गणपति बप्पा के भक्त गणेश चतुर्थी के त्यौहार को हर साल बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। पूरे भारत में लोग गणपति के स्वागत की तैयारी काफी खुशी और जौश के साथ करते हैं। इस उत्सव में लोग अपने घरों में गणेश जी की मूर्ति लाते हैं और हफ्ता या 10 दिन उनकी पूजा करने के बाद विसर्जन कर देते हैं।

लेकिन भारत में पांच ऐसे शहर हैं जहां इस  त्यौहार को बड़े ही शौक और काफी विशाल तरीके से मनाया जाता है। जहां लोग दूर-दूर से बप्पा के दर्शन करने आते हैं। तो चलिए जानते हैं उन पांच शहरों के बारे में-

1.स्वयंभू गणेश मंदिर

यह मंदर महाराष्ट्र में है और ‘स्वयंभू’ का मतलब है खुद से बना हुआ। दरअसल लोगों का कहना है कि यह मंदिर खुद ब खुद बना है। यहां 5 दिनों तक बड़े घूमधाम के साथ गणेश चतुर्थी का त्यौहार मनाया जाता है।

स्वयंभू गणेश मंदिर

2. मुंबई

गणेश चतुर्थी के मौके पर सबसे ज्यादा चहल-पहल मुंबई में देखी जाती है। यहां लोग सिर्फ अपने घरों में ही नहीं बल्कि कई जगहों पर गणेश जी की मूर्ति की स्थापना करते हैं। सभी मूर्तियों का आकार बेहद विशाल होता है। विसर्जन के समय यहां बेहद भीड़ भाड का माहोल होता है क्योंकि दूर-दूर से लोग यहां गणेश चतुर्थी मनाने आते हैं। 

मुंबई

3. बेंगलुरु

बेंगलुरु में गणेश चतुर्थी के मौके पर हर जगह रोशनी और चहल-पहल देखने को मिलती है। इस शहर में श्री जाम्बू गणपति मंदिर और अनंत नगर मंदिर बहुत फेमस हैं यहां गणेश उत्सव में भक्तों की काफी भीड़ लगी रहती है। 

बेंगलुरु में गणेश विसरजन

4. पुणे

पुणे शहर में भी गणेश चतुर्थी काफी धूमधाम से मनाई जाती है। यहां पूरे दस दिनों तक त्यौर मनाया जाता है और हर दिन गणेश जी की खास अंदाज में पूजा-अर्चणा की जाती है।

पुणे शहर में कस्बा गणपति, गुरूजी तमिल और केशरीवाडा गणपति बहुत फेमस है, यहां दर्शन करने लोग दूर-दूर से आते हैं।

पुणे में गणेश चतुर्थी महोत्सव

5. हैदराबाद

हैदराबाद में भी गणेश चतुर्थी बेहद खुशी उल्लास से मनाई जाती है और यहां पूरे 15 दिन तक गणेश जी की पूजा की जाती है। 15 दिनों के बाद गणपति बप्पा का विसरजन किया जाता है।

हैदराबाद में भी गणेश चतुर्थी

यह भी पढ़ें –क्या है पारिजात के पौधे का इतिहास, क्यों है ये इतना खास

धर्म -अध्यात्म सम्बन्धी यह आलेख आपको कैसा लगा ?  अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही  धर्म -अध्यात्म से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com