‘‘क्या मुझे विटामिन सप्लीमेंट लेने चाहिए?”

कोई भी पूरी तरह पौष्टिक आहार नियमित रूप से नहीं ले पाता। वैसे भी शुरूआती दिनों में मॉर्निंग सिकनेस की वजह से पूरी खुराक लेना काफी मुश्किल होता है। चाहे विटामिन की दवा, पौष्टिक आहार की जगह नहीं ले सकती,लेकिन इससे आहार से जुड़ी कुछ जरूरतें अवश्य पूरी होती हैं। इन दिनों तो यह इसलिए भी जरूरी है कि शिशु का विकास आरंभ हो रहा है। विटामिन या फॉलिक एसिड लेने वाली गर्भवती माताओं के शिशु कई जन्मजात रोगों से बच जाते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन B6 की खुराक से मॉर्निंग सिकनेस भी घटती है।

आप डॉक्टर की मदद से अपनी दवा की खुराक तय कर सकती हैं। कई महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस की वजह से दवा लेने में मुश्किल होती है। दवा उस समय लें, जब मन पूरी तरह शांत हो और उबकाई न आ रही हो। कोटेड गोली लेने व निगलने में आसानी रहती है। यदि आप चाहें तो चूसने वाली गोली भी ले सकती हैं। उबकाई ज्यादा आए तो कुछ घरेलू उपाय करें-जैसे ‘अदरक’ आपकी दवा गर्भावस्था की जरूरतों के हिसाब से ही होनी चाहिए। दवा बदलने से पहले डॉक्टर की रायलें। कई महिलाओं को आयरन की वजह से कब्ज या डायरिया की शिकायत हो जाती है। डॉक्टर आपकी शिकायत के हिसाब से दवा बदल देंगे। वे कोशिश करेंगे कि आपको दूसरे रूप में आयरन दिया जा सके।

‘‘मैं काफी पौष्टिक सेरेल व ब्रेड लेती हूं और साथ में विटामिन की खुराक भी ले रही हूं। कहीं विटामिन की मात्रा ज्यादा तो नहीं हो जाएगी?”

औसत खुराक के साथ विटामिन लेना तो ठीक रहता है लेकिन यदि आप फोर्टीफाइड उत्पादों के साथ विटामिन की दवाएं ले रही हैं तो आपको कई सप्लीमेंट शामिल करने होंगे पर डॉक्टर की राय लेना जरूरी है। जिन उत्पादों से विटामिन की रोज की खुराक ज्यादा हो रही हो,उन्हें लेते समय ध्यान रखें क्योंकि विटामिन‘ए’, ‘डी’, ‘ई’ व ‘के’ की अधिक मात्रा लेने से वे नुकसान पहुंचा सकते हैं।वैसे बाकी विटामिन पानी में घुलनशील होते हैं इसलिए उनकी अधिक मात्रा मूत्र के साथ बाहर निकल जाती है तभी तो सप्लीमेंट के दीवाने अमरीका वालों के मूत्र को, दुनिया में सबसे महंगा कहा जाता है।

ये भी पढ़ें – 

समय आने पर दें मित्रों व रिश्तेदारों को खुशखबरी

गर्भावस्था में बेहद खास हैं ये टेस्ट

काफी अहमियत रखती है पहली गर्भावस्था जांच

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।