googlenews
सिंह राशिफल – Singh Rashifal 2022- 24 September To 30 September
Singh Rashifal 2022

मा, मी, मु, मे मघा-4

मो, टा, टी, टु पूर्वाफाल्गुनी-5

टे उत्तराफाल्गुनी-1


ग्रह स्थिति

मासारम्भ में सूर्य+शुक्र सिंह राशि का लग्न में, बुध कन्या राशि का द्वितीय भाव में, केतु+चंद्रमा तुला राशि का तृतीय भाव में, शनि मकर राशि का षष्ठम भाव में, बृहस्पति मीन राशि का अष्टम भाव में, राहु मेष राशि का नवम भाव में, मंगल वृषभ राशि का दशम भाव में चलायमान हैं।


24 सितम्बर से 30 सितम्बर तक

दिनांक 24, 25 को समय अनुकूल रहेगा। जमीन-जायदाद की खरीद या बेचने संबधी कार्यों में व्यस्त रह सकते हैं। सामने वाले की बातों पर ज्यादा विश्वास नहीं करें, अन्यथा बात उल्टी पड़ सकती है। 26, 27 को मानसिक संतोषकारी समय रहेगा। आप अपने भविष्य को संवारेंगे तथा वर्तमान पर भी पूरा ध्यान देंगे। व्यापार में कुछ नए प्रयोग करेंगे। आपका मुनाफा बढ़ जाएगा।
28, 29 को किसी गोपनीय प्रोजेक्ट पर ध्यान दे पाएंगे। जबरदस्त आर्थिक लाभ होगा। 30 को आपका मूड ऑफ रहेगा। समाज सेवा, लोक कल्याणकारी कार्य जैसी बातें आपको बेमानी लगेंगी। आप आलस्य से भर जाएंगे। आप सहज रूप में किसी को कुछ कहेंगे, किन्तु वह बात उल्टी पड़ जाएगी।

सिंह राशि की शुभ-अशुभ तारीख़ें

2022शुभ तारीख़ेंसावधानी रखने योग्य अशुभ तारीख़ें
जनवरी15, 16, 17, 21, 22, 24, 25, 261, 8, 9, 10, 18, 19, 27, 28
फरवरी11, 12, 13, 17, 18, 21, 224, 5, 6, 14, 15, 21, 22
मार्च11, 12, 16, 17, 20, 213, 4, 5, 14, 15, 23, 24, 31
अप्रैल7, 8, 9, 13, 14, 16, 17, 181, 2, 10, 11, 19, 20, 27, 28, 29
मई4, 5, 6, 10, 11, 14, 157, 8, 16, 17, 24, 25, 26
जून1, 2, 6, 7, 8, 10, 11, 28, 294, 5, 13, 14, 21, 22
जुलाई3, 4, 5, 8, 9, 25, 26, 27, 311, 2, 10, 11, 18, 19, 20, 28, 29
अगस्त1, 4, 5, 21, 22, 23, 27, 28, 317, 8, 14, 15, 16, 24, 25
सितम्बर1, 18, 19, 23, 24, 25, 27, 28, 293, 4, 11, 12, 21, 22, 30
अक्टूबर15, 16, 17, 21, 22, 25, 261, 8, 9, 10, 18, 19, 27, 28, 29
नवम्बर11, 12, 13, 17, 18, 21, 224, 5, 6, 14, 15, 24, 25
दिसम्बर9, 10, 14, 15, 16, 19, 202, 3, 12, 13, 21, 22, 29, 30, 31

सिंह राशि का वार्षिक भविष्यफल

सिंह राशिफल – Singh Rashifal 2022- 24 September To30 September
Singh Rashifal 2022

