मनुष्य में सबसे कीमती, अनमोल और कोमल कोई चीज है, तो वह है उसकी आंखें, जिससे वह अपने आसपास की चीजों को देख कर आनंदित महसूस करता है।

आजकल की भागदौड़ भरी जिदगी, कामों का बढ़ता दबाव, अनियमित खानपान और कम्प्यूटर के युग में एकटक नजर टिकाए काम करने के तरीके से अगर हमारे शरीर का कोई अंग प्रभावित हो रहा है, तो वह है हमारी अनमोल आंखें। इस आलेख में हम वैसे खानपान के बारे में बता ऐसे रहे हैं, जिससे हमारी आंखों की रोशनी तेज, स्वस्थ व बरकरार रह सके। वैसे तो पौष्टिक पदार्थों का सेवन करने से हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है, मगर कुछ ऐसे भी खाद्य पदार्थ हैं, जिनका सेवन करने से आंखों को बहुत लाभ होता है, वे पदार्थ है, गाजर, मछली, शकरकंद, अंडे और पालक।

मछली

मांसाहारी पदार्थों में मछली सेवन का अपना एक अलग महत्त्व है इसमें पाए जाने वाले पौष्टिक तत्वों से जहां आंखें तंदरूस्त रहती है, वहीं बाल भी सफेद नहीं होते। मछली में विशेष तौर पर सालमन आदि मछलियों और फिश ऑयल में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाए जाते हैं, जो आंखों के लिए काफी फायदेमंद होती है।

अंडे

अंडे को आज शाकाहारी और मांसाहारी दोनों में लिया जाता है। आमतौर पर वे लोग, जो मांसाहार का सेवन नहीं करते, वे भी अंडा खाते हैं। अंडे के पीले भाग जिसे जर्दी कहते हैं, उसमें लुटिन नामक पौष्टिक तत्व पाया जाता है, जो आंखों की सुरक्षा करता है। इस तत्त्व के कारण आपकी आंखों में मोतियाबिंद होनी की सम्भावना कम होती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि अंडा आंखों के लिए हरी सब्जियों से ज्यादा फायदेमंद है।

गाजर

सर्दियों के मौसम में प्रचुर मात्रा में बाजारों में दिखने वाले नीले और लाल रंग के गाजर आंखों की रोशनी के लिए काफी हितकारी है। इसके पीछे की वजह यह है कि गाजर में विटामिन ‘ए’ को प्रचुर मात्रा पाई जाती है। विटामिन ‘ए’ आंखों को स्वस्थ रखने में सबसे अधिक सहायक होती है। इसलिए जाड़े के मौसम में गाजर का सेवन अवश्य करना चाहिए। ऌपरंतु, यह भी याद रखना चाहिए कि गाजर का हलवा आंखों के लिए ज्यादा फायदेमंद नहीं होता है, इसलिए  जितना हो सके कच्ची गाजर खाएं।

शकरकंद

गाजर की तरह शकरकंद भी आंखों के लिए काफी लाभकारी है। इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन ‘ए’ एवं बीटा कैरोटिन होता है, जो आंखों को स्वस्थ रखने में सहायक होता है। शकरकंद के सेवन से आंखों में रूखापन एंव जलन और रतौंधी की समस्या से निजात मिलती है। आंखों के अलावा शकरकंदी में सभी अंगों के विकास के लिए पोषक तत्त्व भी मौजूद हैं।

पालक

मांसाहारियों के लिए अडा जितना लाभदायक है, उतना ही शाकाहारियों के लिए पालक का साग। पालक में भी प्रचुर मात्रा में विटामिन ‘ए’ तथा अन्य पोषक तत्त्व पाए जाते हैं, जिसके सेवन से आंखों की रोशनी को तेज किया जा सकता है। अधिकतम प्रभाव के लिए कच्चे पालक का सलाद अत्यंत लाभकारी है, विशेषत: जैतून के तेल के साथ तैयार किए गए पालक के सलाद के सेवन से आंखों को जबरदस्त लाभ पहुंचता है।

इस तरह भगवान के द्वारा प्रदत्त इन अनमोल चक्षुओं को संजीवनी प्रदान कर सदाबहार रख सकते हैं।  

यह भी पढ़ें –महिलाओं के फैशन ट्रेंड में क्या है इस बार खास

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com