आमतौर पर लोग रोजमर्रा की जिंदगी में माइग्रेन, थकान, खांसी जुकाम जैसी समस्याओं से दो चार होते रहते हैं। ये परेशानियां सुनने में तो छोटी है, मगर उससे पूरा स्वास्थ्य गड़बड़ हो जाता है। मगर आपको ये जानकर हैरत होगी कि इन छोटी-छोटी समस्याओं को हम फलों की मदद से दूर कर सकते हैं। आइए जानते हैं वो कौन से ऐसे फल हैं, जो हमें इन समस्याओं से निजात दिलाने में सहायक साबित होते हैं।

अनार

दांत मजबूत

अनार के फूल छाया में सुखाकर बारीक कर ले। अब इन्हें दांतों पर मलें, इससे दांतों को मजबूती भी मिलेगी और दांतों से आने वाला खून भी बंद हो जाएगा। इसके अलावा आम के पत्ते मिलाकर उसे पीस लें और फिर उसे रोजाना दांतों पर मलें। इससे आपके मजबूत हो जाएंगे।

पीलिया

मीठे अनार के दानों का निकला 50 ग्राम रस रात भर लोहे के बर्तन डालकर रख दें। सुबह इस रस में थोड़ी सी मिश्री मिला दें और इस घोल को तकरीबन एक महीना लगातार पिलाएं। इस दौरान आपको खटाई से परहेज रखना है।

खांसी

मीठे अनार का 20 ग्राम छिलका लेकर उसमें लाहौरी नमक बारीक करके पानी में एक एक ग्राम की गोलियां बनाएं। दिन में तीन बार दो दो गोलियां चूस लें। इस दौरान खटाई से परहेज रखे। छ ग्राम अनार के छिलके को थोड़े से दूध में उबालकर पीने से काली खांसी को बेहद राहत मिलती है।

यूरिन की समस्या

चार ग्राम अनार के ताजे छिलके को दिन में दो बार पानी के साथ खाने से गर्मी और पेशाब का बार बार जाना ठीक हो जाता है। इसे आप दस दिन तक खांए। इस दौरान आपको चावल से परहेज करना है।

अंगूर

आंख के लिए

मीठे अंगूर के रस को कलई के बर्तन में आग पर पकाएं। जब रस गाढ़ा हो जाए तब  उसे शीशी में भर दें। इस रस को रात के वक्त सिलाई से आंखों में लगाएं। इससे आंख में होने वाली खराश दूर होती है। साथ ही बाल गिरने की समस्या से भी फायदा होता है।

नकसीर के लिए

अगर आपकी नाक से खून बह रहा है, तो आप फौरन मीठे अंगूर के रस को निचोड़कर नाक में डाल दें। इससे खून फौरन बंद हो जाएगा।

सिरदर्द

25 मिलीलीटर अंगूर का ताजा रस रोजाना पीने से पेट फूलना, खराब हाजमा, सिर दर्द और कब्ज अफारा आने से आराम दिलाता है।

अमरूद

कब्ज

अमरूद कब्ज से राहत दिलाने में बेहद कारगर साबित होता है। यूं तो अमरूद भोजन से पहले खाना चाहिए और अगर आप अमरूद खाना खाने के बाद खाते हैं, तो कब्ज से राहत मिल जाती है। ऐसे में कब्ज के शिकार लोगों को नाश्ते में अमरूद ज़रूर लेना चाहिए। इसके अलावा नमक के साथ अमरूद खाने से पाचन शक्ति बढ़ती है और भूख भी लगने लगती है।

दांतों का दर्द

अमरूद के पत्तों को चबाने से दांतों की पीड़ा दूर होती है। ऐसे में अमरूद के पत्तों को पानी में उबालकर कुल्ला करें। इससे मसूड़ों का दर्द और सूजन अपने आप कम हो जाती है।

आंवला

चक्कर आना

बहुत से लोगों को गर्मियों में सिर चकराने की शिकायत होने लगती है। ऐसे में अगर आपका जी घबरा रहा है, तो आंवले का शरबत अवश्य पीएं।

पेट के छाले

ताजे आंवले के रस को शहद के साथ मिलाकर कुछ दिन तक सेवन करने से पेट और आंतों के छाले ठीक हो जाते हैं। नियमित तौर पर दो चम्मच घोल को लेने से छालों से जल्द राहत मिल सकती है।

भूख न लगना

सूखे आंवलों का चूर्ण पानी के साथ लेने पर भूख लगने लगती है।

सेब

दिमाग की कमजोरी

अगर आप बार-बार चीजें भूलने लगते हैं, तो ऐसे में सेब आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। जी हां खाना खाने से इस मिनट पहले एक मीठा बिना छिला हुआ दस दिन तक खाएं, जो दिल और दिमाग दोनों को ही ताकत देगा।

एसिडिटी की समस्या

एक मीठा सेब लेकर उसमें 10 ग्राम लौंग चुभा दें। अब दस दिन बाद लौंग निकालकर एक लौंग रोजाना पानी के साथ खाएं। इस दौरान चावल खाने से परहेज करें।  

केला

वजन बढ़ाने के लिए

अगर आप बेहद पतले हैं और थोड़ा सा वजन बढ़ाने का मन बना रहे हैं, ते केले आपको बेहद फायदा पहुंचा सकते हैं। जी हां रोजाना दो पके हुए केले खाकर उसके बाद एक गिलास दूध पी लें। ऐसा करने से आपका वजन खुद ब खुद बढ़ने लगेगा।

खांसी के लिए

बदल रहे मौसम के साथ खांस जुकाम होना एक आम बात है। अगर आप भी खांसी से परेशान हैं, तो इसके लिए केले के छिलकों को सुखाकर जलाने और फिर बारीक पीसकर एक डिब्बी में रख ले। रात को सोते वक्त गुनगुने पानी के साथ आप इसे ले लें। इससे खांसी से बेहद राहत मिलेगी। इस दौरान आपको चावल से परहेज रखना है।

Leave a comment