सिंह राशि के जातकों के लिए यह वर्ष शानदार व उपलब्धियों से परिपूर्ण रहेगा। कुछ विषयों को लेकर मन में असमंजस जरूर रहेगा। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह साल उपलब्धियों से परिपूर्ण रहेगा। पुराने रोग व कष्ट से मुक्ति मिलेगी। व्यापार व कारोबार में नित नवीन उपलब्धियां हासिल होंगी।
आर्थिक दृष्टि से आप सक्षम व सुदृढ़ स्थिति में रहेंगे। आप सिंह राशि के जातक हैं। अतः एक बार जो मन में ठान लेते हैं, उसे पूरा करके ही दम लेंगे। इस वर्ष चंद्रमा+मंगल के योग के कारण चल-अचल सम्पति के योग कुण्डली में बने हुए हैं। इस वर्ष भूमि, भवन आदि के योग दिखाई पड़ रहे हैं। शनि छठे भाव में स्थित होकर रोग और शत्रु का शमन करेगा। अतः इस साल आप उत्तम स्वास्थ्य सुख का उपभोग करेंगे, आपकी राशि पर देवगुरु बृहस्पति की दृष्टि है। अतः स्वास्थ्य सुख के साथ-साथ आत्मविश्वास भी गजब का रहेगा। पैसा भी इस वर्ष आप अपने परिश्रम व मेहनत से अच्छा कमाएंगे परंतु नीच के चंद्रमा के कारण खर्चा भी कमाई के अनुपात में ही होगा। कहीं न कहीं आपको खर्चों पर लगाम कसनी चाहिए।
इस वर्ष देवगुरु बृहस्पति सप्तम भाव में रहेंगे, जो पारिवारिक दृष्टि से उत्तम योग की स्थिति को दर्शा रहे हैं। इस वर्ष जीवनसाथी से भरपूर सहयोग व बल मिलेगा, अविवाहित व्यक्तियों के विवाह की भी संभावना है। बड़े बुजुर्गों का आशीर्वाद, उनकी प्रेरणा आपके जीवन में उन्नति का मूल मंत्र रहेगी। आर्थिक पक्ष व हालात पहले से बेहतर रहेंगे। आर्थिक पक्ष में सुधार की दिशा में आप कुछ महत्त्वपूर्ण व ठोस कदम उठाएंगे। नौकरी में आप गंभीरता और तीव्रता से काम करेंगे। आप सभी को अपने अनुकूल बना लेंगे। बॉस व वरिष्ठ अधिकारी आपकी कार्यशैली की वजह से, आपके काम से खुश रहेंगे। इस वर्ष पराक्रमेश भी वर्षारंभ में पंचम स्थान में हैं। अतः पराक्रम में बढ़ोतरी के योग हैं साथ ही भाइयों से हल्का-फुल्का विवाद सम्पति या बटवारे को लेकर हो सकता है। आपकी योग्यता व क्षमता खुलकर लोगों के सामने आयेगी। रिश्तेदार व कुटुम्बी लोग येन-केन-प्रकारेण आपसे लाभ लेने की सोचेंगे। चौथे स्थान में केतु की स्थिति है। समाज सेवा, लोककल्याण जैसे मुद्दे आकर्षित तो करेंगे, परंतु कहीं न कहीं ये आपकी बदनामी का कारण बन सकते हैं। कोई आर्थिक आरोप प्रत्यारोप आप पर लग सकता है। संतान आपकी पूर्ण आज्ञा में रहेगी। संतान से सम्बन्धित कोई उपलब्धि अर्जित हो सकती है।
विद्यार्थियों को भी अप्रैल तक सफलता का क्रम चलेगा। नौकरी सम्बन्धी परीक्षा, प्रतियोगी परीक्षा, इंटरव्यू आदि में अप्रैल से पूर्व सफलता मिल जायेगी, लेकिन अप्रैल के पश्चात् सफलता के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ सकता है। यात्राएं तो खूब होंगी, परंतु यात्राएं निरर्थक ही साबित होंगी। शनि छठे स्थान में चलायमान है, अतः रुपयों-पैसों के मामले में आपको किसी पर भरोसा नहीं करना चाहिए। इस वर्ष राजकीय महत्त्व के कार्य, सरकारी दफ्तरों में लम्बित पड़े काम प्रयास व परिश्रम के उपरांत पूर्णता की ओर चलेंगे।

सिंह राशिकैसी रहेगी 2022 में आपकी सेहत?

