कोविड- 19 के खतरों से जूझ रहे हमारे देश में लोग मानसिक और शारीरिक परेशानी से दुखी हैं। हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों को गंभीर कॉम्प्लीकेशन होने के खतरे ज्यादा हैं। हमारे यहां हाई ब्लड प्रेशर की स्थिति को हमेशा से ही गंभीर माना जाता रहा है, जो अंतत ह्रदय, किडनी, मस्तिष्क को जोखिम में डालता है और कई बीमारियों का कारण बनता है। कोरोना महामारी के इस दौर में लोगों को एन्जायटी और स्ट्रेस भी बहुत हो रहा है, जो उन्हें हाइपरटेंशन का मरीज बनाता है। कई दफा खाने की खराब आदतों या हेरेडिट्री वजहों से भी हाइपरटेंशन होने का खतरा रहता है।

कमजोर इम्यून सिस्टम एक कारण है, जिसकी वजह से लोगों को हाई ब्लड प्रेशर और अन्य बीमारियां होती हैं। इन लोगों के कोरोना वायरस की चपेट में आने के चांसेज ज्यादा रहते हैं। लंबे समय से च रही बीमारी और बढ़ती उम्र इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देते हैं और कोविड- 19 के वायरस से लड़ने में व्यक्ति को दिक्कत होने लगती है। इसलिए, जरूरी है कि इस वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे को हम सब अपने हाइपरटेंशन को मैनेज करें और अपनी लाइफस्टाइल में कुछ जरूरी बदलाव लाएं।

सही डाइट का साथ

हेल्थ एक्सपर्ट्स हमेशा से यह कहते और मानते आए हैं कि ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए अलग- अलग ट्रीटमेंट हैं। लेकिन अमूमन वे खाने की आदतों को बदलने के लिए कहते हैं। पोटेशियम समृद्ध खाना, जैसे संतरा, केला, पालक, ब्रोकोली आदि ब्लड प्रेशर को कम करने में मददगार हैं।

कम नमक का सेवन

 

ब्लड प्रेशर के रोगी के लिए यह जरूरी है कि वह कम नमक का सेवन अकरे और पैकेट वाले फूड्स से परहेज करे। ऐसा इसलिए क्योंकि सोडियम का सीन ब्लड प्रेशर को बढ़ा सकता है।

एक्सरसाइज है जरूरी

 

इस समय यह सही है कि आप घर से बाहर नहीं निकल सकती हैं लेकिन घर के अंदर तो एक्सरसाइज कर ही सकती हैं। हर व्यक्ति के लिए यह जरूरी है कि वह रोजाना कम से कम आधा घंटा एक्सरसाइज करे। एक्सरसाइज एक जरिया है, जिसकी मदद से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। सप्ताह में चार दिन हल्के- फुल्के एक्सरसाइज भी हमारी बॉडी में बदलाव लाने की क्षमता रखते हैं।

भरपूर नींद

 

नींद सबके लिए बहुत जरूरी है, वह भी 8 घंटे के लिए। इस तरह से आपका ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रहता है। रिसर्च और शोध बताते हैं कि जो लोग छह घंटे या इससे कम सोते हैं, उनका ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

ब्लड प्रेशर और अन्य नियमित जांच

 

बीमारियों के का कारण पारिवारिक कारण और जींस भी होते हैं। लेकिन आप सही डाइट, एक्सरसाइज और भरपूर पानी पीकर अपनी बीमारियों को नजदीक आने से रोक सकती हैं। ऐसे लोगों के लिए जरूरी है कि वे समय- समय पर अपने ब्लड प्रेशर की जांच करते रहें। हाइपरटेंशन वाले लोगों को नियमित समय पर अपनी दृष्टि, किडनी और ह्रदय की भी जांच कराते रहना चाहिए। इसके अलावा, अन्य लोगों को भी कुछ- कुछ अंतराल पर फुल बॉडी चेकअप कराते रहना चाहिए।

नियमित दवाइयां

हाइपरटेंशन के मरीजों के लिए यह भी आवश्यक है कि वे अपनी दवाइयां नियमित तौर पर लेते रहें, भले ही उनका ब्लड प्रेशर नॉर्मल रहे। दवाइयों में किसी भी तरह का बदलाव डॉक्टर की मर्जी के बिना नहीं करना चाहिए।

हेल्थ प्लान जरूर लें

दिनोंदिन मेडिकल कॉस्ट्स बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में अगर कोई बीमार पड़ गया तो उसका इलाज कराना परिवार पर बहुत भारी पड़ जाता है। अस्पताल में रहने का खर्च, दवाइयां, बिल, तरह- तरह के जांच, ये सब मिलकर बहुत मोटी रकम हो जाती है। इसलिए अपने और अपने परिवार के लिए हेल्थ इंश्योरेंस जरूर लें ताकि आपकी और आपके परिवार की सुरक्षा सही समय पर की जा सके।

 

ये भी पढ़ें- 

कोविड के समय अपनी इम्युनिटी ऐसे बूस्ट करें आंवला और मोरिंगा ड्रिंक से 

कढ़ी के हेल्थ बेनेफिट्स, जानें क्यों जरूरी है गर्मी में कढ़ी का सेवन 

 

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-  editor@grehlakshmi.com