googlenews
Daulat Aai Maut Lai Hindi Novel | Grehlakshmi
daulat aai maut lai by james hadley chase दौलत आई मौत लाई (The World is in My Pocket)

अपने बॉडीगार्डों के साथ कार्लो तान्जा ठीक दस बजे मसीनो के दफ्तर में पहुंचा। उसके अंगरक्षकों ने दो भारी सूटकेस मसीनो की डेस्क पर रख दिये। मसीनो की नजरें तान्जा से मिलीं तो वह धूर्तता से मुस्कराया।

तान्जा छोटे-से कद का लेकिन भारी जिस्म का एक इटैलियन था। उसका सिर गंजा था। भारी तोंद वाले कार्लो तान्जा की छोटी-छोटी आंखें सदैव मक्कारी से भरी रहती थीं। उसके होंठ शराब की तरह सुर्ख थे।

मसीनो से हाथ मिलाकर उसने अपने आदमियों को बाहर जाने का आदेश कर दिया। एन्डी जो रकम गिनने के लिए वहां रुक गया था उसे भी बाहर जाने का संकेत करके वह बोला-

‘जैसा मैंने वायदा किया था जोये, रकम हाजिर है।’

‘धन्यवाद।’ मसीनो ने कहा।

‘बॉस ने मुझे फोन किया था।’ तान्जा बोला – ‘चोरी की खबर सुनकर उसे भी बहुत दुख हुआ था, लेकिन तुम्हें भी सतर्क रहना चाहिए। प्रत्येक चीज का ठीक से इंतजाम करो और ये तिजोरी…।’ उसने वाक्य अधूरा ही छोड़ दिया।

‘मैं इसे बदलवा रहा हूं।’ मसीनो ने जल्दी से कहा।

‘हां-ये तो बहुत पहले ही बदल जानी चाहिए थी। खैर-कुछ पता चला कि चोर कौन है?’

‘अभी निश्चित रूप से तो कुछ कहा नहीं जा सकता मगर जौनी वियान्डा पर शक है क्योंकि वह गायब हो गया है।’

‘वियान्डा!’ तान्जा हैरानी भरे स्वर में बोला- ‘वह तो तुम्हारा सबसे ज्यादा विश्वसनीय व्यक्ति है।’

‘हां!’ मसीनो का चेहरा फिर से तमतमा उठा-उसने जौनी के बारे में अब तक की सारी जानकारी से उसे अवगत करा दिया।

‘तुम्हें यकीन है कि वह लड़की इस बारे में कुछ नहीं जानती?’ तान्जा ने पूछा।

‘हां!’

‘फिर तुम अब क्या करने की सोच रहे हो?’

उसने मुट्ठियां भींचते हुए जवाब दिया – ‘यदि वह इस शहर से बाहर पहुंच गया है तो मैं तुम्हारी ऑर्गेनाइजेशन द्वारा उसकी खोज कराना चाहता हूं और यदि यहीं हुआ तब तो मैं उसे ढूंढ ही लूंगा।’

‘परन्तु उतनी रकम से तो वह अपनी सुरक्षा के हजारों साधन जुटा सकता है।’ तान्जा ने कुछ विचारपूर्ण ढंग से कहा – ‘फिर भी मैं अपने बॉस से कह दूंगा कि तुम हमारे द्वारा उसकी तलाश करवाना चाहते हो।’

‘हां-बशर्ते वह इस शहर से बाहर भाग गया हो।’

‘मैं भी जल्दबाजी से काम नहीं लूंगा जोये। क्योंकि एक बार संगठन जिस काम को आरंभ कर देता है फिर उसे अधूरा नहीं छोड़ता और इस काम की भी तुम्हें कीमत चुकानी होगी। जैसे ही तुम्हें यह विश्वास हो जाए कि वह इस शहर में नहीं है, तुम मुझे खबर कर देना। बाकी काम हमारा रहा।’

‘मान लो, वह यहां से जा चुका हो तो जब तक तुम मेरी सूचना का इंतजार करोगे तब तक तो वह और भी दूर निकल जाएगा।’

तान्जा कुटिलता से हंसा-बोला-‘इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। अगर वह चीन भी पहुंच गया तब भी हम उसे ढूंढ लेंगे। हमने आज तक किसी काम में असफलता नहीं देखी है। तुम पहले मालूम करो कि वह यहीं तो नहीं है। इसके बाद यह मामला हमें सौंप देना।’ तान्जा खड़े होते हुए बोला – ‘मैं तो तुम्हारा धन बचाने की कोशिश कर रहा हूं, पर हम मुफ्त में कोई काम नहीं किया करते हैं।’

त्राजा के चले जाने के बाद मसीनो ने अर्नी तथा टोनी को ऑफिस में बुला लिया।

‘जौनी के घर जाकर उसकी तलाशी लो।’ मसीनो ने उन्हें आदेश दिया‒ ‘उसके सामान की बारीकी से जांच करके उसकी निजी जिन्दगी की ज्यादा से ज्यादा जानकारी मुझे चाहिए‒समझ गये।’

जब वे दोनों बाहर निकल गये तो उसने लेफ्टीनेंट मुलगिन को फोन किया।

‘कोई नई बात मालूम हुई?’

‘मेरे विचार में वह शहर में नहीं है।’ मुलगिन को फोन किया।

‘कोई नई बात मालूम हुई?’

‘मेरे विचार से वह शहर में नहीं है।’ मुलगिन ने कहा‒‘क्योंकि यहां उसका कोई सुराग नहीं मिल रहा है। मेरे पास उसका पूरा, पिछला रिकार्ड, जेल की फोटो तथा फिंगर-प्रिंटस मौजूद हैं। क्या उनसे कोई फायदा उठा सकते हो तुम?’

‘हां-उससे संबंधित प्रत्येक वस्तु की मुझे आवश्यकता है।’

‘ठीक है, मैं अपने किसी आदमी द्वारा ये सभी चीजें आपके पास

पहुंचाये देता हूं।’

‘क्या उसके किसी रिश्तेदार का पता लगा है तुम्हें?’ मसीनो ने पूछा।

‘रिकार्ड के मुताबिक तो उसका कोई सगा संबंधी नहीं हैं पांच वर्ष पहले उसका बाप भी मर चुका है।’

‘उसके बारे में बताओ।’

‘वह इटैलियन था-टम्पा स्थित फलों की फैक्टरी में काम करता था। जौनी की पैदाइश भी वहीं हुई थी।’

मसीनो ने क्षण-भर कुछ सोचा‒ ‘वह हरामखोर वापिस दक्षिण की ओर जा सकता है।’

‘क्या तुम चाहते हो कि मैं फ्लोरिडा की पुलिस को सतर्क कर दूं?’

‘नहीं लेफ्टीनेंट। वहां तो मैं भी उसे तलाश कर लूंगा। तुम सिर्फ शहर में ही उसकी खोज जारी रखो।’ कुछ क्षण रुककर मसीनो ने फिर कहा‒ ‘अगली बार जब तुम इधर से गुजरो तो एन्डी से मिल लेना। उसके पास तुम्हें देने के लिए कुछ सामान है।’

मुलगिन उसको धन्यवाद देने लगा, किन्तु तब तक मसीनो ने फोन का संबंध विच्छेद कर दिया था।

Leave a comment