इस वर्ष स्वास्थ्य की दृष्टि से समय अच्छा है। पुराने रोगों में सुधार का समय है। आपको खान-पान की आदतों आदि का विशेष ध्यान रखना चाहिए। हालांकि अप्रैल के पश्चात् आठवें गुरु के कारण छोटी-मोटी बीमारियों का प्रकोप रहेगा। गैस, एसिडिटी व पेट सम्बन्धी परेशानियां रह सकती हैं। अपनी दिनचर्या को सुव्यवस्थित रखें, घर के किसी वरिष्ठ व्यक्ति, माता-पिता के स्वास्थ्य में परेशानी हो सकती है। तथा उनके स्वास्थ्य पर खर्च की स्थिति भी रहेगी। कुल मिलाकर आपको इस वर्ष किसी भी घातक व गम्भीर बीमारी की संभावना व आशंका नहीं है।

सिंह राशिव्यापार, व्यवसाय व धनके लिए कैसा रहेगा आने वाला साल 2022 ?

व्यापार और कार्यक्षेत्र में काफी उपलब्धियां इस वर्ष मुझे दिखलाई पड़ रही हैं। अपने अहंकार व क्रोध पर आप काबू रखें, अन्यथा सफलता हाथ से रेत की तरह फिसलती नजर आयेगी, व्यापार और काम-काज में सही समय पर सही निर्णय आप लेंगे, जिसके फलस्वरूप आपको मुनाफा हो सकता है। सम्पति के रख-रखाव व सुव्यवस्थित करने पर इस वर्ष व्यय की स्थिति रह सकती है। इस वर्ष अपनी बौद्धिक क्षमताओं व कार्य कुशलता का इस्तेमाल व उपयोग करके आप अपने मुनाफे में चौगुना वृद्धि कर सकेंगे, हालांकि इस वर्ष अप्रैल के पश्चात् आठवां बृहस्पति रहेगा, अतः आर्थिक मामलों में हर किसी पर विश्वास व भरोसा आपको नहीं करना चाहिए। सम्पति व बटवारे से सम्बन्धित विवाद थोड़ा सा उलझ सकता है। आपको बहुत ही कूटनीति से काम लेना चाहिए। आप अपने व्यावसायिक प्रतिद्वन्दियों व प्रतिस्पर्धियों के सामने बड़ा लक्ष्य रख देंगे। जून से अक्टूबर के मध्य शनि के वक्रत्व काल में कोई बड़ा ऑर्डर या डील आपके हाथों से निकल सकती है। बॉस व अधिकारी आपकी काबिलियत व आपकी योग्यता का लोहा मानेंगे। अगर आप सरकारी सेवा में हैं तो रुपयों-पैसों के मामले में किसी पर भी भरोसा नहीं करें। लॉटरी, जुआ, सट्टे, एनसीडीएक्स आदि में पैसा नहीं लगाएं। कष्टम चुंगी, रायल्टी वैट, इन्कमटैक्स आदि से सम्बंधित परेशानी खड़ी हो सकती है। अपने हिसाब-किताब तो तैयार रखें, मुनाफे और प्रोडेक्शन के चक्कर में क्वालिटी के साथ कोई समझौता नहीं करें।

जानिए कैसा रहेगा 2022 में आपका घर-परिवार, संतान व रिश्तेदार के साथ सम्बन्ध ?

इस वर्ष व्यापार व कार्यक्षेत्र में व्यस्तता के साथ-साथ आप परिवार को पूरा-पूरा समय देंगे। परिवार और काम के बीच बेहतर तालमेल बिठाने में आप कामयाब रहेंगे। अविवाहित जातकों के विवाह की बात आगे बढ़ेगी हालांकि बातचीत किसी मुकाम पर नहीं पहुंच पायेगी परंतु बातचीत का सिलसिला जरूर आरंभ होगा। पति-पत्नी दोनों एक दूसरे के आचरण व्यवहार को समझेंगे। भाइयों से जरूर कुछ मन-मुटाव व विरोध रह सकता है, जो बाद में सुलझ भी जायेगा। संतान के करियर से सम्बन्धित शुभ समाचार आपको प्राप्त हो सकता है। घर में इस वर्ष किसी नवीन मेहमान के आगमन की आहट सुनाई दे रही है। अप्रैल के पश्चात् बृहस्पति अष्टम में आकर घर के किसी वरिष्ठ सदस्य के स्वास्थ्य में गड़बड़ कर सकते हैं। पिता-पुत्र में इस वर्ष हल्के-फुल्के वैचारिक मतभेद रहेंगे।

जानिए कैसा रहेगा 2022 में आपका विद्याध्ययन, पढ़ाई व करियर ?

