आज के समय में सबका ध्यान फिटनेस और डाइट पर है। ऐसे में, हम सब जो भी समझ में आता है, उसे अपनाते हैं ताकि हम वेट लॉस कर सकें। जबकि जरूरी तो यह है कि हम पहले अपने फिटनेस लक्ष्य को समझें और फिर उसके बाद वर्कआउट प्लान करें। रणबीर कपूर, आमिर खान और जैकलिन फ़र्नाडीज के फिटनेस कोच शिवोहम यानी दीपेश भट्ट का कहना है कि लोग बिना कुछ सोचे- समझे सेलिब्रिटीज को फॉलो करते हैं। उन्हें यह समझने की जरूरत है कि सेलिब्रिटीज का मुख्य फोकस अच्छा दिखने पर होता है। इसलिए वे फिटनेस में घंटों लगाते हैं। लेकिन हो सकता है कि आपके लिए मुश्किल हो कि आप फिटनेस में उतना समय दे पाएं। यह भी संभव है कि आपके वेट लॉस लक्ष्य अलग हों, जिसमें वेट लॉस, फैट लॉस, टोनिंग आदि हो सकता है। इसलिए हमारे लिए जरूरी है कि हम कुछ ऐसी आम गलतियों के बारे में जानें, जो अमूमन लोग करते हैं।

वॉर्म अप है जरूरी

 

अमूमन लोग सीधे वर्कआउट करना शुरू कर देते हैं, जबकि सच तो यह है कि वर्कआउट से पहले और बाद में वॉर्म अप करना बेहद जरूरी है। खासकर उन लोगों के लिए, जो सुबह- सुबह वर्क आउट करते हैं। आप खुद सोच कर देखिए, आप अभी- अभी जागे हैं और आपके हार्ट का पल्स रेट लो है। ऐसे में 5 से 10 मिनट की स्ट्रेचिंग जरूरी है, यह मसल्स से ज्यादा जोड़ों के लिए लाभकारी है। अगर आप इंजूरी से बचना चाहते हैं तो जोड़ को मोबिलाइज करना चाहिए। आप लंजेज, स्पॉट जॉगिंग, स्किपिंग, हिप रोटेशन, ऐंकल रोटेशन, हाई नी, बेसिक पुश अप कर सकते हैं।

कार्डियो पर जरूरत से ज्यादा फोकस नहीं

अगर आपका लक्ष्य एक्टिव रहना है, तो जिम जाना, ट्रेडमिल पर दौड़ना या सिर्फ इलिप्टिकल पर वर्क करना ठीक है। लेकिन अगर आपको एस्थेटिक बॉडी चाहिए, तो आप सिर्फ कार्डियो पर निर्भर नहीं रह सकते हैं। सिर्फ कार्डियो पर निर्भर रहने से आपकी बॉडी से मसल्स कम होंगे और आपकी स्किन लूज होगी। इस तरह से आपको बॉडी की टोनिंग नहीं होगी।

वर्कआउट स्ट्रेचिंग बिल्कुल न छोड़ें

 

अपने वर्कआउट को पूरा करने के बाद स्ट्रेचिंग बहुत लाभदायक और जरूरी है। स्ट्रेचिंग में आपको किसी एक पोजीशन पर 20 से 30 सेकेंड रहना चाहिए। इससे लैक्टिक एसिड के रिलीज होने में मदद मिलेगी और दर्द भी नहीं होगा।

मसल्स डिफाइन करते हैं वेट ट्रेनिंग

परफेक्ट बॉडी को लेकर लोगों की सोच गलत है। अधिकतर महिलाएं ब्यूटी मैगजीन देखती हैं और सोचती हैं कि पतला होना ही खूबसूरती है। लेकिन खूबसूरत दिखने के लिए आपको मसल्स और मजबूत जॉइन्ट भी चाहिए। वेट ट्रेनिंग महिलाओं को बल्की तब तक नहीं बनाता है, जब तक वे एथलेटिक तरीके से वर्कआउट नहीं करते हैं। महिलाओं को बल्की नहीं दिखना होता है। वेट लिफ्टिंग से उनके मसल्स डिफाइन होने लगते हैं। महिलाएं हल्के वेट का इस्तेमाल कर सकती हैं।

वेट लूज करने का सबसे सही तरीका

 

अगर आप रोजाना एक घंटे जिम में वर्कआउट कर रही हैं, खास तरह के फूड का सेवन भी कर रही हैं, बावजूद इसके आप वेट काम नहीं कर पा रही हैं? अगर आपका जवाब हां है, तो आपको अपने वेट लूज करने के तरीके पर ध्यान देने की जरूरत है। जब भी आप अपनी बॉडी को किसी नए तरीके से एक्सपोज करती हैं, तो बॉडी तेजी से रिएक्ट करती है। लेकिन जब हम इसे रोजाना एक ही चीज ऑफर करते हैं, तो रिजल्ट धीमा हो जाता है। इसलिए लोगों को अपना वर्कआउट रूटीन बदलते रहना चाहिए। अपनी डाइट और वर्कआउट को भी! आप अपनी बॉडी को सरप्राइज दीजिए, फिर आपको उसका रिस्पॉन्स देखने को मिलेगा। डाइट में बदलाव लाने के लिए आप कभी रोटी छोड़कर सिर्फ सब्जी खाइए, सब्जी की जगह दाल का सेवन कीजिए या फिर चिकन खाइए। अपने मील और पोर्शन साइज को भी बदलते रहिए।

40 के बाद वर्कआउट

हमें इस बात को समझने की जरूरत है उम्र बढ़ने के साथ हमारी बॉडी भी धीमी और कमजोर हो जाती है। लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि अगर आप पहले जाम कर वर्कआउट कर रहे थे, तो अब करना बंद कर दें। आप अभी भी कर सकते हैं लेकिन सोच- समझ कर करें। आपकी इन्टेन्सिटी और वेट्स 20 साल के लड़के द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे इन्टेन्सिटी और वेट्स से हल्के होने चाहिए। आपको बॉडी हमेशा आपसे कहती है, आपको उसे सुनना चाहिए।

सही तरह से सांस लेना

 

हम हमेशा सांस लेने को गंभीरता से नहीं लेते हैं। नियम है कि आप जब भी थक जाएं, तो बाहर की ओर सांस छोड़ें। अगर आप दौड़ रहे हैं, तो सांस को अपनी नाक से बहने दें। अगर आप स्क्वैट कर रहे हैं, तो मुंह से डीप ब्रीदिंग करें। जब आप नीचे की ओर जा रहे हैं, तो अपने फेफड़ों में ज्यादा हवा भरें और वापस लौटते समय सांस बाहर की ओर छोड़ें। लेकिन सांस अंदर लेते हुए प्रेशर को नहीं जाने दें और इसे होल्ड करके रखें।

फिटनेस सप्लीमेंट

कई सेलिब्रिटीज कहते हैं कि उनकी स्किन पहले से खूबसूरत और बॉडी टोन्ड है, यह सिर्फ आधा सच है। आप प्राकृतिक तौर पर खूबसूरत और फिट कुछ हद तक ही रह सकते हैं। उसके बाद कई तरह के सप्लीमेंट लेने पड़ते हैं, जिसके बाद आपको वह दिखता है, जो वे हैं।

 

ये भी पढ़ें –

मेडिटेशन करते समय हो रही है दिक्कत तो आजमाएं ये कुछ टिप्स

शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन के बेस्ट ऑप्शन

 

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें –editor@grehlakshmi.com