कैंसर एक गंभीर बिमारी है, ये तो सभी जानते हैं और ये भी जानते हैं कि सही समय पर यदी इलाज शुरू हो जाए तो इससे उबरना नामुमकिन नहीं है। बॉलीवुड के अलावा आम जीवन में भी कई ऐसे लोग हैं जो इससे उबर चुके हैं, लेकिन जो बात सोनाली बेंद्रे के केस को सबसे अलग बनाती है, वो है सोनाली का अपने इस दर्द भरे सफर को मुस्कुराते हुए काटना और कई कैंसर पेशेन्ट्स के साथ-साथ एक आम इंसान के लिए भी इंस्पिरेशन बन जाना। 

नहीं छोड़ रही किताबों का साथ

हाल ही में सोनाली ने रीड अ बुक डे पर इंस्टाग्राम में ये पोस्ट शेयर किया जिसमें उन्होंने एक नई किचाब पढ़ने की शुरूआत करने की बात की है। ये कहना गलत न होगा कि अगर आप भी खुद को किताब जैसी कंपैनियन देंगे तो आपको भी निराशा का सामना नहीं करना पड़ेगा। 



दिल की बातें भी करती रहती हैं साझा

कैंसर ट्रीटमेंट के दौरान जब सोनाली को लगा कि उन्हें अब विग की जरूरत है तो उन्होंने इंस्टाग्रम पर एक पोस्ट शेयर किया जिसमें उन्होंने लिखा कि एक ऐसा पल भी था जब मुझे लग रहा था कि क्या मैं जबरदस्ती अच्छे दिखने की कोशिश कर रही हूं…एंरटेन्मेंट इंडस्ट्री का हिस्सा रहते रहते शायद ये मेरी आदत बन गई है, लेकिन फिर मैंने खुद को समझाया कि मैं विग इसलिए विग पहन रही हूं कि मैं खुद अच्छा दिखना चाहती हूं। जब मेरा मूड होगा मैं स्कार्फ पहनकर घूमूंगी और जब मेरा दिल चाहेगा मैं बिना बालों के बिंदास घूमूंगी। आप कब किस चीज़ से खुश होंगे ये आपको खुद तय करना है।