बृहस्पति की अप्रैल तक आपकी राशि पर दृष्टि है। अतः अप्रैल तक अध्ययन को लेकर शुभ प्रतिफल व परिणाम मिलेंगे। विद्यार्थी पूर्ण एकाग्र भाव से अध्ययन करेंगे। पूरी लगन, पूरी ईमानदारी से अपने अध्ययन में जुट जाएं। अप्रैल के पश्चात् बृहस्पति आठवें स्थान में आकर काम-काज व कार्यक्षेत्र में प्रतिकूल परिस्थितियां निर्मित करेंगे। नौकरी पदोन्नति व विभागीय परीक्षा का परिणाम सही नहीं रहेगा। पुस्तकों को अपना मित्र बनाएं तो सफलता आपके कदम चूमेगी। कुसंगति व गलत लोगों से दूर रहें। प्रेम-प्रसंगों व फालतू के कार्यों में पड़कर अपना समय व अपनी ऊर्जा दोनों नष्ट नहीं करें। लक्ष्य पर पैनी नजर आपको सफलता की ओर अग्रसर करेगी।

जानिए कैसा रहेंगे 2022 में आपके प्रेम-प्रसंग व मित्रता सम्बन्घ ?

प्रेम प्रसंगों की दृष्टि से यह साल उत्तम है। प्रेमी-प्रेमिका का मिलन होगा। दोनों में परस्पर एक दूसरे को समझने की समझ विकसित होगी। दायरे में और मर्यादा के अन्तर्गत किया गया प्रेम आपके व्यक्तित्व व चरित्र को ऊंचाइयां प्रदान करेगा। प्रेम समर्पण व त्याग का पर्याय है, अतः इस वर्ष समर्पण व त्याग आपको दोनों कसौटियों से गुजरना पड़ेगा। मित्रों की सहायता के लिए आप हाथ बढ़ाएंगे। इस वर्ष मित्रों का दायरा भी बढ़ेगा। नए-नए मित्र बनेंगे।

जानिए कैसा रहेंगे 2022 में आपकेवाहन, खर्च व शुभ कार्य?

इस वर्ष वाहन से परेशानी के योग बने हुए हैं। वाहन पर बार-बार खर्चा करने पर भी वाहन से आपको परेशानी रहेगी। इस वर्ष धन संचय में बाधा है। प्रयास करने पर भी धन का संचय नहीं हो पायेगा। जितनी तेजी से पैसा आयेगा उतनी ही तेजी से खर्च भी हो जायेगा। इस वर्ष संतान के विवाह, अध्ययन, करियर आदि पर खर्च के योग बने हुए हैं। इस वर्ष पूर्वार्द्ध में शुभ प्रसंग व मांगलिक आयोजन की स्थिति भी बन रही है।

सिंह राशि वाले कैसे बचेहानि, कर्ज व अनहोनी से?

इस वर्ष रुपयों-पैसों व लेन-देन के मामले में किसी पर भी भरोसा या विश्वास नहीं करें। व्यापार, भूमि, भवन वाहन व संतान की शिक्षा के लिए आप ऋण ले सकते हैं। हालांकि ऋण कोई अशुभ नहीं रहेगा। शुभ कार्य के लिए ऋण या कर्जा लेंगे। जहां तक अनहोनी की बात है किसी रिश्तेदार, मित्र के साथ कोई अनहोनी घटना वर्ष के उत्तरार्द्ध में घटित हो सकती है।

जानिए कैसा रहेंगे 2022 मेंआपका यात्रा योग?

इस वर्ष धार्मिक महत्त्व की यात्राएं होंगी, परिवार के साथ आप यात्रा का कार्यक्रम बना सकते हैं। यात्राओं में हल्के-फुल्के कष्ट की स्थिति रहेगी। व्यापार के लिए की गई यात्राएं ज्यादा लाभप्रद नहीं रहेंगी।

कैसे बनाये सिंह राशि वाले 2022 को लाभकारी ?

