googlenews
Girls in NDA

NDA Exam लगभग हर युवा का सपना होता है, इसलिए इंटर पास करने के बाद हर छात्र इसकी तैयारी करने में जुट जाता है। लेकिन लड़कियों को इस परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं थी। लेकिन, सुप्रीम कोर्ट ने अब लड़कियों के एनडीए परीक्षा में शामिल होने के आदेश दे दिए हैं। सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला महिलाा सशक्तीकरण में एक बड़ा कदम है। अब तक लड़कियों ने इस परीक्षा के बारे में केवल सुना था, लेकिन अब वो इसका हिस्सा होंगी।

महिलाओं की बड़ी जीत

अब हर घर से लड़कों के साथ लड़कियां भी एनडीए का फॉर्म भर सकेंगी। अगस्त महीने में सुप्रीम कोर्ट ने एनडीए की परीक्षा में लड़कियों के शामिल होने की याचिका पर फैसला सुनाते हुए आदेश दिया था कि एनडीए की परीक्षा में महिलाओं का शामिल न होना, समानता के अधिकार का उल्लंघन है। कोर्ट ने प्रवेश की मौजूदा व्‍यवस्‍था को भेदभावपूर्ण बताया और सरकार को जल्द से जल्द लड़कियों को भी इस परीक्षा में शामिल करने का आदेश दिया।

सरकार कर रही तैयारी

सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश पर सितंबर में सरकार ने कोर्ट में हलफनामा पेश कर बताया था कि केंद्र सरकार ने इसको लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं। आपको बता दें कि एनडीए की परीक्षा आर्मी, नेवी और एयरफोर्स में सीधे प्रवेश पाने के लिए होती है।

जारी हुआ 2022 का शेड्यूल

2022 में होने वाली एनडीए की परीक्षा का शेड्यूल जारी हो गया है। परीक्षा मई में होगी। इसके लिए नेशनल डिफेंस अकैडमी (NDA) को लड़कियों के हिसाब से तैयार किया जा रहा है। एनडीए में लड़कियों के हिसाब से उचित चिकित्सा और शारीरिक फिटनेस स्‍टैंडर्ड्स को स्थापित करने की प्रक्रिया की जा रही है। इसके साथ ही जरूरी बुनियादी ढांचे का निर्माण किया जा रहा है। लड़के और लड़कियों के लिए अलग-अलग रहने की व्‍यवस्‍था की जा रही है।

NDA Exam
NDA Exam

लड़कियों के लिए क्या होंगे मानक

इस परीक्षा में चयन केवल उन्हीं को होता जिन्हें किसी तरह के मेडिकल समस्या नहीं है। महिलाओं के लिए अब उचित मानक प्रक्रिया तैयार किया जा रहा है। इसमें उम्र और प्रशिक्षण की प्रकृति को ध्यान में रखते हुए नियम बनाए जा रहे हैं। सरकार ने बताया कि महिला उम्मीदवारों के लिए अब तक फिजिकल फिटनेस के कोई समानांतर पैरामीटर नहीं थे। लिहाजा, इन्हें भी तैयार किया जा रहा है।

लड़कियों के लिए तैयार हो रहा पाठ्यक्रम

एनडीए में लड़कियों लिए व्यापक पाठ्यक्रम तैयार किया जा रहा है। इसके लिए स्त्री रोग विशेषज्ञों, खेल चिकित्सा विशेषज्ञों, परामर्शदाताओं, नर्सिंग स्टाफ और फीमेल अटेंडेंट्स की भी नियुक्ति की जा रही है।

सैनिक स्कूलों में भी मिलेगा दाखिला

सैनिक स्कूल के दरवाजे भी लड़कियों के लिए खुल गए हैं। दरअसल, अब तक सैनिक स्कूल और इंडियन मिलिट्री कॉलेज (IMC) में लड़कियों को दाखिला नहीं दिया जाता था। लेकिन पिछले साल से सैनिक स्कूलों ने लड़कियों को प्रायोगिक तौर पर लेना शुरू कर दिया है। 15 अगस्‍त को प्रधानमंत्री मोदी ने भी लाल किले से घोषणा कर दी है कि लड़कियों को सैनिक स्कूलों में दाखिला दिया जाएगा।

इंडियन मिलेट्री कॉलेज में अभी नहीं मिला है दाखिला

फिलहाल इंडियन मिलेट्री कॉलेज में लड़कियों को प्रवेश मिल पाना संभव नहीं लग रहा है। सेना का कहना है…कि लड़के और लड़कियों के लिए ट्रेनिंग अलग अलग हैं। महिलाओं को अभी तक सेना में लड़ाकू बलों में भर्ती नहीं किया गया है और उन्हें केवल 10 गैर-लड़ाकू स्‍ट्रीम में भर्ती किया जाता है। इसमें एडमिशन एनडीए की परीक्षा पास करके ही मिलता है। यह एनडीए का फीडर कैडर है।
फिलहाल तो एनडीए की परीक्षा में लड़कियां शामिल हो जाए। आगे की भी राह बन ही जाएगी।

Leave a comment