अगर रहना है सेहतमंद तो जरूर करें गार्डनिंग
गोखरू एक ऐसी जड़ी बूटी है जो सदियों से मानव के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद ही साबित हुआ है। ये उन जड़ी बूटियों में से एक है जो कई बीमारियों के इलाज में कारगर साबित होती है। चाहे गोखरू का फल हो, पत्ता हो यां फिर तना आयुर्वेद में औषधि के रूप में ये सभी प्रयोग में लाए जाते है। आइए जानते हैं, इस पौधे और इसके फूल में छिपे कई सेहतमंद गुणों के बारे में 
 
त्वचा का रखे ख्याल 
गोखरू पौधे के अर्क में एंटी.बैक्टीरियल और एंटी.इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं। ये गुण किसी भी इंसान की त्वचा को चमकदार बनाने के लिए काम आ सकते हैं। कई लोगों का यह मानना है कि इस पौधे की पत्तियों को चाय में डालकर सेवन करने से क्रीमी त्वचा की समस्या से बहुत जल्द लाभ मिलता है। इस पौधे में एंटी.वायरल गुण भी मौजूद होते हैं, जो त्वचा का ख्याल रखते हैं।
घाव और खुजली में देता है राहत
गोखरू का पौधा घाव और खुजली की समस्या के लिए एक बेस्ट उपाय हैं। गर्मियों के दिनों में शरीर में खुजली होना किसी भी व्यक्ति के लिए एक आम बात है। ऐसे में इस समस्या को दूर करने के लिए इस पौधे और इसके फूल का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस पौधे के फल और फूल में एंटी.इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है, जो किसी भी घाव को तुरंत भरने और खुजली को ठीक किया जा सकता है।
एक्जिमा में लाभकारी
एक्जिमा की वजह से जब स्किन पर खुजली होने लगती है तब गोखरू बड़ा काम आता है। एक्जिमा एक इंफ्लेमेटरी त्वचा समस्या की श्रेणी में आता है, जबकि गोखरू के फल में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है, जो एक्जिमा के खतरे को कम कर सकता है।
सीने के दर्द के लिए कारगर
कभी.कभी सीने में बार बार उठने वाला दर्द लोगों के लिए को काफी हद तक परेशानी का कारण साबित हो सकता है। ऐसे में इस समस्या का इलाज करने के लिए गोखरू का पौधा कारगर उपचार है। 
किडनी
गोखरू किडनी की बीमारी के लिए बहुत लाभकारी होता है। आयुर्वेद में इसे किडनी के लिए सफल औषधि माना गया है। गोखरू का काढ़ा पथरी के लिए किसी रामबाण दवा से कम नहीं है। फल के साथ इसके जड़ का भी सेवन किया जा सकता है।
पथरी
गुर्दे में पथरी की बीमारी के लिए भी गोखरू काफी फायदेमंद होता है। इसके फलों के चूर्ण को शहद में मिलाकर सुबह और शाम लेना चाहिए। इससे पथरी टूट.टूट कर शरीर से बहार निकल जाएगी। साथ ही इसके चूरण को दूध में उबालकर इसे मिश्री के साथ लें।
कैसे करें गोखरू का सेवन
गोखरू के पाउडर को पानी के साथ उबालकर पी सकते हैं।
गोखरू के अर्क का सेवन भी किया जा सकता है।
गोखरू का अर्क त्वचा पर इस्तेमाल किया जा सकता है।
गोखरु के तने से काढ़ा बनाकर, उसे पिया जा सकता है।
गोखरू के बीज को पानी में उबाल कर इसे छान कर रोजाना सुबह खाली पेट एक कप पीएं। रात को खाना खाने से एक घंटे पहले भी एक कप पीने में लाभ पहुंचाता है। इसे पीने के एक घंटे बाद ही कुछ खाना चाहिए।  इसके सेवन से आप किडनी में होने वाली पथरी से निजात पा सकते हैं। साथ ही यह डायलिसिस, किडनी ट्रांसप्लांट में फायदा करता है।
गोखरू का सेवन कब करें
गोखरू का सेवन सुबह और शाम को करना चाहिये। इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

यह भी पढ़े

होम मेड ड्रिंक्स से करें बाडी डिटाक्स