सवा पांच रत्ति का मणिक्य सूर्य यंत्र में धारण करें। आदित्य हृदय स्रोत का पाठ करें। लाल रंग का सुगन्धित रुमाल पास में रखें। लाल रंग के पुष्प वाले पौधे को सींचे। सूर्य को अर्घ्य दें।

सिंह राशि की चारित्रिक विशेषताएं

आपकी राशि का अधिपति सूर्य है, जो तेजस्वी व ओजयुक्त पौरुष का प्रतिनिधित्व करता है। सिंह राशि के व्यक्ति निर्भीक, उदार व अभिमानी होते हैं। चित्त में दृढ़ता, साहस तथा धैर्य इनमें विशेष मात्रा में पाया जाता है। सूर्य आत्मशक्ति या आत्मविश्वास का कारक ग्रह माना जाता है। अतएव सिंह राशि वाले पुरुषों में आत्मशक्ति ग़ज़ब की होती है। ये कठिन-से-कठिन परिस्थितियों में भी नहीं घबराते। उनके अंदर आत्मविश्वास का भाव पूर्ण रूप से विद्यमान रहता है तथा अपनी बुद्धि एवं पराक्रम के बल पर वे जीवन में उन्नति प्राप्त करने में समर्थ रहते हैं। धनैश्वर्य, वैभव एवं भौतिक सुख-संसाधनों से ये प्रायः युक्त रहते हैं तथा जीवन में सुखपूर्वक इसका उपभोग करते हैं। ये जातक सिद्धांतवादी होते हैं तथा अपने सिद्धांतों की रक्षा के लिए सदैव तत्पर रहते हैं। इनकी प्रवृत्ति धार्मिक होती है तथा स्वभाव में परोपकार का भाव भी रहता है, फलतः ये पूर्ण विश्वास के योग्य होते हैं। इसके अतिरिक्त सरकारी या गैर-सरकारी क्षेत्रों में किसी उच्च पद को प्राप्त करने में समर्थ होते हैं, जिससे सामाजिक मान-प्रतिष्ठा तथा यश समाज में विद्यमान रहता है, साथ ही नेतृत्व की क्षमता भी इनमें विद्यमान रहती है।
अतः इसके प्रभाव से आपका व्यक्तित्व आकर्षक रहेगा, जिससे अन्य लोग आपसे प्रभावित रहेंगे। आप निर्भीक पुरुष होंगे तथा अपने समस्त शुभ एवं सांसारिक कार्यकलापों को निर्भयता से संपन्न करके उनमें वांछित सफलता प्राप्त करेंगे, जिससे आपको भौतिक सुख-संसाधनों एवं अन्य ऐश्वर्य की प्राप्ति होगी तथा उन्नति के मार्ग भी प्रशस्त रहेंगे, फलतः आपका जीवन सुखपूर्वक व्यतीत होगा।
आपके हृदय में उदारता का भाव भी विद्यमान रहेगा तथा अन्य लोगों के प्रति स्नेह के भाव का प्रदर्शन भी करेंगे। आपको स्वपुरुषार्थ से जीवन में सफलता प्राप्त होगी तथा प्रतियोगिता के क्षेत्र में आप सफल होंगे। आपके शत्रु व प्रतिद्वंन्द्वी आपसे भयभीत होंगे, परंतु यदि आप अन्य जनों के साथ पूर्ण समानता का व्यवहार करेंगे, तो आप समाज में लोकप्रियता तथा अतिरिक्त प्रतिष्ठा भी अर्जित करने में समर्थ हो सकते हैं।
आप में शारीरिक बल की प्रधानता विशेष रहेगी तथा परिश्रम एवं पराक्रम में अपने सांसारिक महत्त्व के कार्यों को संपन्न करेंगे तथा इनमें इच्छित सफलता प्राप्त करके जीवन में उन्नति के मार्ग प्रशस्त करेंगे। राजनीति या व्यापार आदि में आप उन्नतिशील रहेंगे तथा इन क्षेत्रों में आपकी श्रेष्ठता बनी रहेगी।
आपके स्वभाव में तेजस्विता का भाव भी विद्यमान रहेगा। अतः यदा-कदा आप अनावश्यक क्रोध या उग्रता के भाव का भी प्रदर्शन करेंगे। आयुर्वेद एवं योग आदि के प्रति आपकी आस्था विद्यमान रहेगी। आप में गंभीरता का भाव विद्यमान होगा, फलतः आपके कार्य धैर्यपूर्वक संपन्न होंगे, जिससे आपको सफलता प्राप्त होगी।
सूर्य राजयोग कारक ग्रह है। सिंह राशि के जातक प्रायः राजा की तरह ऐश्वर्य व प्रतिष्ठा का उपभोग करते हैं। ऐसे व्यक्तियों का चेहरा तेजस्वी व लालिमा युक्त होता है।
धर्म के प्रति आपके मन में श्रद्धा रहेगी तथा श्रद्धापूर्वक धार्मिक कार्यकलापों तथा अनुष्ठानों को संपन्न करेंगे। इसी परिप्रेक्ष्य में सत्संग आदि में भी अपना योगदान प्रदान कर सकते हैं। आपको भ्रमण या पर्वतीय क्षेत्र में घूमना रुचिकर लगेगा। अतः आप समय-समय पर ऐसे स्थानों की सैर करते रहेंगे। इस प्रकार समस्त सुखों का उपभोग करते हुए आप अपना समय व्यतीत करेंगे।
