ऐसी मान्यता है कि कलियुग में हनुमानजी की पूजा से न सिर्फ घर की बाधा दूर होती है, बल्कि बिगड़े काम भी बन जाते हैं। कहते हैं कलियुग में समस्त दुखों का नाश महज हनुमानजी की आराधना से हो जाता है। बैकुंठ जाते वक्त मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने अपने परम भक्त हनुमान को इसी उद्देश्य से धरती पर रहने का आदेश दिया था। हनुमान जी के बहुत से मंदिर हैं और हर जगह उनके अलग अलग स्वरूपों का पूजा भी की जाती है। इसी कड़ी में एक मंदिर ऐसा भी है, जहां लगी हनुमान जी की मूर्ति का रूप चौबीस घंटे में तीन बार बदलता है। ऐसा कहा जाता है कि हनुमान जी की प्रतिमा का सुबह के समय बाल स्वरूप, दोपहर में युवा और फिर शाम ढलने के बाद से पूरी रात वृद्ध रूप हो जाता है। आइए जानते हैं कि हनुमान जी के इस मंदिर के बारे में, क्यों बदलता है उनका स्वरूप और इस मंदिर की विशेषता

 

मंडला से करीब तीन किलोमीटर दूर पुरवागांव में श्रद्धा और भक्ति का एक प्राचीन केन्द्र है, जिसे सूरजकुंड कहा जाता है। यहां पर हनुमान जी का एक प्राचीन मंदिर है। मंदिर में प्रतिष्ठित हनुमान जी की इस दुर्लभ मूर्ति की खासियत यह है कि ये चौबीस घंटो में प्राकृतिक तरीके से तीन बार अपना रूप बदलती है। मंदिर के पुजारी की मानें तो सुबह चार बजे से दस बजे तक हनुमान जी की प्रतिमा का बाल स्वरूप रहता है और दस बजे से शाम 6 बजे तक युवा व 6 बजे से पूरी रात वृद्ध स्वरूप हो जाता है। तीन स्वरूप वाले इस चमत्कारी हनुमान जी के मंदिर में बड़ी दूर.दूर से श्रद्धालु आते हैं। स्थानीय लोग और भक्तों की मानें तो सूरजकुंड के मंदिर में विराजमान हनुमान जी की यह प्रतिमा दुर्लभ है। ऐसी प्रतिमा और कहीं देखने को नहीं मिलती है। मंदिर में पहुंचने वाले सभी भक्तों को इस मंदिर के प्रति बड़ी आस्था है। कहा जाता है जो भी इस मंदिर में आता है और अर्जी लगाता है, उसकी मनोकामना जरूर पूरी होती है।

 

एक पौराणिक कथा के मुताबिक यहां पर भगवान सूर्य तपस्या करते थे। भगवान सूर्य की तपस्या में विघ्न न पड़े इसलिए हनुमान जी यहां पर पहरा दिया करते थे। जैसे ही भगवान सूर्य की तपस्या पूरी हुई तो भगवान सूर्य अपने लोक की ओर जाने लगे, जिसके बाद हनुमान जी को भगवान सूर्य ने यहीं रुकने के लिए कह दिया। इसके बाद हनुमान जी यहीं मूर्ती के रूप में रुक गए। कहा जाता है कि भगवान सूर्य की किरणों के साथ ही भगवान हनुमान अपने बाल रूप में नजर आते हैं। इसके बाद अलग.अलग पहर में अपने रूप बदलते हैं। 

 

 

धर्म –अध्यात्म सम्बन्धी यह आलेख आपको कैसा लगा ?  अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही  धर्म –अध्यात्म से जुड़े सुझाव  लेख भी हमें मेल करें-editor@grehlakshmi.com

 

यह भी पढ़ें 

क्यों पांडवों ने बनवाया था केदारनाथ मंदिर, इस कथा से जानिए इसका रहस्य