घुमक्कड़ों को घूमने का मौका चाहिए होता है। फिर चाहे पहाड़ हों या नदी,समुद्र हो विदेशी धरती। इन्हीं लोगों के कदम बगीचे की ओर भी चल देते हैं और ढूंढ लाते हैं देश के बेहतरीन बगीचे। वो बगीचे जो दिल और आंखों दोनों पर कब्जा कर लेते है। इनके तरह-तरह के फूल और उनका प्यारा अरेंजमेंट आप भी देखना चाहती हैं तो देश के 10 बेहतरीन बगीचों के बारे में जान लीजिए। ये बगीचे घूमने के अनोखे ठिकाने हैं और देश भर में फैले हैं। कोरोना काल बीतने के बाद यहां आइए जरूर। इनमें से ज्यादातर बगीचों का गहरा और रोचक इतिहास भी है। मतलब आपको खुशी के साथ जानकारी भी खूब हो जाएगी। चलिए इनके बारे में जान लेते हैं-

हैंगिंग गार्डन,मुंबई (Hanging garden,Mumbai)-

 

 

मुंबई भले ही समुंदर के लिए जाना जाता हो लेकिन यहां का एक गार्डन भी बेहद फेमस है। मालाबार हिल पर बना ये बगीचा फिरोजशाह मेहता गार्डन भी कहलाता है। इस बगीचे को पानी के बड़े स्त्रोत के ऊपर बनाया गया है। इसलिए इसेहैंगिंग गार्डननाम मिला था। इस गार्डन से अरब सागर और उगते-ढलते सूरज को आसानी से देखा जा सकता है। मुंबई की असल सुंदरता आपको इस गार्डन से नजर आ जाएगी। आप मुंबई का नेचर से जुड़ा रूप भी देख सकेंगी।

इंदिरा गांधी ट्यूलिप गार्डन,श्रीनगर (Tulip garden, Srinagar)-

 

 

श्रीनगर का येइंदिरा गांधी मेमोरियल ट्यूलिप गार्डनदेश का बिलकुल अनोखा गार्डन है जहां जाकर आप शायद वापस जाना ही ना चाहें। ये पूरे एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन है जो 74 एकड़ में फैला है। यहां पर आपको ट्यूलिप की 65 प्रजातियां देखने को मिलेंगी। कुल फूलों की 47 प्रजातियां यहां मिल जाएंगी।जबरवान रेंज की तलहटी में स्थितइस गार्डन को पहले सिराज बाग नाम से जाना जाता था। 2007 में खुले इस गार्डन में करीब 1.5 मिलियन ट्यूलिप बल्ब मिल जाएंगे। ट्यूलिप गार्डन देखने के लिए स्विट्ज़रलैंड जाने वालों के लिए कश्मीर का ये बगीचा जरूरी ठिकाना है।

मुगल गार्डन,दिल्ली (Mughal garden)-

 

 

दिल्ली के मुगल गार्डन को सभी जानते हैं। ये है भी इतना खास कि साल में सिर्फ एक बार खुलने पर यहां दर्शकों का जमघट लग जाता है। इस गार्डन के हर गुलाब को किसी फेमस व्यक्ति का नाम दिया जाता है।बोंसाई और कैक्टसके बगीचे भी आपको जरूर पसंद आएंगे। फूलों का बगीचा तो है ही खास। इस गार्डन की तस्वीरें ही आपको इतना भाएंगी कि आप खुद को रोक ही नहीं पाएंगी।

मेहताब बाग,आगरा (Mehtab bagh, Agra)

ताजमहल के लिए पहचाने जाने वाले आगरा की एक और खासियत है मेहताब बाग। ये बाग ताज महल के उत्तरी छोर पर बना है। इस बाग का निर्माण ताजमहल के साथ ही1631 से 1635 के बीच करायागयाथा। 25एकड़ में बना ये बाग यमुना किनारे बना है और पहले इसका नाम चांदनी बाग हुआ करता था।

रॉक गार्डन,चंडीगढ़ (Rock garden)-

 

 

रॉक गार्डनदेश का अनोखा बगीचा है जिसेनेक चंद रॉक गार्डनभी कहा जाता है। इस गार्डन में इको टूरिज्म के मकसद से बनवाया गया था। इसमें कई सारी बेकार समझी जाने वाली चीजों का इस्तेमाल हुआ है जैसे चूड़ी,क्रॉकरी,टाइल्सऔर मूर्तियों के बेकार टुकड़े। एक रिटायर्ड अधिकारी नेक चन्द्र सैनी ने अपने खाली समय में साल 1957 में बनाना शुरू किया था। अब ये गार्डन करीब 40 एकड़ में फैला है। घूमने वालों को यहां आने के बाद ज्यादा मजा इसलिए भी आता है क्योंकि यहीं पास में सुखना लेक भी है। चंडीगढ़ आकर इन दोनों ही जगह पर हर कोई जाना ही चाहता है।

लालबाग बोटेनिकल गार्डन,बेंगलुरू (Lalbagh Garden)-

 

 

लालबाग बोटेनिकल गार्डनबेंगलुरु की शान ही है,इसे18वीं शताब्दीमेंहैदर अलीने बनवाना शुरू किया था। लेकिन इसको पूरा किया उनके बेटे टीपू सुल्तान ने। इस बाग का आकर्षणकांच की कंजरवेटरी और3000मिलियन वर्ष पुरानी बड़ी ग्रेनाइट चट्टानभी है। यहां अनोखे फूल तो मिलेंगे ही,आपको चिड़ियों की भी कई प्रजाति यहां मिलेंगी।

लोधी गार्डन,दिल्ली (Lodhi garden Delhi)

 

 

दिल्ली के लोधीगार्डनके बारे में तो आपने जरूर ही सुना होगा। ये गार्डनइंडो-इस्लामिक शैली मेंबनाया गया है। इस पार्क में16वीं सदी का पत्थर का पुल है,जिसे आठ पियर ब्रिजभी कहा जाता है। यहां बनागुंबदकाएक अष्टकोणीय डिजाइनभी बेहद खास है। ये गार्डन 90 एकड़ की बड़ी जगह में बना है और विदेशी भी इसको देखने आते हैं। ये गार्डन खान मार्केट के पास लोधी रोड पर बना है और मॉर्निंग वॉक करने वालों की तो यहां लंबी लाइन लगती है।

फूलों की घाटी,चमोली (valley of flowers)

 

 

फूलों की घाटीदेश के बेस्ट गार्डन में से एक है। इस घाटी का नाम अल्पाइन घाटी है और इसेपर्वतारोही फ्रैंक एस स्मिथने 1937 में खोज निकाला था। अल्पाइन के पेड़ों वाले इस बगीचे कोवर्ल्ड हेरिटेज साइटमाना गया है। 8 किलोमीटर लंबे और 2 किलोमीटर चौड़े इस गार्डन को 1982 में नेशनल पार्क घोषित किया गया था।

ट्रैवलसंबंधी हमारे सुझाव आपको कैसे लगे?अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेेजें। आपट्रैवलसंबंधी टिप्स भी हमें ईमेल कर सकते हैंeditor@grehlakshmi.com

ये भी पढ़ें-

बोल्ड आंखें,बोल्ड लिप्स