googlenews

 

आप घर के लिए रोजमर्रा की जरूरत का सामान हर महीने खरीदती हैं लेकिन बढ़ती कीमतों के बीच हर बार सामान का बड़ा सा बिल आपके लिए परेशानी की वजह बन जाता है। लेकिन स्मार्ट शॉपिंग के कुछ बेहद कारगर टिप्स अपनाकर आप आसानी से अपने राशन के बिल में बचत कर सकती हैं।

चतुर मार्केटिंग तकनीकों के जरिए आज ग्राहकों को लुभाने के लिए कई प्रकार की स्कीम्स और ऑफर्स दिए जाते हैं। स्टोर्स को इस प्रकार डिजाइन किया जाता है, जो ग्राहकों को उनकी जरूरत से अधिक खरीदने और खर्च करने के लिए उकसाते हैं। इसलिए शॉपिंग के लिए जाने से पूर्व और शॉपिंग के दौरान कुछ बातों को ध्यान में रखकर आप अनावश्यक खर्च से बच सकती हैं।

पहले प्लानिंग जरूरी 

बिना किसी प्लान के घूमते-फिरते अगर आप सामान की खरीदारी के लिए चले जाते हैं तो ऐसी स्थिति में अकसर आप जरूरी सामान भूल जाते हैं और ऐसे सामान खरीद लाते हैं जो आपके लिए गैर जरूरी होते हैं। इसलिए बेहद जरूरी है, अच्छी लिस्ट बनाना और उसे चैक करना ताकि कोई जरूरी सामान छूट न जाए जिसे अचानक जरूरत पडऩे पर नजदीकी दुकान से ज्यादा कीमत पर खरीदना पड़े या गलती से ऐसे सामान को शामिल कर लिया गया हो जो जरूरी नहीं है।

बजट तय करें

बचत के लिए अपनी जरूरतों और इच्छाओं में फर्क करना जरूरी है। किसी प्रकार की सीमा न होने पर आप ऐसी बहुुत सी चीजें खरीद लेते हैं, जो आप चाहते हैं, लेकिन वे आपके लिए जरूरी नहीं हैं। बजट के रूप में पहले से ही एक सीमा तय कर लेने पर आप ऐसे प्रलोभनों से बचे रहकर सबसे पहले जरूरी सामान की खरीदारी ही करते हैं। इसलिए अनावश्यक खरीदारी पर नियंत्रण रखने के लिए बजट बनाएं।

समय निश्चित करें

बार-बार बाजार का रुख करने पर आप कई चीजें बेवजह ही खरीद लाते हैं। बचत का मूलमंत्र यही है कि बाजार जाने के लिए महीने का कोई खास समय निश्चित करें। बड़ी खरीदारी के लिए महीने में एक बार और ताजे फल-सब्जियों के लिए सप्ताह में एक बार बाजार जाना फिजूल की खरीदारी पर लगाम लगा देगा।

फायदेमंद डील्स पर रखें नजर

कई कंपनियां अपने उत्पादों के छोटे पैक्स की तुलना में बड़े पैक्स की खरीद पर ज्यादा बचत के ऑफर देती हैं। शैंपू, साबुन, तेल जैसी दैनिक आवश्यकता की चीजें जिनके जल्दी खराब होने का डर नहीं होता, आप ज्यादा मात्रा में खरीद सकते हैं। जब भी इन पर कोई अच्छी स्कीम या बेहतर डील मिलें इन्हें स्टॉक कर लें। खाने-पीने की चीजों जैसे कुछ फलों और सब्जियों को भी आप फ्रीज करके रख सकती हैं। साल के ऐसे दिनों में जब इनकी कीमतें काफी बढ़ जाती हैं, इन स्टॉक्ड चीजों को इस्तेमाल करके आप बचत कर सकती हैं।

 

आगे पढ़िए कैसे हर ऑफर फायदेमंद नहीं होता ……..

 

 

 

अगर ऐसे बनाएंगे राशन का बजट तो 100% होगी बचत 3

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

हर ऑफर फायदेमंद नहीं

फायदेमंद शॉपिंग भी एक कला है। स्कीम्स देखने-सुनने में भले ही लुभावनी लगें, लेकिन हर स्कीम आपके लिए फायदे का सौदा नहीं हो सकती। अच्छी डील्स की तलाश में हर ऑफर को बेहद देख-परख कर ही लें। बाय-टू-गेट-वन या बड़े पैक पर छोटा पैक फ्री जैसा ऑफर आपके लिए किसी काम का नहीं, अगर आप अमुक सामान कम मात्रा में इस्तेमाल करते हैं। इसलिए अपनी जरूरत के अनुसार ही ऑॅफर का लाभ उठाएं। खास दिनों में खास बचत कुछ बड़े डिपार्टमेंटल स्टोर्स सप्ताह, महीने या साल के कुछ खास दिनों में विशेष ऑफर और डिस्काउंट देते हैं। इन अवसरों का लाभ उठाएं। ऐसे स्टोर्स के विज्ञापनों पर नजर रखें या मैसेज अलर्ट की सुविधा लें।

