पटना के मगध यूनिवर्सिटी से पढ़ी लिखी ज्योति हमेशा से समाजिक उथल-पुथल और औरतों और बच्चों की परेशानियों के प्रति संवेदनशील रही। यही वजह थी कि जब उन्होंने पत्रकारिता शुरू की तो इन्हीं विषयों के इर्द-गिर्द उन्होंने ज्यादातर काम किया। लेकिन घर और ससुराल दोनों ही जगह सबसे बड़ी होने के नाते पारिवारिक जिम्मेदारियों के आगे उन्हें अपना करियर हल्का लगा और उन्होंने एक होममेकर की तरह घर का मोर्चा संभाल लिया। 
लेकिन घर पर होने का मतलब ज्योति के लिए ये नहीं था कि अपने ग्रोथ को पीछे छोड़ देना है। उन्होंने अपने बिज़ी शेड्यूल में अपने फिटनेस और योगा क्लासेस के लिए नियमित समय निकाला और आज इन दोनों ही क्षेत्र में अच्छी जानकारी रखती हैं। 
 
रोल मॉडल
ज्योति अपने दादा जी को अपना रोल मॉडल मानती हैं। वो कहती हैं, मैं अपने दादा जी की ही तरह घर और बाहर, परिवार और करियर के बीच संतुलन बनाना चाहती हूं। 
 
मेरा सपना
ज्योति कहती हैं, मैं चाहती हूं कि मैं गरीब, बेघर बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए कुछ करूं, लेकिन क्या करना है ये मैंने अभी तय नहीं किया है।
 
मेरी हॉबी
मुझे कुकिंग करना पसंद है। मुझे इंडियन मसालों के साथ एक्सपेरिमेंट करना पसंद है।
 
खुशी मेरी नज़र में
अगर मेरे आस-पास के ज्यादातर लोग मुझे पसंद करते हैं, मेरा रेस्पेक्ट करते हैं तो मैं खुशी का अनुभव करती हूं। 
 
ये पूछने पर की अपने अनुभव से वो महिलाओं को क्या संदेश देना चाहेंगी ज्योति कहती हैं कि उन्हें लगता है कि हर महिला के लिए शिक्षा और अपने पांव पर खड़ा होना है सबसे जरूरी है। 
 

 

 

अगर आपको भी बनना है गृहलक्ष्मी ऑफ द डे?

यदि आप भी ‘गृहलक्ष्मी ऑफ़ द डे’ बनना चाहती हैं, तो हमें अपनी एंट्री भेंजें या किसी को नॉमिनेट करें इस लिंक पर http://glkittyparty.com/hi/ । साथ ही गृहलक्ष्मी के फेसबुक पेज पर सभी पोस्ट को लाइक व शेयर करें । फिर देर किस बात की, आज ही भेजें अपनी एंट्री।

या

आप अपने बारे में ये जानकारियां लिख भेजें हमें –

 पसंद-

जिंदगी का मंत्र –

एक शब्द में आप-

आइडियल –

आपका सपना

आपकी उपलब्धियां-

 

ये जवाब लिखकर भेजें अपने फ़ोन नंबर और ईमेल आई डी और फोटो के साथ।अपनी फोटो हमारे फेसबुक मेसेज बॉक्स में या वेबसाइट पेज पर नीचे लॉगिन कर कमेंट बॉक्स में या फिर grehlakshmihindi@gmail.com पर भेजे।

 
ये भी पढ़ें-