googlenews
बच्चों में तेजी से फैल रहा है खसरा रोग, जानें लक्षण और बचाव: Signs of Measles
Signs of Measles in Child

Signs of Measles: खसरा (मीजल्स) एक अत्यधिक संक्रामक रोग है जो बच्चों में सबसे अधिक पाया जाता है। वैश्विक स्तर पर यह बच्चों में मृत्यु होने के प्रमुख कारणों में से एक है। खसरे की कुछ दुर्लभ लेकिन गंभीर जटिलताओं में निमोनिया, नेत्रहीनता और मस्तिष्क में संक्रमण शामिल हो सकता है, इसलिए इसके वैक्सीनेशन पर बल दिया जाता है।

जिस किसी को भी खसरा है या शरीर में दाने या बुखार जैसे लक्षण हैं, उन्हें तुरंत डाॅक्टर को दिखाने की सलाह दी जाती है। शरीर में चकत्ते या बुखार किसी अन्य कारण से भी हो सकते हैं, इसलिए सही निदान और जांच आवश्यक है। दुनिया भर में हर साल खसरा के लाखों मामले होते हैं। आइए जानते हैं एशियन हॉस्पिटल के सीनियर कन्सल्टेन्ट पेडियाट्रिशियन और एनआईसीयू के हेड डॉ सुमित चक्रबर्ती से खसरा के बारे में विस्तार से। 

Signs of Measles: क्या होता है खसरा?

खसरा (जिसे रूबेला भी कहा जाता है) एक वायरस के कारण होता है, इसलिए इसके लिए अलग से कोई इलाज नहीं है। इससे ग्रस्त बच्चे को बहुत सारे तरल पदार्थ पीने चाहिए, आराम करना चाहिए, और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए स्कूल या डे केयर से दूर घर पर रहना चाहिए।

खसरा के क्या लक्षण हैं?

Signs of Measles
Measles symptoms

खसरा (मीजल्स) के कुछ सामान्य लक्षणों में त्वचा पर दाने, बुखार, भूख में कमी, नाक बहना, गले में खराश, खांसी, लाल चकत्ते, नाक बंद होना, आंखों में पानी या गंदगी आना, थकान, आंखों में लाली, छींके आना, ग्रंथियों में सूजन और पलकें भारी होना शामिल हैं। बच्चों को चकत्तों के शुरू होने से पहले मुंह के अंदर कोप्लिक के धब्बे (नीले-सफेद धब्बों के साथ छोटे लाल धब्बे) भी हो सकते हैं।

लक्षण शुरू होने के 3 से 5 दिनों के बाद दाने निकलते हैं, कभी-कभी 104°F (40°C) तक तेज बुखार भी इसके साथ हो सकता है। लाल या लाल-भूरे दाने आमतौर पर माथे पर सपाट लाल धब्बों के रूप में शुरू होते हैं। यह चेहरे के बाकी हिस्सों में भी फैलता है, फिर गर्दन और नीचे हाथ, पैर और पैरों तक फैलता है। कुछ दिनों के बाद बुखार और दाने धीरे-धीरे दूर हो जाते हैं।

क्या खसरा संक्रामक है?

खसरा बहुत संक्रामक है। वास्तव में, 10 में से 9 लोग जिन्हें खसरे का टीका नहीं लगाया गया है, यदि वे संक्रमित व्यक्ति के पास जाते हैं, तो उन्हें खसरा होने की सबसे ज्यादा आशंका रहती है। 

कैसे फैलता है खसरा?

खसरा तब फैलता है, जब लोग सांस लेते हैं या वायरस से संक्रमित तरल पदार्थ के सीधे संपर्क में आते हैं। यह खसरे से पीड़ित व्यक्ति के छींकने या खांसने पर हवा में छींटों के गुजरने से हो सकता है। वायरस के संपर्क में आने वाले व्यक्ति में आमतौर पर 7 से 14 दिनों के बाद लक्षण दिखाई देते हैं।

खसरे से पीड़ित लोग दाना शुरू होने के 4 दिन पहले से लेकर उसके लगभग 4 दिन बाद तक रोग फैला सकते हैं। जब उन्हें बुखार, नाक बहना और खांसी होती है, तो वे सबसे अधिक संक्रामक होते हैं। अन्य स्थितियों (जैसे एचआईवी और एड्स) के कारण कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोग ठीक होने तक खसरा के वायरस को फैला सकते हैं।

खसरा का निदान

डॉक्टर विस्तृत चिकित्सा इतिहास लेकर तथा शारीरिक जांच करने के बाद खसरा का निदान करता है। रक्त जांच कराने की जरूरत भी पड़ सकती है।

खसरा का इलाज 

Signs of Measles
Measles treatment

खसरा का कोई इलाज नहीं होता है। लेकिन लक्षणों में कमी की जा सकती है।

  • एसीटामिलोफेन या आईबुप्रोफिन से दर्द और बुखार में कमी आ सकती है। लेकिन यह ध्यान में रखना चाहिए कि बच्चों और किशोरों को एस्प्रिन नहीं दी जानी चाहिए।
  • ह्यूमिफाइडर या वैपोराइजर से खांसी में आराम मिल सकता है।
  • अधिक आराम करना चाहिए।
  • पानी की कमी से बचने के लिए काफी मात्रा में तरल पदार्थ लेने की सलाह दी जाती है। 
  • बुखार के कारण होने वाली बेचैनी को कम करने के लिए पानी से भीगे स्पंज से शरीर को साफ करना चाहिए। 

खसरा से पीड़ित बच्चों को दाने दिखने के बाद दूसरों से दूर रखना चाहिए। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए, यह तब तक जारी रहना चाहिए जब तक कि वे पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाते और सभी लक्षण दूर नहीं हो जाते।

क्या खसरा को रोका जा सकता है?

अपने बच्चों की सुरक्षा का सबसे अच्छा तरीका यह सुनिश्चित करना है कि उन्हें खसरा के खिलाफ वैक्सीनेट किया जाए। अधिकांश बच्चों के लिए, खसरा से बचने के लिए वैक्सीन जरूर लेनी चाहिए। इस बारे में बच्चे के पेडियाट्रिशियन से बात की जा सकती है। 

खसरा से जुड़ी जरूरी जानकारी

  • खसरा के संपर्क में आए लोगों या जिनके शरीर में दाने और बुखार हो, को तुरंत चिकित्सक से मिलना चाहिए।
  • दुर्लभ मामलों में खसरा के कारण निमोनिया या मस्तिष्क में संक्रमण हो सकता है।
  • खसरा से पीड़ित रोगी की गर्दन में अकड़न आती है, या वह ठीक से सांस नहीं ले पा रहा है या सुस्त है अथवा भ्रम की स्थिति में हैं तो तुरंत डॉक्टर से मिलन चाहिए।
  • यदि रोगी को खांसी के साथ पीला या हरा बलगम आ रहा है, या उसने 10 घंटों से पेशाब नहीं किया है, तो भी तुरंत डॉक्टर से मिलने की सलाह दी जाती है। 

डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे को खसरा है तो तुरंत डॉक्टर को बुलाएं। तब भी डॉक्टर को कॉल करें जब आपका बच्चा किसी ऐसे व्यक्ति के आसपास था जिसे खसरा है। खासकर यदि आपका बच्चा एक शिशु है, 

ऐसी दवाएं ले रहा है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा देती हैं या उसे ट्यूबरक्यूलोसिस, कैंसर, या प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करने वाली बीमारी हो। 

Leave a comment