जरूरत जितनी बास्केट

कंज्यूमर बिहेवियर से जुड़े शोध बताते हैं कि बड़े डिपार्टमेंटल स्टोर्स में बड़े शॉपिंग काट्र्स प्रयोग किए जाते हैं। ये ग्राहक को इसे पूरा भरने के लिए उकसाते हैं, जिसकी वजह से कई बार फिजूल के सामान की खरीदारी कर ली जाती है। बड़ी सी ट्रॉली को कोई भी खाली लेकर नहीं चलना चाहता और आप चाहे छोटा-मोटा ही सही, अतिरिक्त सामान इसमें भरते जाते हैं। इससे बचने के लिए बड़े शॉपिंग कार्ट की जगह बास्केट या बैग लें। उसमें वही सामान डालें जो आपकी लिस्ट में मौजूद है।

जरूरी है पारखी नजर

विक्रेता ग्राहकों को महंगी और ज्यादा मुनाफे वाली चीजें खरीदने के लिए उकसाने को कई तरह की मार्केटिंग युक्तियों का प्रयोग करते हैं। जैसे कि किसी भी डिपार्टमेंटल स्टोर में ज्यादा लाभ वाले सामान को अच्छी तरह डिस्पले किया जाता है। विक्रेता ऐसे ब्राण्ड के सामान को शेल्फ पर ठीक सामने रखते हैं, जिन पर उन्हें ज्यादा लाभ मिलता है। ग्राहकों की नजर उन पर आसानी से पड़े इसलिए अपनी जरूरत के सामान को नीचे, ऊपर और पीछे की शेल्फ में ज्यादा खंगालें।

ब्राण्ड नहीं गुणवत्ता देखें

बड़े ब्राण्ड्स के उत्पादों से हम सभी आसानी से प्रभावित हो जाते हैं। व्यापक रूप से प्रचार और विज्ञापन के कारण ये उन उत्पादों की तुलना में हमारा भरोसा जीतने में कामयाब हो जाते हैं, जो ज्यादा प्रचलित नहीं होते। लेकिन याद रखें कि कई ऐसी कंपनियों के उत्पाद भी गुणवत्ता की कसौटी पर खरे उतरते हैं जिनके साथ कोई बड़ा ब्राण्ड नहीं जुड़ा होता। कम कीमत में अच्छी गुणवत्ता के दोहरे लाभ के साथ ये यकीनन फायदे का सौदा साबित होते हैं।

वादे पर न करें यकीन

हर स्टोर में ऐसी चीजें होती हैं जिनकी खूबसूरत पैकिंग, शानदार रंग-रूप या लुभावने निर्देश देखकर हमारा मन उन्हें खरीदने के लिए प्रेरित हो जाता है। ये कुछ भी हो सकते हैं- खाने को शानदार फ्लेवर देने का दावा करते सॉस या मसाले, बच्चों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का दावा करने वाले सुपर फूड या टॉनिक, त्वचा को फ्लॉलेस बनाने का वायदा करते बाजार में लॉन्च हुए नए सौंदर्य उत्पाद, कपड़ों में बेशुमार चमक लाने का दावा करते डिटर्जेंट और साबुन या आपके बच्चे को उकसाती महंगी कैंडी और इम्पोर्टेड चॉकलेट। ऐसी चीजों के रंग-रूप और कलेेवर से मोहित होकर उन्हें खरीदने की भूल न करें। अगर ये सामान आपकी लिस्ट में नहीं हैं तो अपने फैसले पर अडिग रहें। अन्यथा कुछ ऐसी चीजों को खरीदना ही आपके बजट को बिगाडऩे के लिए काफी है।

सबसे सस्ता हो जहां

अनुभव के साथ ही आप जान सकते हैं कि आपको सबसे बेहतरीन डील्स और सामान की सबसे कम कीमत किस स्टोर से मिल सकती है। इसके लिए आंख मूंद कर किसी एक स्टोर पर ही भरोसा न करें बल्कि अलग-अलग स्टोर्स में सामान के मूल्यों का तुलनात्मक विश्लेषण करें। इसमें कुछ मेहनत और समय तो अवश्य खर्च होगा, लेकिन लंबे समय में आपकी यह मेहनत आपको काफी पैसे बचाने में मदद कर सकती है।

रंग-रूप 

चीजों के रंग-रूप और कलेेवर से मोहित होकर उन्हें खरीदने की भूल न करें। अगर ये सामान आपकी लिस्ट में नहीं हैं तो अपने फैसले पर अडिग रहें। अन्यथा कुछ ऐसी चीजों को खरीदना ही आपके बजट को बिगाडऩे के लिए काफी है।

 

ये भी पढ़ें –

अगर देना चाहते हैं महंगे गिफ्ट्स तो जान लें…

महिलाओं के लिए इनवेस्टमेंट गाइड…

ये टॉप 5 ऑटोमेटिक कार महिलाओं के लिए हैं बेस्ट…

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।