि वे दिखाई न दें। कई हाथी उनमें गिर कर पकड़े गए। उन्हें खाईयों से बाहर निकालकर मजबूत रस्सियों से बाँध दिया गया।

इसके बाद सैनिक सुस्ताने बैठे और उनकी आँख लग गई। एक हाथी जाल में फंसने से बच गया था। हाथियों के सरदार ने उसे चूहे दोस्तों के पास मदद माँगने भेज दिया।

हाथी सरदार का संदेश मिलते ही सारे चूहे जंगल की ओर भागे। उन्होंने अपने तीखे दाँतो से मोटी रस्सियाँ काट दी और सारे हाथियों को आजाद कर दिया। हाथियों के सरदार ने उन्हें समय पर मदद देने के लिए बहुत -बहुत धन्यवाद दिया। इसके बाद उनकी मित्रता और भी पक्की हो गई।

शिक्षा :- सच्ची मित्रताए सीमा पार के लोगों को भी निकट लाती है।

हाथी और चूहे– पंचतंत्र की कहानी Hindi Stories with moral , stories with morals, पढ़ कर आपको कैसा लगा Comment box में हमें जरुर बताएं।

Leave a comment