सिंह राशि पुरुष संज्ञक व अग्नि तत्त्व प्रधान राशि है। आप उदार हृदय होने के नाते लोगों को क्षमा कर देते हैं। परंतु यदि कोई आपके मान, पद व प्रतिष्ठा पर कालिख पोतने की कोशिश करता है, तो आप उसे कभी भी क्षमा नहीं करेंगे। आपके जोश, हिम्मत व रोब के सामने शत्रु के हौसले पस्त हो जाएंगे। शत्रु आपके सामने आने से हमेशा घबराएगा, इसलिए पीठ पीछे आपकी बुराई होगी व सम्मुख प्रशंसा। आप चापलूस लोगों से बचें।
सिंह राशि चतुष्पद, शीर्षोदय व दिनबली है। रात्रि के कार्यकलाप आपके लिए अनुकूल नहीं कहे जा सकते। आप किसी के भी अधीनस्थ रहकर कार्य नहीं कर सकते। आप स्वच्छंदचारी व स्वतंत्र विचारों वाले व्यक्ति हैं। यदि आप व्यापारी हैं, तो आप देखेंगे कि आपका भागीदार आपसे कुछ दबा हुआ, डरा हुआ-सा होगा। यह आपकी प्रकृति प्रदत्त शक्ति व जन्मजात विशेषता है।
यदि आपका जन्म सिंह राशि के अन्तर्गत ‘मघा नक्षत्र’ (मा, मी, मु, मे) में हुआ है, तो आपका जन्म 7 वर्ष की केतु की दशा के अन्तर्गत हुआ है। आपकी योनि‒मूषक, गण‒राक्षस, वर्ण‒क्षत्रिय, हंसक‒वायु, नाड़ी‒आद्य, पाया‒चांदी एवं वर्ग भी मूषक है। आप ठिगने कद के सुदृढ़ वक्ष-स्थल एवं मज़बूत जंघाओं के मालिक हैं। गर्दन कुछ मोटी, वाणी में कुछ कर्कशता व रुखापन सिंह राशि वाले व्यक्ति की विशेषता है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्तियों को प्रायः 5 व 6 नम्बर के दांत तीखे, जिह्वा चौकोर व खुरदरी होती है। मघा नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्तियों की आंखों में कुछ विशेष आकर्षण होता है, चेहरा शेर के समान भरा हुआ व रोबीला होता है। प्रायः इस राशि वाले व्यक्ति पुरुषार्थ व अपने पौरुष प्रदर्शन के लिए लालायित रहते हैं तथा इनको शानदार मूंछे रखने का बड़ा शौक रहता है। कुछ हद तक अभिमानी होने के नाते ये बहुत जल्दी नाराज़ भी हो जाते हैं तथा अपनी मर्दानगी एवं बलशाली शक्ति का दुरुपयोग करने में भी नहीं हिचकिचाते।
यदि आपका जन्म सिंह राशि के अन्तर्गत ‘पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र’ (मो, टा, टी, टू) में हुआ है, तो आपका जन्म 20 वर्ष की शुक्र की महादशा में हुआ है। आपकी योनि‒मूषक, गण‒मनुष्य, वर्ण‒क्षत्रिय, हंसक‒वायु, नाड़ी‒मध्य, पाया‒चांदी इस नक्षत्र के प्रथम चरण का वर्ग-मूषक तथा अंतिम तीन चरण का वर्ण-श्वान है। इस नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति मधुर भाषी एवं भ्रमणशील होते हैं। इन्हें पानी से बहुत प्रेम होता है।
यदि आपका जन्म सिंह राशि के अन्तर्गत ‘उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र’ के प्रथम चरण (टे) में हुआ है, तो आपका जन्म 6 वर्ष की सूर्य की महादशा में हुआ है। आपकी योनि‒गौ, गण‒मनुष्य, वर्ण‒क्षत्रिय, हंसक‒वायु, नाड़ी‒आद्य, पाया‒चांदी तथा वर्ग‒श्वान है। इस नक्षत्र में जन्मे जातक सूर्य के समान तेजस्वी होते हैं तथा अपने परिश्रम से बहुत सारा धन एवं बहुत नाम अर्जित करते हैं।
सिंह राशि वालों के पिता-पुत्र में कम बनती है। धार्मिक क्षेत्र में आप शक्ति के उपासक हैं। भैरों, सिंह एवं सूर्य इत्यादि शक्ति प्रधान देवताओं में आपकी रुचि रहेगी। सिंह राशि, उष्ण-स्वभाव, अल्प-संतति, पीतवर्ण, भ्रमणप्रिय व निर्जल राशि है। आपको मलाईदार वस्तुओं में रुचि रहेगी। सूर्य का तेजोमय ‘माणिक्य रत्न’ आपके लिए सदा सर्वथा अनुकूल व शुभ रहेगा।

