googlenews
Amboli Hill Station
Amboli Hill Station

Amboli Hill Station: घनी वादियों और उंची पर्वत श्रृंखलाओं से घिरा अंबोली महाराष्ट्र का सबसे अधिक वर्षा वाला क्षेत्र माना जाता है। 690 किमी की उंचाई पर स्थित इस हिल स्टेशन पर कदम रखते ही आपको किलों से लेकर झरनों तक, मंदिरों से लेकर सनसेट प्वांइट तक हर जगह प्राकृतिक खूबसूरती से भरपूर नज़र आती है। गोवा शुरू होने से पहले आखिरी चरम पर पढ़ने वाले इस हिल स्टेशन में वीकेण्ड बिताने के लिए दूर दूराज से लोग यहां पहुंचते हैं और बारिश का आनंद उठाते हैं। सिंधुदुर्ग जिले की सहयाद्री पहाड़ियों की दक्षिणी श्रृंखला में बसा ये क्षेत्र मानसून के मौसम में घूमने के लिए बेहद खास है। अगर आप भी भीड़भाड़ से दूर सुकून के कुछ पल प्रकृति की गोद में बिताना चाहते हैं, तो इस जगह का रूख अवश्य करें।

अंबोली झरना

महाराष्ट्र में स्थित अंबोली नाम का ये छोटा सा हिल स्टेशन छुट्टियां बिताने के लिए बेहतरीन स्पॉटस में से एक है। अगर अंबोली में घूमने फिरने की बात करें, तो यहां के अंबोली झरने लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। चारों ओर से हरियाली से सटे इस स्थान पर वक्त बिताने के लिए  जून से अक्तूबर का समय सबसे बेहतरीन वक्त माना जाता है। खासतौर से मानसून में इन झरनों की खूबसूरती अपने चरम पर होती है और वो वक्त घूमने के लिए सबसे सटीक है। आप घंटों इन खूबसूरत वादियों में सुकून के पल बिता सकते हैं। हनीमून के लिहाज से भी ये स्थल बेहद खास है। इस स्थान पर आप जी भर कर फोटोग्राफी भी कर सकते हैं और प्रकृति के बेहतरीन नजारों को अपने कैमरे में कैद कर सकते हैं।  

हिरन्याकेशी मंदिर

हिरन्याकेशी मंदिर अंबोली गांव में स्थित एक प्राचीन शिव मंदिर है, जिसका नाम पार्वती जी के ही एक नाम पर रखा गया है। दरअसल, पार्वती जी को हिरन्याकेशी कहकर भी पुकारा जाता है। इस मंदिर की खासियत ये है कि यहां से निकलने वाली जल धारा कृष्णा नदी में जाकर सम्मिलित हो जाती है। एक गुफा के बीचों बीच बने इस मंदिर से जल की धारा प्रवाहित होती है। पौराणिक मान्यताओं के हिसाब से यहां शिवजी के 108 मंदिर है। मगर अब तक कुछ ही उजागर हो पाए हैं। इस मंदिर में शिवजी की मूर्ति भी है। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर को शिवजी ने ही बनवाया था। धार्मिक दृष्टि के साथ साथ पर्यटन के हिसाब से भी ये जगह बेहद खूबसूरत है। हिरन्याकेशी में मछली पकड़ने के शौकीन घंटों मछली पकड़ने का आनंद उठा सकते है। इसके अलावा जंगल और घाटियों के बीच मौजूद इस स्थल से कोंकण तट का नज़ारा भी बहुत सुंदर नज़र आता है।

Amboli Hill Station
Hiranyakeshi Temple

सनसेट प्वांईट

अक्सर हिल स्टेशन्स पर आपको सनसेट प्वांईट नज़र आता है। ठीक उसी प्रकार से अंबोली में भी बेहद उंचाई पर सनसेट प्वाइंट मौजूद है। जहां से मन को मोहने वाला सनसैट दिखाई देता है। बस स्टैण्ड से कुछ ही दूरी पर मौजूद इस सनसेट प्वांइट की खूबसूरती को निहारने के लिए लोग कई घंटों यहां इंतजार करते हैं और खूबसूरत नज़ारे का आनंद उठाते हैं। यकीन मानिए अगर आप यहां पर चंद पल भी बिता लेंगे, तो आपका सफर यादगार बन जाएगा।

महादेवगढ़

प्रकृति की गोद में बसे अंबोली में महादेवगढ़ का अद्भुत नज़ारा पर्यटकों को अपनी ओर खींचता है। अंबोली बस स्‍टैंड से महज 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थ्ति महादेवगढ़ प्राचीन कलाओं का बेहतर नमूना पेश करता है। स्थानीय लोगों की मदद से आप इस जगह की बारीकियों को जान सकते हैं। मानसून में अगर आप इस जगह का रूख कर रहे हैं, तो घनी वादियों में बसी इस जगह तक पहुंचने के लिए पथरीले रास्तों पर संभल कर चलें। महादेवगढ़ पहुंचकर ना केवल घाटियों और पर्वत श्रृंख्‍लाओं को निहारा जा सकता है बल्कि अरब सागर का खूबसूरत नज़ारा भी देखने को मिलता है।

कवलशेत प्वाइंट

Amboli Hill Station
Kavalshet Point

कवलशेत प्वाइंट अंतहीन घाटियों और छोटे झरनों के लुभावने दृश्यों के लिए मशहूर है। पहाड़ों से घिरे इन झरनों को उंचाई से देखना आपके सफर को और भी रोमांचक बना सकता है। इसके अलावा लोग उंचाई पर खड़े होकर अपना नाम ज़ोर से चिल्लाते है, जो सभी दिशाओं में गूंजता है। इसके अलावा आप यहां पर रिवर्स झरना यानि की उल्टे झरने का भी दृश्य देख सकते हैं, जो नीचे से उपर की ओर बौछारें लाता है और पर्यटकों के लिए ऐसा मनोरम दृश्य बेहद मनभावन साबित होता है।

माधवगढ़ किला

शहर का माधवगढ़ किला अपने ऐतिहासिक महत्व के लिए विशेषतौर पर जाना जाता है। पुणे में शनिवारवाड़ा नामक शाही किले से करीबन चार गुणा बड़े क्षेत्रफल में फैले इस किले की छत से सैलानी हवा के ठंडे झोकों और बेहतरीन नज़ारों को तस्वीरों के ज़रिए समेट लेते हैं।

अंबोली हिल स्टेशन पहुंचने के लिए इन मार्गों को अपनाएं

हवाई जहाज रेलगाड़ी और सड़क मार्ग के ज़रिए आप कुछ ही वक्त में अंबोली हिल स्टेशन तक का सफर तय कर सकते हैं। अगर आप हवाई जहाज़ के ज़रिए आना चाहते हैं, तो गोवा का डोमेस्टिक हवाई अड्डा यहाँ से काफ़ी करीब है। वहीं रेलगाड़ी से यहां तक आने के लिए सावंतवाड़ी रेलवे स्टेशन नज़दीक पड़ता है। रेलमार्ग के ज़रिए सफर तय करने के बाद आप कैब लेकर यहां तक आसानी से पहुंच सकते हैं। वहीं, अंबोली से 550 किमी की दूरी पर बसे मुंबई और 400 किमी की दूरी पर स्थित पुणे होने से अनेक बसें न केवल इन दो शहरों से बल्कि अन्य शहरों से भी आसानी से उपलब्ध होती है। जिनकी सहायता से आप सड़कमार्ग से पहुँच सकते हैं।

Leave a comment