सिंह राशि वालों के लिए उपाय

4 1/4 का ‘माणिक्य’ या ‘सूर्यकांतमणि’ धारण करें। आदित्य हृदय स्रोत का रोज़ाना पाठ करें। सूर्य को अर्घ्य दें। लाल रंग के 7 पुष्प भाग्योदय व उन्नति की कामना से जलाशय में प्रवाहित करें। लाल रंग के पुष्प व पत्ते वाले पौधे को रोज़ाना जल दें। अनार के पौधे को सींचें।

सिंह राशि की प्रमुख विशेषताएं

  1. राशि ‒ सिंह
    1. राशि चिह्न ‒ शेर
    2. राशि स्वामी ‒ सूर्य
    3. राशि तत्त्व ‒ अग्नि तत्त्व
    4. राशि स्वरूप ‒ स्थिर
    5. राशि दिशा ‒ पूर्व
    6. राशि लिंग व गुण ‒ पुरुष, सतोगुणी
    7. राशि जाति ‒ क्षत्रिय
    8. राशि प्रकृति व स्वभाव ‒ क्रूर स्वभाव, पित्त प्रकृति
    9. राशि का अंग ‒ हृदय
    10. राशि का रत्न ‒ माणिक्य
    11. अनुकूल उपरत्न ‒ सूर्यकांत मणि
    12. अनुकूल धातु ‒ स्वर्ण
    13. अनुकूल रंग ‒ चमकीला श्वेत, पीला, भगवा
    14. शुभ दिवस ‒ रविवार, बुधवार
    15. अनुकूल देवता ‒ सूर्य
    16. व्रत, उपवास ‒ रविवार
    17. अनुकूल अंक ‒ 1
    18. अनुकूल तारीख़ें ‒ 1/10/19/28
    19. मित्र राशियां ‒ मिथुन, कन्या, मेष, धनु
    20. शत्रु राशियां ‒ वृषभ, तुला, मकर, कुंभ
    21. सकारात्मक तथ्य ‒ खुले दिल-दिमाग वाला, उदारमना, गर्मजोशी
    22. नकारात्मक तथ्य ‒ घमंडी, अति आत्मविश्वास, अति महत्त्वाकांक्षी

Leave a comment